BREAKING NEWS

खट्टर ने स्थानीय युवाओं को नौकरियों में 75 फीसदी आरक्षण देने वाला विधेयक न लाने के संकेत दिए ◾सबरीमला में श्रद्धालुओं की जबरदस्त भीड़, 2 महिलायें वापस भेजी गयी ◾जेएनयू छात्रसंघ पदाधिकारियों का दावा, एचआरडी मंत्रालय के अधिकारी ने दिया समिति से मुलाकात का आश्वासन ◾प्रियंका गांधी ने इलेक्टोरल बांड को लेकर मोदी सरकार पर साधा निशाना, ट्वीट कर कही ये बात ◾TOP 20 NEWS 18 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद पवार बोले- किसी के साथ सरकार बनाने पर चर्चा नहीं◾INX मीडिया धनशोधन मामला : चिदंबरम ने जमानत याचिका खारिज करने के आदेश को न्यायालय में दी चुनौती ◾मनमोहन सिंह ने कहा- राज्य की सीमाओं के पुनर्निधार्रण में राज्यसभा की अधिक भूमिका होनी चाहिए◾'खराब पानी' को लेकर पासवान का केजरीवाल पर पटलवार, कहा- सरकार इस मुद्दे पर राजनीति नहीं करना चाहती◾संसद का शीतकालीन सत्र : राज्यसभा के 250वें सत्र पर PM मोदी का संबोधन, कहा-इसमें शामिल होना मेरा सौभाग्य◾बीजेपी बताए कि उसे चुनावी बॉन्ड के जरिए कितने हजार करोड़ रुपये का चंदा मिला : कांग्रेस ◾CM केजरीवाल बोले- प्रदूषण का स्तर कम हुआ, अब Odd-Even योजना की कोई आवश्यकता नहीं है ◾महाराष्ट्र: शिवसेना संग गठबंधन पर शरद पवार का यू-टर्न, दिया ये बयान◾ JNU स्टूडेंट्स का संसद तक मार्च शुरू, छात्रों ने तोड़ा बैरिकेड, पुलिस की 10 कंपनियां तैनात◾शीतकालीन सत्र: NDA से अलग होते ही शिवसेना ने दिखाए तेवर, संसद में किसानों के मुद्दे पर किया प्रदर्शन◾शीतकालीन सत्र: चिदंबरम ने कांग्रेस से कहा- मोदी सरकार को अर्थव्यवस्था पर करें बेनकाब◾ PM मोदी ने शीतकालीन सत्र शुरू होने से पहले सभी दलों से सहयोग की उम्मीद जताई ◾संजय राउत ने ट्वीट कर BJP पर साधा निशाना, कहा- '...उसको अपने खुदा होने पर इतना यकीं था'◾देश के 47वें CJI बने जस्टिस बोबडे, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दिलाई शपथ◾राजस्थान के श्री डूंगरगढ़ के पास बस और ट्रक की भीषण टक्कर, 10 लोगों की मौत◾

राजस्‍थान

राजस्थान : एटीएम नंबर और ओटीपी की मदद से बैंक खातों से पैसे लूट रहे हैं ठग

जयपुर : साइबर ठगी यानी ऑनलाइन ठगी राजस्थान की पुलिस के लिए बड़ी चुनौती बन गयी है। कभी ओटीपी लेकर लोगों के खातों से पैसे उड़ाने वाले और कभी पेमेंट एप से चूना लगाने वाले इन ठगों ने अब सेना पर भरोसे की आड़ लेना शुरू कर दिया है। 

साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ जहां इसके लिए अज्ञानता व पुलिस के सीमित संसाधनों को जिम्मेदार मानते हैं वहीं सांसद रामचरण बोहरा का कहना है कि राज्य सरकार को ऐसे ठगों से निपटने के लिए कड़े कदम उठाने चाहिए। विशेषज्ञों के अनुसार, बड़ी चिंता की बात यह है कि अब ये ठग सेना पर लोगों के भरोसे को जरिया बना रहे हैं। हाल ही में कई ऐसे मामले सामने आए हैं जिनमें ठग खुद को सेना का जवान या कर्मचारी बताकर ईकामर्स वेबसाइट या सोशल मीडिया पर अपना सामान सस्ते में बेचने का विज्ञापन देते हैं। ये लोगों से सिक्योरिटी, बीमा और जीएसटी के नाम पर लोगों से पैसा ऐंठ लेते हैं। 

साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ मुकेश चौधरी कहते हैं, ‘‘राजस्थान में संगठित साइबर क्राइम पहले नहीं होते थे लेकिन अब शुरू हो गए हैं। अलवर भरतपुर वाला बेल्ट इस तरह के अपराधों का गढ़ बन गया है।’’ ऐसी ठगी के तरीके के बारे में उन्होंने कहा, ‘‘ठग किसी भी सैन्यकर्मी के आईडी से ईकामर्स साइट पर विज्ञापन देते हैं कि यह चीज बेचनी है और इच्छुक ग्राहक से अग्रिम भुगतान के तौर पर 40 या 50 प्रतिशत पैसा ले लेते हैं। सामने वाला सोचता है कि सैन्य कर्मी है तो वह अग्रिम भुगतान दे कर ठगा जाता है।’’ 

उल्लेखनीय है कि एटीएम से जुड़ी जानकारी व ओटीपी आदि हासिल कर लोगों के बैंक खातों से पैसे उड़ाना प्रदेश में आम हो गया है। एक मीडिया रपट के अनुसार ठगों ने बीते डेढ साल में लोगों के खातों से 36 करोड़ रुपये निकाल लिए। हर रोज ऐसे एक दो मामले सामने आ रहे हैं। जयपुर के सांसद रामचरण बोहरा ने इस मामले को इस सप्ताह लोकसभा में भी उठाया। बोहरा ने भाषा से कहा ‘‘इस तरह की ठगी चिंताजनक है। राज्य सरकार को इस ओर गंभीरता से ध्यान देना चाहिए और विशेष अभियान चलाना चाहिए ताकि भोले भाले या पढे़ लिखे लोग भी इस ठगी के शिकार नहीं हों।’’ 

राजस्थान पुलिस के एक आला अधिकारी ने कहा ‘‘ऑनलाइन ठगी कई तरह से हो रही है। एक तरीका तो एटीएम का ब्यौरा व ओटीपी हासिल कर खाते से पैसे निकालने का है। दूसरा तरीका यह है कि विभिन्न पेमेंट एप के जरिए ठगी होती है। इसके अलावा ई कामर्स वेबसाइट के जरिए सामान बेचने के नाम पर ठगी की जाती है। पुलिस अपने स्तर पर काम करती है लेकिन लोगों को जागरुक होने की भी जरूरत है।’’ साइबर विशेषज्ञ भी मानते हैं कि ऐसी ठगी से केवल पुलिस के भरोसे नहीं निपटा जा सकता बल्कि लोगों की जागरुकता भी बहुत जरूरी है। 

साइबर क्राइम अवेयरनेस सोसायटी के संस्थापक मिलिंद अग्रवाल कहते हैं ‘‘ऐसी ठगी या अपराध की बड़ी वजह अज्ञानता या जागरुकता का अभाव है। दस प्रतिशत लोग भी साइबर ठगी और अपराधों के बारे में नहीं जानते। ऐसे में जरूरी है कि लोगों को बताया जाए कि वे ओटीपी वगैरह शेयर नहीं करें, सोशल मीडिया पर अनजान लोगों को न जोड़ें। पेमेंट वाले मोबाइल एप के इस्तेमाल में विशेष सावधानी बरतें।’’