जयपुर में एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी)ने एक लेडी सब इंस्पेक्टर को रंगे हाथों 5 लाख रुपए की घूस लेते हुए गिरफ्तार किया गया है। लेडी सब इंस्पेक्टर जयपुर के शिप्रापथ थाने में तैनात थी। इस पूरे मामले में एसीबी टीम ने आरोपी महिला सब इंस्पेक्टर बबीता के पति अमरदीप को भी गिरफ्तार किया है। इंस्पेक्टर बबीता ने एक बिजनेसमैन से 50 लाख रुपए की घूस मांगी थी और 45 लाख रुपए में सौदा तय हुआ था। जयपुर पुलिस की इस घूसखोर सब-इंस्पेक्टर द्वारा परिवादी के खिलाफ मुकदमा दर्ज नहीं करने की एवज में रिश्वत मांगी गई थी। आरोपी महिला सब इंस्पेक्टर बबीता का पति पेशे से हाईकोर्ट में वकील बताया जा रहा है।

दरअसल परिवादी अपनी ऑनलाइन कम्पनी के जरिए सर्विस प्रोवाइडर का काम करता है। बीच में कुछ समय इस कम्पनी द्वारा बिटकॉइन के रूप में अपना पेमेन्ट लिया गया था। जिसकी रिकॉर्डिंग किसी तरह सब-इंस्पेक्टर बबीता के हाथ लग गई। यह रिकॉर्डिंग हाथ लगने के बाद बबीता परिवादी को ब्लैकमेल करने लगी और घूस नहीं देने पर मुकदमा दर्ज करने की धमकी दी जाने लगी। कम्पनी द्वारा बिटकॉइन के रूप में लिए गए पेमेन्ट के सम्बन्ध में थाने में कोई मुकदमा या रिपोर्ट दर्ज नहीं है और बबीता अपने ही स्तर पर घूस लेकर इस मामले को रफा-दफा करना चाह रही थी।

थाने के ही सामने स्थित एक रेस्टोरेन्ट पर घूस की रकम लेने के लिए परिवादी को बुलाया गया था। एसीबी के महानिरीक्षक सचिन मित्तल के निर्देशन में एसीबी की जयपुर देहात टीम द्वारा इस बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया गया। एसीबी कुछ समय पहले शिप्रा पथ थाने में ही गीता नाम की एक सब-इंस्पेक्टर को घूस लेते ट्रैप कर चुकी है और अब बबीता को घूस लेते ट्रैप किया गया है। बबीता की उम्र अभी ज्यादा नहीं है और नौकरी करते भी उसे ज्यादा अरसा नहीं बीता है लेकिन घूसखोरी में वह बड़ा कारनामा करने जा रही थी। फिलहाल एसीबी की टीम आरोपी महिला सब इंस्पेक्टर बबीता और उसके पति से पूछताछ में जुटी हुई है।