BREAKING NEWS

कृषि कानून रद्द करवाने पर अड़े अन्नदाता, किसान संगठनों का फैसला, 8 मई को करेंगे लॉकडाउन का विरोध◾शोपियां सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ के दौरान 3 आतंकवादियों को मार गिराया, एक ने किया आत्मसमर्पण◾आज का राशिफल ( 06 मई 2021)◾चार देशों से 11 ऑक्सीजन कंटेनर, 350 ऑक्सीजन सिलेंडर ला रही है वायुसेना ◾भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने दिया विवादित बयान, ममता बनर्जी को बताया ताड़का ◾जयशंकर डिजिटल तरीके से जी7 की बैठक में शामिल, कहा कोविड के खिलाफ जंग में भूमिका निभाएगा भारत ◾महाराष्ट्र में संक्रमण से 920 मरीजों की मौत, 57640 नए केस ◾संक्रमण के मामलों में आ रही है गिरावट पर बोले चिदंबरम- कोरोना की जांच की संख्या हुई कम◾कोरोना संकट : भारतीय नौसेना ने विदेशों से ऑक्सीजन और चिकित्सा आपूर्ति लाने के लिए नौ युद्धपोत तैनात किए◾कोरोना के मामलों में गिरावट के बावजूद लापरवाही न करें, हम तीसरी लहर के लिये कर रहे है तैयारी : CM ठाकरे◾तमिलनाडु : राज्यपाल पुरोहित ने डीएमके अध्यक्ष एमके स्टालिन को मुख्यमंत्री के रूप में किया नियुक्त◾दिल्ली में कब तक जारी रहे लॉकडाउन, CM केजरीवाल बोले - जनता खुद देख रही है कि मुसीबत कितनी बड़ी है◾गृह मंत्रालय ने ममता सरकार से हिंसा पर मांगी रिपोर्ट, कहा - नहीं भेजने पर गंभीरता से लिया जाएगा एक्शन ◾बंगाल में एक लाख लोगों ने हिंसा के डर से छोड़ा घर, खून से सने है ममता बनर्जी के हाथ : जे पी नड्डा ◾कोविड-19 : उत्तर प्रदेश में 24 घंटों में संक्रमण के 31,165 नए मामले सामने आए, 357 संक्रमितो की मौत ◾कोविड-19 मरीजों का अब होगा एंटीबॉडी कॉकटेल से इलाज, भारत में इस्तेमाल के लिए मिली मंजूरी◾SC ने मुंबई के ऑक्सीजन प्रबंधन की तारीफ करते हुए केंद्र और दिल्ली सरकार से कहा - BMC से लें सीख ◾कोरोना संकटकाल में कोई भी गरीब बिना राशन के नहीं रहेगा : CM शिवराज◾केरल में कोरोना के 41 हजार से अधिक नए मामले की पुष्टि, संक्रमण से 58 की मौत◾सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार की चेतावनी, देश में कोरोना की तीसरी लहर भी आएगी ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

आयुर्वेद के परंपरागत ज्ञान का हिंदी में आधुनिकीकरण किया जाना बेहद जरूरी : कलराज मिश्र

राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने चरक संहिता, सुश्रुत संहिता और कश्यप संहिता में उपलब्ध आयुर्वेद ज्ञान के आधुनिकीकरण के प्रयास किये जाने पर जोर देते हुए हिंदी में इस ज्ञान के प्रसार की आवश्यकता जताई है। उन्होंने कहा कि आयुर्वेद में शल्य चिकित्सा, हृदय रोगों तथा शरीर की समस्त बीमारियों के उपचार का महत्वपूर्ण उल्लेख है।आधुनिक सन्दर्भों में इसके मर्म में जाने की जरूरत है। 

मिश्र मंगलवार को सर्वपल्ली राधाकृष्णन राजस्थान आयुर्वेद विश्वविद्यालय जोधपुर के चौथे दीक्षान्त समारोह को ऑनलाइन संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी की कठिन परिस्थितियों में परंपरागत भारतीय जीवनशैली और आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति ने बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है। उन्होंने कहा कि समाज के ऐसे लोग जो महंगी चिकित्सा प्राप्त करने में सक्षम नहीं हैं, आयुर्वेद के तहत उन्हें अधिकाधिक लाभान्वित किये जाने की आवश्यकता है। 

उन्होंने कहा कि अनेक देशों में आयुर्वेद की जड़ी-बूटियों पर इस समय महत्वपूर्ण शोध हो रहा है। कैंसर, डायबिटीज जैसी जटिल बीमारियों में यह कारगर पायी गयी है और विश्व स्वास्थ्य संगठन का भी ध्यान आयुष पद्धतियों पर पिछले कुछ समय के दौरान विशेष रूप से आकृष्ट हुआ है। उन्होंने सुझाव दिया कि आयुर्वेद की पंचकर्म, क्षारकर्म, स्वर्ण प्राशन, योग इत्यादि विधाओं को आधुनिक रूप में विकसित करने तथा नई औषधियों के अनुसंधान व परीक्षण के लिए सुनियोजित रणनीति के तहत कार्य किया जाए।