BREAKING NEWS

नितिन गडकरी बोले- सिर्फ आरक्षण से किसी समुदाय का विकास सुनिश्चित नहीं हो सकता ◾TOP 20 NEWS 16 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर बोले- जल्द ही पूरी दुनिया में उपलब्ध होगा दूरदर्शन इंडिया◾योगी सरकार को इलाहाबाद HC से झटका, 17 OBC जातियों को SC में शामिल करने पर रोक◾शरद पवार का ऐलान- महाराष्ट्र में 125-125 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी NCP और कांग्रेस◾हिंदी को लेकर अमित शाह के बयान पर बोले कमल हासन - कोई 'शाह' नहीं तोड़ सकता, 1950 का वादा◾CJI रंजन गोगोई बोले-जरूरत हुई तो मैं खुद जाऊंगा जम्मू-कश्मीर हाई कोर्ट◾गंगवार के बयान पर प्रियंका का वार, कहा-मंत्री जी, 5 साल में कितने उत्तर भारतीयों को दी हैं नौकरियां◾SC ने गुलाम नबी आजाद को कश्मीर जाने की दी अनुमति, कोई राजनीतिक रैली न करने का दिया आदेश◾हिंद महासागर में दिखा चीनी युद्धपोत जियान-32, अलर्ट पर भारतीय नौसेना◾कश्मीर में स्थिति सामान्य करने के लिए हरसंभव प्रयास करें केंद्र : सुप्रीम कोर्ट◾SC ने फारूक अब्दुल्ला को पेश करने संबंधी याचिका पर केंद्र को जारी किया नोटिस ◾जन्मदिन पर चिदंबरम को बेटे कार्ति का पत्र, लिखा-कोई 56 इंच वाला आपको रोक नहीं सकता◾Howdy Modi कार्यक्रम में शामिल होने के ट्रंप के फैसले की PM ने की प्रशंसा, ट्वीट कर कही यह बात◾अयोध्या विवाद में सुन्नी वक्फ बोर्ड और निर्वाणी अखाड़े ने सुप्रीम कोर्ट के मध्यस्थता पैनल को लिखा पत्र◾पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम तिहाड़ जेल में मनाएंगे अपना 74वां जन्मदिन◾‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम में शामिल होंगे ट्रम्प, भारतीय-अमेरिकी लोगों को एक साथ करेंगे संबोधित◾पुंछ: पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन, तीन जवान घायल◾अखिलेश यादव बोले- तानाशाही से सरकार चलाकर अपना लोकतंत्र चला रही है भाजपा◾शरद पवार ने NCP छोड़ने वाले नेताओं को बताया ‘कायर’◾

दिलचस्प खबरें

स्कूलों में बच्चों की संख्या घटने पर दिया 90 साल की दादियों को एडमिशन

दक्षिण कोरिया में दिन-प्रतिदिन जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है। इससे निपटने के लिए लोग अपने बच्चों के साथ दूसरे देशों जैसा रुख कर रहे हैं। अब बच्चों की कमी होने की वजह से कई सारे स्कूल बंद होने की कगार पर आ गए है। इससे निजात पाने के लिए स्कूलों ने एक नया तरीका अपना लिया है। 

अब स्कूलों में उम्रदराज दादियों के एडमिशन किए जा रहे हैं जो पहले पढ़ लिख नहीं सकी। इन एडमिशन में 90 साल की मलिाएं शामिल है। वहीं दादियों का भी कहना है कि ये पल उनके जीवन का सबसे खूबसूरत पल है। 

बता दें कि 1960 के दशक में दक्षिण कोरिया में महिलाओं को स्कूल नहीं जाने दिया जाता था। यहां पर हमेशा से ही लड़कों को बेहतर तालीम देने की परंपरा रही है। इसलिए इस देश की ज्यादातर महिलाओं के अशिक्षित रहने का यह बड़ी वजह थी। इसके अलावा यहां पर खेती-किसानी करने वाले परिवारों की संख्या में में भी कमी आती जा रही है। अब लोग यहां के हालात देखते हुए सिर्फ एक बच्चे की ख्वाहिश्स रख रहे हैं। यहां के नामी स्कूल वोल्डियुंग एलीमेंट्री के अनुसार 1968 में यहां 1200 बच्चे थे जो अब घटकर केवल 29 ही बाकी रह गए है। कुछ स्कूलों में दो क्लास को मिलाकर एक क्लास में ही सब बच्चों को एक साथ कर दिया गया है। 

अब महिलाएं सेहत और पढाई दोनों का रख रही हैं ख्याल

84 साल की नैम तीन बच्चों की दादी है। उनका कहना है कि पढ़ा लिखा न होने की वजह से मुझे बहुत बार काफी बुरा महसूस हुआ है। मै स्कूल में पढऩे के साथ अब अपनी सेहत का भी ख्याल रखना चाहती हंू। मेरा पसंदीदा विषय गणित है और अंकों को जोडऩा और घटाना मुझे काफी अच्छा लगता है। वहीं 70 साल की यूंग-ए कहना है कि मेरी दादी कभी नहीं चाहती थी कि मैं कभी स्कूल भी जाऊं। मेरी पढ़ाई को लेकर हमेशा ही विवाद रहता था। लेकिन अब ये मेरे जीवन का सबसे खूबसूरत पलों में से एक है।

पढ़ाई में दादियां बच्चों से ज्यादा समझदार हैं 

बता दें कि क्लास में दादियों के साथ में पढ़ रहा 8 साल का छोटा बच्चा जिसका नाम किम सियूंग हैं। उन्हें कोरियाई भाषा से जुड़े कई शब्दों को दादियों को सिखाता है। उसका कहना है कि  अगर दादियों ने स्कूल आना बदं कर दिया तो मुझे बहुत दुख होगा। वहीं एक स्कूल की मेडम का कहना है कि जब पहली बार बुजुर्ग महिलाएं क्लास में आई तो मैं नर्वस हो गई थी। उनकी मेहनत ने ये साबित किया है कि यह कितना सुखद पल है। क्योंकि ये सभी दादियां छोटे बच्चों से पढऩे में ज्यादा समझदार हैं।