जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में 14 फरवरी को सीआरपीएफ जवानों के काफिले पर आतंकी हमला हुआ था जिसमें 40 जवानों की जान चली गई थी। इस आतंकी हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तान में स्थित आतंकवादी समूह जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी। तब से भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में जेएम नेता मसूद अजर को वैश्विक आतंकवादी के रूप में करने की बात कही हुई है। हालांकि यह बात चीन द्वारा तकनीकी पकड़ पर रखी हुई है।

यह चौथी बार है जब चीन ने वर्ष 2009 के बाद से इस पर रोक लगा रखी है। पुलवामा हमले के 13 दिन बाद 27 फरवरी को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की 1267 अलकायदा प्रतिबंध समिति के तहत यूके, अमेरिका और फ्रांस ने अजहर के लिए ऐसा बोला है। हालांकि, चीन ने मसूद अजहर पर अपना फैसला दिया है और इस पर रोक लगा दी है। विदेश मंत्रालय के अनुसार, यह बेहद ही निराशाजनक है।

फैसले के तुरंत बाद, कई भारतीयों ने सभी चीनी उत्पादों के बहिष्कार की मांग शुरू की दी और भारतीय ट्विटर पर#BoycottChina और #BoycottChineseProducts ट्रेंड में चल रहे हैं। खबरों के अनुसार, चीन केइस कदम से पता चलता है कि वे आतंकवाद पर राजनयिक संबंधों को प्राथमिकता देने केलिए तैयार हैं और इसलिए, चीनी वस्तुओं का बहिष्कार करना महत्वपूर्ण है।

लोगों ने इस तरह किया ट्रोल-

 

 

 

 

 

 

 

 

9#

10#