BREAKING NEWS

दुनिया में कोरोना से संक्रमितों का आंकड़ा 57 लाख के करीब, अब तक 3 लाख 55 हजार से अधिक की मौत ◾मौसम खराब होने की वजह से Nasa और SpaceX का ऐतिहासिक एस्ट्रोनॉट लॉन्च टला◾कोविड-19 : देश में महामारी से अब तक 4500 से अधिक लोगों की मौत, संक्रमितों की संख्या 1 लाख 58 हजार के पार ◾मुंबई के फॉर्च्यून होटल में लगी आग, 25 डॉक्टरों को बचाया गया ◾अमेरिका में कोरोना मरीजों के आंकड़ों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, मरने वालों की संख्या 1 लाख के पार ◾गुजरात में कोरोना के 376 नये मामले सामने आये, संक्रमितों की संख्या बढ़कर 15205 हुई ◾पड़ोसी देश नेपाल की राजनीतिक हालात पर बारीकी से नजर रख रहा है भारत◾कोरोना वायरस : आर्थिक संकट के बीच पंजाब सरकार ने केंद्र से मांगी 51,102 करोड रुपये की राजकोषीय सहायता◾चीन, भारत को अपने मतभेद बातचीत के जरिये सुलझाने चाहिए : चीनी राजदूत◾महाराष्ट्र : 24 घंटे में कोरोना से 105 लोगों की गई जान, मरीजों की संख्या 57 हजार के करीब◾उत्तर - मध्य भारत में भयंकर गर्मी का प्रकोप , लगातार दूसरे दिन दिल्ली में पारा 47 डिग्री के पार◾नक्शा विवाद में नेपाल ने अपने कदम पीछे खींचे, भारत के हिस्सों को नक्शे में दिखाने का प्रस्ताव वापस◾भारत-चीन के बीच सीमा विवाद पर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने की मध्यस्थता की पेशकश◾चीन के साथ तनातनी पर रविशंकर प्रसाद बोले - नरेंद्र मोदी के भारत को कोई भी आंख नहीं दिखा सकता◾LAC पर भारत के साथ तनातनी के बीच चीन का बड़ा बयान , कहा - हालात ‘‘पूरी तरह स्थिर और नियंत्रण-योग्य’’ ◾बीते 24 घंटों में दिल्ली में कोरोना के 792 नए मामले आए सामने, अब तक कुल 303 लोगों की मौत ◾प्रियंका ने CM योगी से किया सवाल, क्या मजदूरों को बंधुआ बनाना चाहती है सरकार?◾राहुल के 'लॉकडाउन' को विफल बताने वाले आरोपों को केंद्रीय मंत्री रविशंकर ने बताया झूठ◾वायुसेना में शामिल हुई लड़ाकू विमान तेजस की दूसरी स्क्वाड्रन, इजरायल की मिसाइल से है लैस◾केन्द्र और महाराष्ट्र सरकार के विवाद में पिस रहे लाखों प्रवासी श्रमिक : मायावती ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

राजस्थान : एटीएम नंबर और ओटीपी की मदद से बैंक खातों से पैसे लूट रहे हैं ठग

जयपुर : साइबर ठगी यानी ऑनलाइन ठगी राजस्थान की पुलिस के लिए बड़ी चुनौती बन गयी है। कभी ओटीपी लेकर लोगों के खातों से पैसे उड़ाने वाले और कभी पेमेंट एप से चूना लगाने वाले इन ठगों ने अब सेना पर भरोसे की आड़ लेना शुरू कर दिया है। 

साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ जहां इसके लिए अज्ञानता व पुलिस के सीमित संसाधनों को जिम्मेदार मानते हैं वहीं सांसद रामचरण बोहरा का कहना है कि राज्य सरकार को ऐसे ठगों से निपटने के लिए कड़े कदम उठाने चाहिए। विशेषज्ञों के अनुसार, बड़ी चिंता की बात यह है कि अब ये ठग सेना पर लोगों के भरोसे को जरिया बना रहे हैं। हाल ही में कई ऐसे मामले सामने आए हैं जिनमें ठग खुद को सेना का जवान या कर्मचारी बताकर ईकामर्स वेबसाइट या सोशल मीडिया पर अपना सामान सस्ते में बेचने का विज्ञापन देते हैं। ये लोगों से सिक्योरिटी, बीमा और जीएसटी के नाम पर लोगों से पैसा ऐंठ लेते हैं। 

साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ मुकेश चौधरी कहते हैं, ‘‘राजस्थान में संगठित साइबर क्राइम पहले नहीं होते थे लेकिन अब शुरू हो गए हैं। अलवर भरतपुर वाला बेल्ट इस तरह के अपराधों का गढ़ बन गया है।’’ ऐसी ठगी के तरीके के बारे में उन्होंने कहा, ‘‘ठग किसी भी सैन्यकर्मी के आईडी से ईकामर्स साइट पर विज्ञापन देते हैं कि यह चीज बेचनी है और इच्छुक ग्राहक से अग्रिम भुगतान के तौर पर 40 या 50 प्रतिशत पैसा ले लेते हैं। सामने वाला सोचता है कि सैन्य कर्मी है तो वह अग्रिम भुगतान दे कर ठगा जाता है।’’ 

उल्लेखनीय है कि एटीएम से जुड़ी जानकारी व ओटीपी आदि हासिल कर लोगों के बैंक खातों से पैसे उड़ाना प्रदेश में आम हो गया है। एक मीडिया रपट के अनुसार ठगों ने बीते डेढ साल में लोगों के खातों से 36 करोड़ रुपये निकाल लिए। हर रोज ऐसे एक दो मामले सामने आ रहे हैं। जयपुर के सांसद रामचरण बोहरा ने इस मामले को इस सप्ताह लोकसभा में भी उठाया। बोहरा ने भाषा से कहा ‘‘इस तरह की ठगी चिंताजनक है। राज्य सरकार को इस ओर गंभीरता से ध्यान देना चाहिए और विशेष अभियान चलाना चाहिए ताकि भोले भाले या पढे़ लिखे लोग भी इस ठगी के शिकार नहीं हों।’’ 

राजस्थान पुलिस के एक आला अधिकारी ने कहा ‘‘ऑनलाइन ठगी कई तरह से हो रही है। एक तरीका तो एटीएम का ब्यौरा व ओटीपी हासिल कर खाते से पैसे निकालने का है। दूसरा तरीका यह है कि विभिन्न पेमेंट एप के जरिए ठगी होती है। इसके अलावा ई कामर्स वेबसाइट के जरिए सामान बेचने के नाम पर ठगी की जाती है। पुलिस अपने स्तर पर काम करती है लेकिन लोगों को जागरुक होने की भी जरूरत है।’’ साइबर विशेषज्ञ भी मानते हैं कि ऐसी ठगी से केवल पुलिस के भरोसे नहीं निपटा जा सकता बल्कि लोगों की जागरुकता भी बहुत जरूरी है। 

साइबर क्राइम अवेयरनेस सोसायटी के संस्थापक मिलिंद अग्रवाल कहते हैं ‘‘ऐसी ठगी या अपराध की बड़ी वजह अज्ञानता या जागरुकता का अभाव है। दस प्रतिशत लोग भी साइबर ठगी और अपराधों के बारे में नहीं जानते। ऐसे में जरूरी है कि लोगों को बताया जाए कि वे ओटीपी वगैरह शेयर नहीं करें, सोशल मीडिया पर अनजान लोगों को न जोड़ें। पेमेंट वाले मोबाइल एप के इस्तेमाल में विशेष सावधानी बरतें।’’