हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे को बेहद पवित्र माना जाता है इतना ही नहीं तुलसी भगवान विष्णु को भी अतिप्रिय है। यही कारण है कि सदियों से ही हिंदू धर्म में तुलसी की पूजा करने की परंपरा चली आ रही है। तुलसी का पौधा कई औषधिय गुणों से भरपूर है। इसलिए आयुर्वेद में प्राचीन काल से ही तुलसी के पत्तों का प्रयोग कई तरह के रोगों के उपचार में किया जाता है। तुलसी की तासीर हल्की गर्म होती है तुलसी का स्वाद तीखा व कटु होता है ।

वैसे तो तुलसी की कई सारी जातियां होती हैं लेकिन साधारणता औषधि के लिए हमेशा पवित्र तलुसी का ही प्रयोग किया जाता है। औषधियों के रूप में प्रयोग होने वाली तुलसी दो प्रकार की होती है।

*हरी पत्ती वाली सफेद तुलसी से ज्यादा असरदार काली पत्ती की तुलसी होती है।
*काली तुलसी के सेवन से कफ को खत्म किया जा सकता है।
*हरी तुलसी के प्रयोग से बुखार को कंट्रोल किया जा सकता है।

तुलसी से होने वाले कुछ फायदे…

1.यदि आप दमा के रोग से ग्रस्त हैं तो आप तुलसी का रस शहद,अदरक और प्याज सभी के रस को मिलाकर सेवन करते हैं तो आपको जल्द ही आराम मिलेगा।

2.अगर 1 साल से अधिक उम्र वाले बच्चे को दमा रोग की परेशानी हो तो उसे ठीक करने के लिए तुलसी के पांच पत्तों को बारीक से पीसकर शहद के साथ चटाना चाहिए। ऐसा करने से जल्दी ही दमा रोग ठीक हो जाएगा।

3.यदि आप मुंह के छालो से परेशान हैं और जल्द ही इनसे निजात पाना चाहते हैं तो तुलसी और चमेली के पत्तों को एक साथ चबाएं इससे आपको जल्दी ही आराम मिलेगा और आपके मुंह से आने वाली दुर्गंध भी दूर होगी।

 

4.तुलसी के पत्तो का रस निकाल कर उसमें नींबू का रस मिलाकर दाद खाज ,चेहरे झाइयां, कील मुंहासे और अन्य त्वचा रोगों पर लगाने से आपको तुरंत आराम मिलेगा।

5.तुलसी के पत्तो का रस अगर आप नारियल के तेल के साथ मिलाकर लगाते हैं तो आपको जले हुए हिस्से पर जलन व दर्द नहीं होगा और फफोले भी नहीं पड़ते हैं।

6.1 साल से कम उम्र वाले बच्चे को यदि दमा रोग है तो आप तुलसी के पत्तों को दो बूंद शहर में मिलाकर दिन में दो बार चटा दें।

7.तुलसी के पत्तों को पानी में उबालकर गरारे करने से गले का दर्द ठीक हो जाता है और गले में टॉन्सिल की सूजन दूर हो जाती है।

8.तुलसी की मंजरी को पीसकर शहद के साथ चाटने पर गला साफ हो जाता है।

9.अगर आप तुलसी के पत्ते और काली मिर्च सामान मात्रा में पीसकर उसकी छोटी गोलियां बनाकर खाते हैं तो आपकी काली खांसी कुछ ही दिन में खत्म हो जाएगी।

चाय पीने से हो सकती हैं ये 6 खतरनाक बीमारियां, चाय लवर हो जाए सावधान