BREAKING NEWS

करनाल से बीजेपी के पूर्व सांसद और वरिष्ठ पत्रकार अश्विनी कुमार चोपड़ा का निधन, कैंसर से थे पीड़ित◾कमलनाथ सरकार के खिलाफ धरने पर बैठे MLA मुन्नालाल गोयल, घोषणा पत्र में किए गए वादों को पूरा नहीं करने का लगाया आरोप ◾नवाब मलिक बोले- अगर भागवत जबरदस्ती पुरुष की नसबंदी कराना चाहते हैं तो मोदी जी ऐसा कानून बनाए◾संजय राउत ने सावरकर को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना, बोले- विरोध करने वालों को भेजो जेल, तब सावरकर को समझेंगे'◾दोषियों को माफ करने की इंदिरा जयसिंह की अपील पर भड़कीं निर्भया की मां, बोलीं- ऐसे ही लोगों की वजह से बच जाते हैं बलात्कारी◾पाकिस्‍तान: सुप्रीम कोर्ट ने देशद्रोह मामले में फैसले के खिलाफ मुशर्रफ की याचिका पर सुनवाई से किया इनकार ◾सीएए और एनआरसी के खिलाफ लखनऊ में महिलाओं का प्रदर्शन जारी◾NIA ने संभाली आतंकियों के साथ पकड़े गए DSP दविंदर सिंह मामले की जांच की जिम्मेदारी◾वकील इंदिरा जयसिंह की निर्भया की मां से अपील, बोलीं- सोनिया गांधी की तरह दोषियों को माफ कर दें◾ट्रंप ने ईरान के 'सुप्रीम लीडर' को दी संभल कर बात करने की नसीहत◾ राजधानी में छाया कोहरा, दिल्ली आने वाली 20 ट्रेनें 2 से 5 घंटे तक लेट◾निर्भया : घटना के दिन नाबालिग होने का दावा करते हुए पवन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट◾PM मोदी ने मंत्रियों से कहा, कश्मीर में विकास का संदेश फैलाएं और गांवों का दौरा करें ◾भाजपा ने अब तक 8 पूर्वांचलियों पर लगाया दांव◾यूरोपीय संघ के उच्च प्रतिनिधि ने PM मोदी से भेंट की◾दिल्ली पुलिस आयुक्त को NSA के तहत मिला किसी को भी हिरासत में लेने का अधिकार◾न्यायालय से संपर्क करने से पहले राज्यपाल को सूचित करने की कोई जरूरत नहीं : येचुरी◾ममता ने एनपीआर,जनसंख्या पर केन्द्र की बैठक में नहीं लिया भाग◾सिंध में हिंदू समुदाय की लड़कियों के अपहरण को लेकर भारत ने पाक अधिकारी को किया तलब◾नड्डा का 20 जनवरी को निर्विरोध भाजपा अध्यक्ष चुना जाना तय◾

श्राद्घ में पंडित से नहीं करा सकते हैं पूजा तो पितरों के लिए खुद से करें ये जरूरी काम

पितरों की आत्मा की शांति  के पितृ पक्ष पर तर्पण का काम किया जाता है। ऐसा करने से मृतक की आत्मा तृप्त होती है। इससे परिवार पर पूर्वजों का आशीर्वाद बना रहता है। वैसे तो श्राद्घ पक्ष में पंडितों से पूजा करावाई जाती है। लेकिन सामथयवान न होने पर आप खुद से भी कुछ उपाय कर सकते हैं।

1.यदि आपको घर में श्राद्घ प्रक्रिया करनी है तो अपने पूर्वजों की मृत्यु तिथि पर पूजन करें।

2.तर्पण का कार्य करने के लिए खुद पर पहले गंगाजल छिड़ककर शुद्घ करें। अब आप सफेद कपड़े धारण करके अनामिका अंगुली में कुशा की अंगूठी धारण करें।

3.श्राद्घ में पितरों की तस्वीर रखने की जगह पर गाय के गोबर से लीपे। यदि आपका घर पक्का है तो आप उस स्थान पर गौ मूत्र भी छिड़क सकते हैं।

4.पूर्वज की फोटो पर सफेद फूलों की माला चढ़ाएं। हमेशा ध्यान रखें कि पितृ पक्ष पूजन में लाल फूल और कुमकुम का प्रयोग न करें।

5.पितरों की आत्मा की शांति के लिए हवन करें। इसमें शुद्घ देसी घी,आम की लकडिय़ां और हवन सामग्री डाल लें। हवन की अग्नि में आप पितरों को दूध,दही,घी,तिल और खीर भी अर्पण करें।

6.श्राद्घ की पूजा के लिए आप हाथ में कुश तिल और जल लेकर दक्षिण की ओर मुंह कर लें और उनकी मोक्ष प्राप्ति के लिए संकल्प करें।

7.पूर्वजों के लिए बनाएं गए हुए खाने में पांच हिस्से जरूर करें। इसमें आप एक गाय,कुत्ता,कौआ,चींटी और देवता का भाग होगा। 

8.तपर्ण के दिन एक-तीन या इससे अधिक ब्राम्हणों को भोजन करवाएं। अगर ब्राम्हण घर न आएं तो आप किसी मंदिर में जाकर उनका हिस्सा दें आएं। 

9.मान्यता है कि पितरों की संतुष्टि के लिए पिंडदान काफी ज्यादा जरूरी है। पिंडदान में आप पके चावल,आटा,घी एंव तिल को मिलाकर उसके पांच पिंड बना लें। श्राद्घ क्रिया पुरुषों द्वारा ही किया जाना चाहिए।