BREAKING NEWS

हिंसा के बाद किसान आंदोलन में पड़ी दरार, दो संगठनों ने खुद को किया अलग◾26 जनवरी हिंसा: राकेश टिकैत, अन्य किसान नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज◾गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली में कानून-व्यवस्था की समीक्षा की ◾संयुक्त किसान मोर्चा की सफाई - असामाजिक तत्वों ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनों को नष्ट करने की कोशिश की◾दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर परेड में हिंसा के संबंध 200 लोगों को हिरासत में लिया, पूछताछ जारी ◾BCCI प्रमुख सौरव गांगुली को सीने में दर्द, अपोलो हॉस्पिटल में कराया गया एडमिट ◾नेपाल में कोविड टीकाकरण का पहला चरण शुरू, भारत ने तोहफे में दी है 10 लाख वैक्सीन डोज◾ किसान ट्रैक्टर परेड: गणतंत्र दिवस पर हिंसा की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल◾दो दिवसीय दौरे पर केरल पहुंचे राहुल, मलप्पुरम में गर्ल्स स्कूल के भवन का किया उद्घाटन ◾किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश हुई कामयाब : हन्नान मोल्लाह◾किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान भड़की हिंसा में 300 पुलिसकर्मी हुए घायल, क्राइम ब्रांच करेगी जांच◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : संयुक्त किसान मोर्चा ने बुलाई बैठक, सभी पहलुओं पर होगी चर्चा ◾DND फ्लाईओवर पर लगा भारी जाम, लाल किला मेट्रो स्टेशन की एंट्री व एग्जिट बंद ◾Today's Corona Update : देश में पिछले 24 घंटे में 12 हजार नए केस, 137 मरीजों की हुई मौत ◾वीडियो वायरल होने के बाद बोले राकेश टिकैत-लाठी कोई हथियार नहीं◾विश्व में कोरोना का प्रकोप जारी, मरीजों का आंकड़ा 10 करोड़ से पार ◾किसानों की ट्रैक्टर परेड में बवाल, दिल्ली पुलिस ने हिंसा के मामले में 22 FIR दर्ज की ◾TOP 5 NEWS 27 DECEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾राकांपा अध्यक्ष शरद पवार बोले- दिल्ली में जो कुछ हुआ, उसका समर्थन नहीं किया जा सकता ◾संयुक्त किसान मोर्चा ने की दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के दौरान भड़की हिंसा की निंदा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

स्कूलों में बच्चों की संख्या घटने पर दिया 90 साल की दादियों को एडमिशन

दक्षिण कोरिया में दिन-प्रतिदिन जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है। इससे निपटने के लिए लोग अपने बच्चों के साथ दूसरे देशों जैसा रुख कर रहे हैं। अब बच्चों की कमी होने की वजह से कई सारे स्कूल बंद होने की कगार पर आ गए है। इससे निजात पाने के लिए स्कूलों ने एक नया तरीका अपना लिया है। 

अब स्कूलों में उम्रदराज दादियों के एडमिशन किए जा रहे हैं जो पहले पढ़ लिख नहीं सकी। इन एडमिशन में 90 साल की मलिाएं शामिल है। वहीं दादियों का भी कहना है कि ये पल उनके जीवन का सबसे खूबसूरत पल है। 

बता दें कि 1960 के दशक में दक्षिण कोरिया में महिलाओं को स्कूल नहीं जाने दिया जाता था। यहां पर हमेशा से ही लड़कों को बेहतर तालीम देने की परंपरा रही है। इसलिए इस देश की ज्यादातर महिलाओं के अशिक्षित रहने का यह बड़ी वजह थी। इसके अलावा यहां पर खेती-किसानी करने वाले परिवारों की संख्या में में भी कमी आती जा रही है। अब लोग यहां के हालात देखते हुए सिर्फ एक बच्चे की ख्वाहिश्स रख रहे हैं। यहां के नामी स्कूल वोल्डियुंग एलीमेंट्री के अनुसार 1968 में यहां 1200 बच्चे थे जो अब घटकर केवल 29 ही बाकी रह गए है। कुछ स्कूलों में दो क्लास को मिलाकर एक क्लास में ही सब बच्चों को एक साथ कर दिया गया है। 

अब महिलाएं सेहत और पढाई दोनों का रख रही हैं ख्याल

84 साल की नैम तीन बच्चों की दादी है। उनका कहना है कि पढ़ा लिखा न होने की वजह से मुझे बहुत बार काफी बुरा महसूस हुआ है। मै स्कूल में पढऩे के साथ अब अपनी सेहत का भी ख्याल रखना चाहती हंू। मेरा पसंदीदा विषय गणित है और अंकों को जोडऩा और घटाना मुझे काफी अच्छा लगता है। वहीं 70 साल की यूंग-ए कहना है कि मेरी दादी कभी नहीं चाहती थी कि मैं कभी स्कूल भी जाऊं। मेरी पढ़ाई को लेकर हमेशा ही विवाद रहता था। लेकिन अब ये मेरे जीवन का सबसे खूबसूरत पलों में से एक है।

पढ़ाई में दादियां बच्चों से ज्यादा समझदार हैं 

बता दें कि क्लास में दादियों के साथ में पढ़ रहा 8 साल का छोटा बच्चा जिसका नाम किम सियूंग हैं। उन्हें कोरियाई भाषा से जुड़े कई शब्दों को दादियों को सिखाता है। उसका कहना है कि  अगर दादियों ने स्कूल आना बदं कर दिया तो मुझे बहुत दुख होगा। वहीं एक स्कूल की मेडम का कहना है कि जब पहली बार बुजुर्ग महिलाएं क्लास में आई तो मैं नर्वस हो गई थी। उनकी मेहनत ने ये साबित किया है कि यह कितना सुखद पल है। क्योंकि ये सभी दादियां छोटे बच्चों से पढऩे में ज्यादा समझदार हैं।