BREAKING NEWS

अमेरिका के 57 सांसदों ने जो बाइडन को लिखा पत्र : भारत को दी जाने वाली कोरोना सहायता बढ़ाने का किया अनुरोध ◾दिल्ली में 18+ उम्र के लोगों के लिए कोवैक्सीन वाले सेंटर बंद, महाराष्ट्र में भी रोका गया टीकाकरण अभियान ◾आज का राशिफल (13 मई 2021)◾जयशंकर ने कुवैत, सऊदी अरब के विदेश मंत्रियों से बात की◾भारत ने इजराइल-गाजा हिंसा में तत्काल कमी लाने की आवश्यकता पर बल दिया◾CM हेमंत ने 27 मई तक बढ़ाया झारखंड में लॉकडाउन, अगले आदेश तक राज्य में बस सेवा बंद◾अगले 3-4 दिनों में भारत के कई हिस्सों में बारिश और तूफान की संभावना◾विदेश से वैक्सीन मंगवाएगी राजस्थान सरकार, ग्लोबल टेंडर पर CM अशोक गहलोत ने लगाई मुहर◾धर्मगुरूओं की अपील , ईद में करें कोविड प्रोटोकाल का पालन◾इजराइल, हमास के बीच तेज हुई लड़ाई ने 2014 के गाजा युद्ध की दिलाई याद, सर्वोच्च कमांडर मारा गया ◾प्रधानमंत्री मोदी ने हाई लेवल बैठक में ऑक्सीजन, दवाओं की उपलब्धता, आपूर्ति की समीक्षा की◾महाराष्ट्र में सामने आये कोरोना के 46 हजार से अधिक नए मामले, 816 मरीजों ने तोडा दम ◾अगस्त तक हर महीने सीरम इंस्टीट्यूट का 10 करोड़ खुराकें, भारत बायोटेक का 7.8 खुराकें बनाने का वादा◾ममता और धनकड़ के बीच फिर ठनी, CM ने गवर्नर के हिंसा प्रभावित क्षेत्र के दौरे को बताया नियमों का उल्लंघन◾शुक्रवार को मनाया जायेगा ईद-उल-फितर का त्यौहार, बृहस्पतिवार को होगा आखिरी रोजा◾कोरोना के बी.1.617 वैरिएंट को भारतीय वैरिएंट कहने पर सरकार ने जताई आपत्ति, कहा- WHO ने ऐसा नहीं कहा◾राहुल गांधी का केंद्र पर तंज, कहा- संक्रमण की गंभीर स्थिति में जिनकी जवाबदेही है वो छिपे बैठे हैं◾विपक्षी नेताओं ने PM को लिखा पत्र: सभी स्रोतों से खरीदा जाए टीका, हर नागरिक का मुफ्त हो टीकाकरण ◾ममता का मोदी को पत्र, कहा- सरकार कोविड रोधी टीकों के विनिर्माण के लिए जमीन और मदद उपलब्ध कराने को तैयार◾दिल्ली में कोरोना के 13,287 नए मामले सामने आए, 300 लोगों की मौत, संक्रमण दर में गिरावट जारी◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

सचिन पायलट बोले-कृषि कानूनों पर जिद छोड़े सरकार, किसानों का सम्मान सर्वोपरि

कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार लगातार विपक्ष के वार झेल रही है। मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार को किसान विरोधी बताते हुए केंद्र द्वारा लाए गए कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग कर रही है।राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने किसानों के मान-सम्मान को सर्वो‍परि बताते हुए रविवार को कहा कि केंद्र सरकार को ‘‘जिद और जबरदस्ती‍ से पारित कराये गए’’ अपने केंद्रीय कृषि कानूनों को तत्काल वापस लेना चाहिए।

पायलट ने 26 जनवरी को नई दिल्ली में ‘ट्रैक्टर परेड’ के दौरान हुई हिंसक घटनाओं की निष्पक्ष जांच कराने की भी मांग की है ताकि असली दोषियों का पता चल सके। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार किस दबाव में यह कानून लाई और किस मजबूरी में वह इन्हें वापस नहीं ले रही है, इसे लेकर बड़े सवाल उठने लगे हैं। 

उन्होंने कहा, ‘‘पहले तो केंद्र सरकार ने अपनी जिद और जबरदस्ती से, लोकतांत्रिक परंपराओं को ताक पर रखकर ये कानून पारित कराये। जिन किसानों के कथित भले के लिए ये कानून लाए गए, वे खुद इसके विरोध में दो महीने से आक्रोशित और आंदोलनत हैं तो सरकार इन्हें वापस क्यों नहीं ले रही है। केन्द्र इन कानूनों को तुंरत वापस ले।’’ 

पायलट ने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि लगभग दो महीनों से सड़कों पर बैठे देश के अन्नदाता, किसानों का मान-सम्मान सर्वोपरि है और अगर वे खुद मानते हैं कि ये कानून उसके हित में नहीं हैं तो इन्हें वापस लेना उचित मांग है और सरकार को अपनी जिद तथा अडियल रवैया छोड़कर इन कानूनों को वापस लेना चाहिए।’’ 

उन्होंने कहा कि इतने बड़े आंदोलन के बावजूद सरकार द्वारा इन कानूनों को वापस नहीं लिया जाना उसकी मंशा पर सवालिया निशान खड़ा करता है। उन्होंने कहा, ‘‘पहली बात तो किसी किसान ने ये कानून बनाने की मांग नहीं की थी। केंद्र सरकार ने किसी किसान संगठन या राज्य सरकार से चर्चा और सलाह किए बिना कानून बना दिए और अब इन कानूनों को वापस नहीं लेने पर अड़ी है।’’ 

पायलट ने कहा, ‘‘चूंकि आपने कानून बना दिए लेकिन जब अब इतना बड़ा विरोध हो रहा है तो केंद्र सरकार को इन्हें वापस लेने से कौन रोक रहा है। उसकी क्या मजबूरी या विवशता है कि केन्द्र सरकार इन्हें वापस नहीं ले पा रही है, सवाल यह उठता है।’’ उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है कि पहले किसी सरकार ने कोई कानून वापस नहीं लिया या आगे ऐसा नहीं होगा लेकिन इस मौजूदा केंद्र सरकार के रवैये से सवाल उठने लगे हैं। 

पायलट ने 26 जनवरी को नयी दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसक घटनाओं की निष्पक्ष जांच कराने की मांग की। उन्होंने कहा, ‘‘गणतंत्र दिवस को जो घटनाक्रम सामने आया उसकी निष्पक्ष और गहराई से जांच होनी चाहिए। जो भी व्यक्ति कानून का उल्लंघन करता है या देश के मान-सम्मान को ठेस पहुंचाता है या‍ तिरंगे का अपमान करता है, उसके खिलाफ निश्चित रूप से कानून के तहत कार्रवाई होनी चाहिए।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन जो आरोप किसान संगठन लगा रहे हैं कि यह सब साजिशपूर्ण तरीके से आंदोलन को बदनाम करने के लिए किया गया, उसकी भी निष्प्क्ष जांच होनी चाहिए।’’ आंदोलनरत किसानों के लिए ‘अलगाववादी और नक्सलवादी’ जैसे शब्दों का इस्तेमाल किए जाने की आलोचना करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘हमारा तिरंगा हमारे देश, हमारे पुलिसकर्मी सैनिक सबके लिए सम्मानजनक है और उससे कोई समझौता नहीं हो सकता। लेकिन किसान हमारे अन्नदाता हैं, वे पूरे देश का पेट पालते हैं तो इन्हें अलगाववादी, नक्सलवादी कहना और उन के खिलाफ तरह-तरह के आरोप लगाना गलत है।’’ 

इस आंदोलन को लेकर केंद्र सरकार के रवैये की निंदा करते हुए पायलट ने कहा, ‘‘शुरू से ही उसका रवैया किसानों को बरगलाने वाला रहा है जबकि लोकतंत्र का मूल मंत्र यही है कि सबकी सुनो, संवाद करो तथा संयम एवं साझेदारी से सबको साथ लेकर चलो।’’ उन्होंने कहा कि किसानों के इस आंदोलन का देश के राजनीतिक और सामाजिक परिदृश्य पर लंबे समय तक असर होगा।