BREAKING NEWS

अमेरिकी राष्ट्रपति के बयान पर भारत ने दी प्रतिक्रिया, कहा- सीमा विवाद को लेकर मोदी और ट्रंप के बीच नहीं हुई बातचीत◾World Corona : दुनिया में महामारी का प्रकोप बरकरार, पॉजिटिव मामलों का आंकड़ा 58 लाख के पार◾देश में कोरोना से संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 66 हजार के करीब, अब तक 4706 लोगों ने गंवाई जान ◾चीन के साथ सीमा विवाद को लेकर ‘अच्छे मूड’ में नहीं हैं PM मोदी : डोनाल्ड ट्रम्प◾लॉकडाउन 5.0 पर गृह मंत्री अमित शाह ने सभी मुख्यमंत्रियों से की बात, मांगे सुझाव ◾दिल्ली में कोरोना ने तोड़ा रिकॉर्ड, 24 घंटे में 1024 नए मामले, संक्रमितों संख्या 16 हजार के पार◾सीताराम येचुरी ने मोदी सरकार पर साधा, कहा- रेलगाड़ियों का रास्ता भटकना सरकार के अच्छे दिन का ‘जादू’ ◾ट्रंप की पेशकश पर भारत ने कहा- मध्यस्थता की जरूरत नहीं, सीमा विवाद के समाधान के लिए चीन से चल रही है बातचीत◾अलग जगहों पर रखे जाएं विदेशी जमाती, दिल्ली HC ने कहा- खुद उठाएंगे अपना खर्चा◾कोविड-19 की वैक्सीन बनाने में जुटे देश के 30 ग्रुप : पीएसए राघवन◾मोदी सरकार के खिलाफ कांग्रेस ने ऑनलाइन आंदोलन किया, केंद्र से गरीबों की मदद की मांग की◾SC का केंद्र और राज्य सरकारों को निर्देश, तत्काल श्रमिकों के भोजन और ठहरने की करें नि:शुल्क व्यवस्था◾महाराष्ट्र में कोरोना की चपेट में 2000 से अधिक पुलिसकर्मी, महामारी से अब तक 22 की मौत◾कोरोना संकट से जूझ रही महाराष्ट्र की सरकार को गिराने की कोशिश कर रही है BJP : प्रियंका गांधी ◾पुलवामा जैसे हमले को अंजाम देने की फिराक में आतंकी, IG ने बताया किस तरह नाकाम हुई साजिश◾दिल्ली-गाजियाबाद बार्डर पर फिर लगी वाहनों की लाइनें, भीड़ में 'पास-धारक' भी बहा रहे पसीना ◾राहुल गांधी की मांग- देश को कर्ज नहीं बल्कि वित्तीय मदद की जरूरत, गरीबों के खाते में पैसे डाले सरकार◾RBI बॉन्ड को वापस लेना नागरिकों के लिए झटका, जनता केंद्र से तत्काल बहाल करने की करें मांग : चिदंबरम◾‘स्पीकअप इंडिया’ अभियान में बोलीं सोनिया- संकट के इस समय में केंद्र को गरीबों के दर्द का अहसास नहीं◾पुलवामा में हमले की बड़ी साजिश को सुरक्षाबलों ने किया नाकाम, विस्फोटक से लदी गाड़ी लेकर जा रहे थे आतंकी◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

सीएए पर बोले शशि थरूर- भारत में जिन्ना के विचारों की जीत हो रही है

वरिष्ठ कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा कि अगर संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) का रास्ता राष्ट्रीय जनसंख्या पंजी (एनपीआर) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) की तरफ जाता है तो यह पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की पूरी तरह से जीत होगी। उन्होंने कहा कि सीएए की वजह से देश की अवधारणा को लेकर जिन्ना के विचार भारत में पहले ही जीत रहे हैं लेकिन अब भी विकल्प उपलब्ध है। 

थरूर ने रविवार को जयपुर साहित्य महोत्सव (जेएलएफ) से इतर कहा, ‘‘ मैं यह नहीं कहूंगा कि जिन्ना जीत चुके हैं, बल्कि यह कहूंगा कि जिन्ना जीत रहे हैं। अब भी देश के पास जिन्ना और गांधी के देश के विचार में से किसी एक को चुनने का विकल्प है।’’ देश भर में व्यापक विरोध प्रदर्शनों के बीच सीएए दिसंबर में लागू हो गया। 

तिरुवनंतपुरम से कांग्रेस के सांसद शशि थरूर ने कहा कि सीएए में किसी भी धर्म को राष्ट्रीयता का आधार बनाने का जिन्ना का तर्क अपनाया गया है, वहीं गांधी का विचार यह था कि सभी धर्म बराबर हैं। उन्होंने कहा, ‘‘ सीएए पर आप कह सकते हैं कि एक कदम जिन्ना की ओर ले जाएगा। लेकिन अगला कदम अगर एनपीआर और एनआरसी होगा तो आप यह मान लें कि पूरी तरह जिन्ना की जीत हो गई।’’ 

थरूर ने कहा, ‘‘ पहले कभी यह नहीं पूछा गया कि आपके माता-पिता का जन्म कहां हुआ था। आंकड़े जमा करने वाले कर्मचारियों को कभी ‘संदिग्ध नागरिकता’ वाले सवाल करने की अनुमति नहीं थी। ‘संदिग्ध नागरिकता’ शब्दावली का इस्तेमाल एनपीआर में है और यह पूरी तरह से भाजपा की खोज है।’’ उन्होंने कहा कि अगर देश में उस कर्मचारी की तरह घूमें जो सभी नागरिकों का साक्षात्कार करता है या ‘संदिग्ध नागरिकता’ वाले लोगों की पहचान करता है तो इसके लिए आश्वस्त रहना चाहिए कि कौन से भारतीय ‘संदिग्ध नागरिकता’ के दायरे में आने जा रहे हैं। 

थरूर ने कहा, ‘‘ सैद्धांतिक तौर पर सिर्फ एक ही समुदाय होगा जो सीएए में नहीं है और अगर ऐसा होता है तो यह वास्तव में जिन्ना की जीत है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ वह (जिन्ना) जहां भी होंगे, वह इधर इशारा कर कहेंगे कि देखो मैं 1940 में सही था। हम अलग देश हैं और मुस्लिमों को अपना ही देश चाहिए क्योंकि हिंदू उनके साथ न्याय नहीं कर सकते।’’ 

वहीं दिल्ली विधानसभा चुनाव के बारे में उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में ज्यादातर विकास कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में हुआ है। उन्होंने कहा, ‘‘ शीला दीक्षित ने दिल्ली की मुख्यमंत्री के पद पर 15 साल रहते हुए जो काम किया, वह कोई भी नेता न तो उनसे पहले कर पाया और न ही बाद में कर सकता है।’’