लोग घर को सजाने के लिए सजावट की कई चीजें घर में रखते है जिससे उनके आशियाने की ख़ूबसूरती बरकरार रहे। कई बार लोग बिना सोचे समझें सजावटी सामान घर ले आते है और ये सजावट घर की बरकत बढाने के बजाये घर के ऊपर आर्थिक संकट ले आती है। आज हम आपको वास्तु के अनुसार कुछ ऐसी चीजों के बारे में बता रहे है जो घर में रखना बेहद अशुभ माना जाता है क्योंकि ये घर की सुख शांति और खासकार आर्थिक स्थिति को खराब करती है।

आर्थिक संकट

आइए जानते हैं कि किन चीजों को अपने घरों में भूलकर भी नहीं लगाना चाहिए:-

1. डूबती नाव

आर्थिक संकट

लोगों को नाव समुंदर की तस्वीरें खूब पसंद आती है पर ध्यान रखें की डूबती नाव की तस्वीर या आकृति आपको अपने घर पर नहीं रखनी चाहिए। डूबती नाव की तस्वीर आपसे मतभेद पैदा करती है और आर्थिक संकट खड़े करती है।

2. नटराज

आर्थिक संकट

नटराज मूर्ति घर में रखना अशुभ माना जाता है क्योंकि भले ही इस मूर्ति में भगवान् शिव जबरदस्त नृत्य कला का प्रदर्शन कर रहे है पर साथ ही ये नृत्य विनाश का प्रतीक भी है। अगर घर को आर्थिक संकट से बचाना चाहते है तो ये मूर्ति घर पर रखने से बचना चाहिए।

3. ताजमहल

आर्थिक संकट

भारत की शान ताजमहल को प्यार का प्रतीक माना जाता है पर असल में ये एक समाधी स्थल है जिसे शाहजहां ने अपनी बीवी मुमताज की याद में बनवाया था। ताजमहल की तस्वीर या शो पीस घर में रखना मौत की निशानी और निष्क्रियता का प्रतीक है।

4. महाभारत की छवि

आर्थिक संकट

आर्थिक संकट और गृह कलेश से बचना चाहते है तो महाभारत की किसी घटना की तस्वीर को घर में लगाने से बचें क्योंकि इसे ज्योतिष और वास्तु में बेहद अशुभ माना गया है।

5. पानी का फुहारा

आर्थिक संकट

बाथरूम में फुहारा लगाना तो ठीक है पर घर की किसी दूसरी जगह पर सजावट के लिए फुहारा लगाना ठीक नहीं माना जाता क्योंकि ये बहाव को दर्शाता है। ज्योतिष के अनुसार घर में फुहारा लगाने से पैसा ज्यादा दिन नहीं टिकता और समय के साथ बह जाता है।

6. जंगली जानवर

आर्थिक संकट

घर की सजावट के लिए हम बहुत सी चीज़ों का उपयोग करते है पर क्या आपको मालूम है घर में किसी भी जंगली जानवर का फोटो या शोपीस नहीं लगाना चाहिए। ये आपकी प्रकृति में जंगलीपन को बढ़ावा देते हैं और घर में परिजनों की प्रकृति में हिंसक दृष्टिकोण और आर्थिक संकट पैदा करते हैं।

हस्तरेखा ज्योतिष : अंगूठे के नाखून पर बनता है आधा चांद तो आपका जीवन है बेहद ख़ास !