BREAKING NEWS

अगर तीन दिन से ज्यादा किसी अधिकारी ने रोकी फाइल, तो होगी सख्त कार्रवाई : योगी◾कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त होने के बाद बोले नड्डा- कार्यकर्ता के तौर पर BJP को करुंगा मजबूत◾जम्मू-कश्मीर : अनंतनाग में आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ शुरू◾WORLD CUP 2019, WI VS BAN : साकिब के शतक से बांग्लादेश ने वेस्टइंडीज को सात विकेट से हराया ◾दिल्ली में बढ़ा हुआ ऑटो किराया मंगलवार से लागू होगा, अधिसूचना जारी ◾मिस्र के पूर्व राष्ट्रपति मुर्सी का अदालत में सुनवाई के दौरान निधन ◾ममता बनर्जी से मिलने के बाद बंगाल के चिकित्सकों ने हड़ताल खत्म की ◾जे पी नड्डा भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किये गये ◾पुलवामा में आतंकवादियों ने किया IED विस्फोट, 5 जवान घायल ◾कांग्रेस ने बिहार में दिमागी बुखार से बच्चों की मौत को लेकर सरकार पर निशाना साधा ◾Top 20 News - 17 June : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें ◾बैंकों ने जेट एयरवेज को फिर खड़ा करने की कोशिश छोड़ी, मामला दिवाला कार्रवाई के लिए भेजने का फैसला ◾लोकसभा में साध्वी प्रज्ञा के शपथ लेने के दौरान विपक्ष ने किया हंगामा ◾ममता बनर्जी और डॉक्टरों की बैठक को कवर करने के लिए 2 क्षेत्रीय न्यूज चैनलों को मिली अनुमति◾बिहार : बच्चों की मौत मामले में हर्षवर्धन और मंगल पांडेय के खिलाफ मामला दर्ज◾वायनाड से निर्वाचित हुए राहुल गांधी ने ली लोकसभा सदस्यता की शपथ◾सलमान को झूठा शपथपत्र पेश करने के केस में राहत, कोर्ट ने राज्य सरकार की अर्जी खारिज की◾भागवत ने ममता पर साधा निशाना, कहा-सत्ता के लिए छटपटाहट के कारण हो रही है हिंसा ◾लोकसभा में स्मृति ईरानी के शपथ लेने पर सोनिया गांधी समेत कई विपक्षी नेताओं ने किया अभिनंदन ◾डॉक्टरों और ममता बनर्जी के बीच प्रस्तावित बैठक को लेकर संशय◾

दिलचस्प खबरें

स्कूलों में बच्चों की संख्या घटने पर दिया 90 साल की दादियों को एडमिशन

दक्षिण कोरिया में दिन-प्रतिदिन जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है। इससे निपटने के लिए लोग अपने बच्चों के साथ दूसरे देशों जैसा रुख कर रहे हैं। अब बच्चों की कमी होने की वजह से कई सारे स्कूल बंद होने की कगार पर आ गए है। इससे निजात पाने के लिए स्कूलों ने एक नया तरीका अपना लिया है। 


अब स्कूलों में उम्रदराज दादियों के एडमिशन किए जा रहे हैं जो पहले पढ़ लिख नहीं सकी। इन एडमिशन में 90 साल की मलिाएं शामिल है। वहीं दादियों का भी कहना है कि ये पल उनके जीवन का सबसे खूबसूरत पल है। 


बता दें कि 1960 के दशक में दक्षिण कोरिया में महिलाओं को स्कूल नहीं जाने दिया जाता था। यहां पर हमेशा से ही लड़कों को बेहतर तालीम देने की परंपरा रही है। इसलिए इस देश की ज्यादातर महिलाओं के अशिक्षित रहने का यह बड़ी वजह थी। इसके अलावा यहां पर खेती-किसानी करने वाले परिवारों की संख्या में में भी कमी आती जा रही है। अब लोग यहां के हालात देखते हुए सिर्फ एक बच्चे की ख्वाहिश्स रख रहे हैं। यहां के नामी स्कूल वोल्डियुंग एलीमेंट्री के अनुसार 1968 में यहां 1200 बच्चे थे जो अब घटकर केवल 29 ही बाकी रह गए है। कुछ स्कूलों में दो क्लास को मिलाकर एक क्लास में ही सब बच्चों को एक साथ कर दिया गया है। 



अब महिलाएं सेहत और पढाई दोनों का रख रही हैं ख्याल

84 साल की नैम तीन बच्चों की दादी है। उनका कहना है कि पढ़ा लिखा न होने की वजह से मुझे बहुत बार काफी बुरा महसूस हुआ है। मै स्कूल में पढऩे के साथ अब अपनी सेहत का भी ख्याल रखना चाहती हंू। मेरा पसंदीदा विषय गणित है और अंकों को जोडऩा और घटाना मुझे काफी अच्छा लगता है। वहीं 70 साल की यूंग-ए कहना है कि मेरी दादी कभी नहीं चाहती थी कि मैं कभी स्कूल भी जाऊं। मेरी पढ़ाई को लेकर हमेशा ही विवाद रहता था। लेकिन अब ये मेरे जीवन का सबसे खूबसूरत पलों में से एक है।

पढ़ाई में दादियां बच्चों से ज्यादा समझदार हैं 

बता दें कि क्लास में दादियों के साथ में पढ़ रहा 8 साल का छोटा बच्चा जिसका नाम किम सियूंग हैं। उन्हें कोरियाई भाषा से जुड़े कई शब्दों को दादियों को सिखाता है। उसका कहना है कि  अगर दादियों ने स्कूल आना बदं कर दिया तो मुझे बहुत दुख होगा। वहीं एक स्कूल की मेडम का कहना है कि जब पहली बार बुजुर्ग महिलाएं क्लास में आई तो मैं नर्वस हो गई थी। उनकी मेहनत ने ये साबित किया है कि यह कितना सुखद पल है। क्योंकि ये सभी दादियां छोटे बच्चों से पढऩे में ज्यादा समझदार हैं।