BREAKING NEWS

'भारत-अमेरिका के बीच सैन्य वार्ता सफल, BECA पर करेंगे साइन◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾तिरंगे पर महबूबा मुफ्ती के बयान से नाखुश पीडीपी के तीन नेताओं ने पार्टी से दिया इस्तीफा, NC ने भी किया किनारा◾स्ट्रीट वेण्डर आत्मनिर्भर निधि योजना के तहत प्रधानमंत्री कल UP के लाभार्थियों से करेंगे बात ◾साक्षी महाराज ने फिर दिया विवादित बयान, कहा- अनुपात के हिसाब से हो कब्रिस्तान और श्मशान◾राजनाथ सिंह ने अमेरिकी रक्षा मंत्री के साथ की वार्ता, रक्षा तथा सामरिक संबंधों पर हुई चर्चा ◾बिहार चुनाव : प्रचार के आखिरी दिन तेजस्वी पहुंचे हसनपुर, तेजप्रताप के लिए मांगे वोट ◾जेपी नड्डा ने चिराग पर साधा निशाना - कुछ लोग NDA में सेंध लगाना चाहते हैं, कर रहे है षड्यंत्र ◾भारत में कोविड-19 संबंधी मृत्युदर 1.50 प्रतिशत, 108 दिन बाद 500 से कम मौत हुई◾CM नीतीश ने महुआ में RJD पर बोला हमला - कुछ लोगों की भ्रमित करने और ठगने की आदत होती है◾दिल्ली की वायु गुणवत्ता 'बहुत खराब', पराली जलाए जाने से दिल्लीवासियों पर कहर बरपाएगा प्रदूषण◾SC ने कोर्ट की निगरानी में CBI जांच की मांग वाली दिशा सालियान केस की याचिका को किया खारिज◾जेपी नड्डा का RJD पर तंज- नौकरी छीनने वाले आज कर रहे हैं नौकरी देने की बात ◾अनुराग कश्यप पर बलात्कार का आरोप लगाने वाली अभिनेत्री पायल घोष अठावले की पार्टी में हुईं शामिल ◾IPL-13 : KXIP vs KKR, प्लेऑफ की दौड़ में पंजाब को बने रहने के लिए बनानी होगी जीत में निरंतरता ◾पंजाब में पीएम मोदी का पुतला जलाने पर भड़के नड्डा, कहा- राहुल गांधी निर्देशित है यह ड्रामा◾महबूबा के बयान के खिलाफ लाल चौक पर तिरंगा फहराने की कोशिश, हिरासत में लिए गए BJP कार्यकर्ता◾कृषि बिल पर राहुल गांधी की नसीहत- गुस्साए किसानों की बात सुनें पीएम मोदी◾बिहार चुनाव में आलू और प्याज की एंट्री, 60 घोटालों के आरोप में तेजस्वी ने CM नीतीश को घेरा ◾Bihar Election : एक बार फिर नीतीश के खिलाफ हुए चिराग, बोले- CM हो या कोई अधिकारी, जेल भेजा जाएगा◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

गजेंद्र सिंह शेखावत के खिलाफ जांच का विरोध करने वाली याचिका पर राजस्थान HC ने गहलोत सरकार से मांगा जवाब

राजस्थान हाई कोर्ट ने मंगलवार को राज्य सरकार से उस याचिका पर जवाब मांगा है जिसमें सहकारी समिति घोटाला मामले में केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और अन्य के खिलाफ जांच का निर्देश देने वाले निचली अदालत के आदेश को चुनौती दी गई है।

हाई कोर्ट ने हालांकि, निचली अदालत के आदेश पर रोक नहीं लगाई है। निचली अदालत ने विशेष अभियान समूह (एसओजी) को 884 करोड़ रुपये के संजीवनी क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी घोटाले के सिलसिले में शेखावत की भूमिका की जांच का आदेश दिया था। यह आदेश शेखावत से संबंधित बताए जाने वाले नवप्रभा बिल्डटेक प्राइवेट लिमिटेड के अंशधारक निदेशक केवल चंद डकालिया की याचिका पर दिया गया था।

वरिष्ठ अधिवक्ता महेश जेठमलानी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये मुंबई से याचिकाकर्ता की तरफ से मामले में जिरह की। उच्च न्यायालय ने प्रदेश सरकार से पांच अगस्त तक अपना जवाब देने को कहा है। शहर की एक एडीजे अदालत ने पिछले हफ्ते निर्देश दिया था कि संजीवनी क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी घोटाला मामले में रुपयों के लेन-देन की पड़ताल एसओजी द्वारा की जानी चाहिए।

अतिरिक्त जिला न्यायाधीश पवन कुमार ने 21 जुलाई को अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत को निर्देश दिया था कि वह घोटाले से संबंधित शिकायत एसओजी को भेजे। संजीवनी क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी घोटाले की शिकायत में शेखावत, उनकी पत्नी और अन्य लोगों का नाम है। इस घोटाले में हजारों निवेशकों के कथित तौर पर करीब 884 करोड़ रुपये डूब गये।

एसओजी की जयपुर शाखा बीते एक साल से मामले की जांच कर रही है। इस मामले में 23 अगस्त 2019 को एफआईआर दर्ज की गई थी। इस मामले के संबंध में एसओजी द्वारा दायर आरोप-पत्र में शेखावत का नाम आरोपियों में शामिल नहीं था। जांच में पाया गया कि रुपयों का लेन-देन नवप्रभा बिल्डटेक प्राइवेट लिमिटेड से संबंधित है।

बाद में एक मजिस्ट्रेट अदालत ने शेखावत का नाम आरोप-पत्र में शामिल किये जाने के अनुरोध को खारिज कर दिया था। आवेदक इसके बाद अतिरिक्त जिला न्यायाधीश की अदालत में गया, जिसने निर्देश दिया कि उनकी शिकायतों की भी जांच होनी चाहिए।

मजिस्ट्रेट की अदालत में दी गई शिकायत में शिकायतकर्ता गुलाम सिंह और लाबू सिंह ने दावा किया था कि एफआईआर में रुपयों के जिस लेन-देन का जिक्र है वो उन कंपनियों से जुड़ा है जिनका संबंध मंत्री से है। बाड़मेर में रहने वाले दोनों लोगों ने आरोप लगाया कि एसओजी ने लेकिन शेखावत या कंपनी की भूमिका की जांच नहीं की। शिकायतकर्ताओं का आरोप था कि एसओजी ने जानबूझ कर शेखावत और कुछ अन्य लोगों को बचाया जो आरोप-पत्र में शामिल नहीं थे।