BREAKING NEWS

शरद पवार ने NCP छोड़ने वाले नेताओं को बताया ‘कायर’◾जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करना भाजपा की राष्ट्रीय प्रतिबद्धता थी : नड्डा ◾आजाद ने अपने गृह राज्य जाने की अनुमति के लिए उच्चतम न्यायालय का किया रुख◾सिद्धारमैया ने बाढ़ राहत को लेकर केन्द्र कर्नाटक सरकार की आलोचना की◾बेरोजगारी पर बोले श्रम मंत्री-उत्तर भारत में योग्य लोगों की कमी, विपक्ष ने किया पलटवार ◾INLD के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा और निर्दलीय विधायक कांग्रेस में हुये शामिल ◾PAK ने इस साल 2,050 से अधिक बार किया संघर्षविराम उल्लंघन, 21 भारतीयों की मौत : विदेश मंत्रालय ◾PM मोदी,वेंकैया,शाह ने आंध्र नौका हादसे पर जताया शोक◾पासवान ने किया शाह के हिंदी पर बयान का समर्थन◾न्यायालय में सोमवार को होगी अनुच्छेद 370 को खत्म करने, कश्मीर में पाबंदियों के खिलाफ याचिकाओं पर सुनवाई◾TOP 20 NEWS 15 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾आंध्र प्रदेश के गोदावरी में बड़ा हादसा : नाव पलटने से 13 लोगों की मौत, कई लापता◾संतोष गंगवार ने कहा- नौकरी के लिये योग्य युवाओं की कमी, मायावती ने किया पलटवार ◾पाकिस्तान ने इस साल 2050 बार किया संघर्षविराम उल्लंघन, मारे गए 21 भारतीय◾संतोष गंगवार के 'नौकरी' वाले बयान पर प्रियंका का पलटवार, बोलीं- ये नहीं चलेगा◾CM विजयन ने हिंदी भाषा पर बयान को लेकर की अमित शाह की आलोचना, दिया ये बयान◾महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में 'अप्रत्याशित जीत' हासिल करने के लिए तैयार है BJP : फडणवीस◾ देश में रोजगार की कमी नहीं बल्कि उत्तर भारतीयों में है योग्यता की कमी : संतोष गंगवार ◾ममता बनर्जी पर हमलावर हुए BJP विधायक सुरेंद्र सिंह, बोले- होगा चिदंबरम जैसा हश्र◾International Day of Democracy: ममता का मोदी सरकार पर वार, आज के दौर को बताया 'सुपर इमरजेंसी'◾

दिलचस्प खबरें

श्राद्घ में पंडित से नहीं करा सकते हैं पूजा तो पितरों के लिए खुद से करें ये जरूरी काम

पितरों की आत्मा की शांति  के पितृ पक्ष पर तर्पण का काम किया जाता है। ऐसा करने से मृतक की आत्मा तृप्त होती है। इससे परिवार पर पूर्वजों का आशीर्वाद बना रहता है। वैसे तो श्राद्घ पक्ष में पंडितों से पूजा करावाई जाती है। लेकिन सामथयवान न होने पर आप खुद से भी कुछ उपाय कर सकते हैं।

1.यदि आपको घर में श्राद्घ प्रक्रिया करनी है तो अपने पूर्वजों की मृत्यु तिथि पर पूजन करें।

2.तर्पण का कार्य करने के लिए खुद पर पहले गंगाजल छिड़ककर शुद्घ करें। अब आप सफेद कपड़े धारण करके अनामिका अंगुली में कुशा की अंगूठी धारण करें।

3.श्राद्घ में पितरों की तस्वीर रखने की जगह पर गाय के गोबर से लीपे। यदि आपका घर पक्का है तो आप उस स्थान पर गौ मूत्र भी छिड़क सकते हैं।

4.पूर्वज की फोटो पर सफेद फूलों की माला चढ़ाएं। हमेशा ध्यान रखें कि पितृ पक्ष पूजन में लाल फूल और कुमकुम का प्रयोग न करें।

5.पितरों की आत्मा की शांति के लिए हवन करें। इसमें शुद्घ देसी घी,आम की लकडिय़ां और हवन सामग्री डाल लें। हवन की अग्नि में आप पितरों को दूध,दही,घी,तिल और खीर भी अर्पण करें।

6.श्राद्घ की पूजा के लिए आप हाथ में कुश तिल और जल लेकर दक्षिण की ओर मुंह कर लें और उनकी मोक्ष प्राप्ति के लिए संकल्प करें।

7.पूर्वजों के लिए बनाएं गए हुए खाने में पांच हिस्से जरूर करें। इसमें आप एक गाय,कुत्ता,कौआ,चींटी और देवता का भाग होगा। 

8.तपर्ण के दिन एक-तीन या इससे अधिक ब्राम्हणों को भोजन करवाएं। अगर ब्राम्हण घर न आएं तो आप किसी मंदिर में जाकर उनका हिस्सा दें आएं। 

9.मान्यता है कि पितरों की संतुष्टि के लिए पिंडदान काफी ज्यादा जरूरी है। पिंडदान में आप पके चावल,आटा,घी एंव तिल को मिलाकर उसके पांच पिंड बना लें। श्राद्घ क्रिया पुरुषों द्वारा ही किया जाना चाहिए।