BREAKING NEWS

शिवराज के मंत्री ने बढ़ती महंगाई के लिए नेहरू पर फोड़ा ठीकरा, कहा-1947 के भाषण से शुरू हुई अर्थव्यवस्था की बदहाली◾संसद में पेगासस व किसानों के मुद्दे पर चर्चा करवाने के लिए विपक्षी दलों ने किया राष्ट्रपति से दखल देने का आग्रह◾मोदी कैबिनेट से हटाए जाने के बाद बाबुल सुप्रियो ने राजनीति से संन्यास का किया ऐलान, बोले- समाज सेवा के लिए आया था◾राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह बने जेडीयू के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष, जानिए नीतीश के करीबी का राजनीतिक संघर्ष◾UP बोर्ड एग्जाम का रिजल्ट जारी, 10वीं में 99.53% और 12वीं में 97.88% स्टूडेंट्स पास ◾टोक्यो ओलंपिक 2020 : पीवी सिंधु फाइनल की रेस से हुई बाहर, मेडल की उम्मीद अब भी बरकरार◾मिजोरम पुलिस की FIR पर CM सरमा का ट्वीट, 'किसी भी जांच में शामिल होने पर होगी खुशी'◾ओलंपिक मुक्केबाजी : क्वार्टर फाइनल में हारीं पूजा रानी, पहले ही मुकाबले में हारकर बाहर हुए अमित पंघाल ◾चुनावों से पहले BJP खेल रही आरक्षण का कार्ड, जानिए UP समेत किन 5 राज्यों में गूंजेगा OBC रिजर्वेशन का मुद्दा ◾आतंकी सरगना मसूद अजहर का भतीजा 'लंबू' मुठभेड़ में ढेर, पुलवामा हमले की साजिश में था शामिल ◾असम और मिजोरम के बीच हुई हिंसा पर बोले राहुल- देश में दंगों को बीज की तरह बोया जा रहा है◾अखिलेश यादव ने भाजपा के कार्यकर्ताओं को बताया ई-रावण, सोशल मीडिया पर नफरत फैलाने का लगाया आरोप ◾'UPA सरकार ने कभी पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा नहीं दिया', BJP का कांग्रेस पर पलटवार◾भारत और चीन के बीच 12वें दौर की सैन्य वार्ता, हॉट स्प्रिंग और गोगरा इलाकों से गतिरोध खत्म करने पर जोर ◾पहले ओलंपिक की घबराहट और अवसाद के बावजूद तोक्यो में कमलप्रीत ने बिखेरी हौसले की चमक ◾ओलंपिक: वंदना की हैट्रिक से भारतीय महिला हॉकी टीम की रोमांचक जीत, क्वार्टर फाइनल की उम्मीदें बरकरार ◾IPS प्रोबेशनर्स से संवाद करते हुए बोले PM मोदी-पुलिस की नकारात्मक छवि खत्म होनी चाहिए◾अगस्त में सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता संभालने के लिए पूरी तरह तैयार है भारत, आतंकवाद पर तेज होगा प्रहार◾अफगानिस्तान में UN पर तालिबान के हमले की गुटेरेस ने की निंदा, कहा- अंतर्राष्ट्रीय कानून के तहत यह प्रतिबंधित हैं◾जम्मू-कश्मीर : आतंकियों के निशाने पर घाटी, राजौरी में डिफ्यूज किया गया IED◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

Chhat Puja 2020: आज है छठ पूजा का सबसे खास दिन, इस विधि से दें डूबते सूर्य को अर्घ्य, जानिए शुभ मुहूर्त

छठ पूजा का महापर्व पूरे देश में मनाया जा रहा है। यह पर्व चार दिन तक मनाया जाता है और 20 नवंबर शुक्रवार यानी आज इसका मुख्य दिन है। कार्तिक माह शुुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को यह दिन मनाते हैं। जो महिलाएं व्रत रखती है वह इस दिन छठ माई से संतान की लंबी आयु और सुख-समृद्धि के लिए डूबते सूर्य को अर्घ्य देकर कामना करती हैं। चलिए आपको बताते हैं कि सूर्यास्त का समय और अर्घ्य देने की विधि आज कब है। 

ये है छठ पूजा का शुभ मुहूर्त

संध्या अर्घ्य मुहूर्त इस दिन का सबसे मुख्य होता है। सूर्यास्त के समय सूर्य देव को संध्या अर्घ्य मुहूर्त में जल चढ़ाना होता है। उसके बाद ऊषा अर्घ्य मुहूर्त अगले दिन सप्तमी को खास होता है। जल चढ़ाने का विधान उगते हुए सूर्य इसमें होता है। सूर्यास्त का समय शाम 5 बजकर 26 मिनट पर षष्ठी तिथि को है।

यह सामग्री है छठ पूजा से जुड़ी हुई

छठ पूजा के दौरान यह सामग्री आवश्यक होती है। बांस की 3 बड़ी टोकरी, बांस या पीतल के बने 3 सूप, थाली, दूध और ग्लास, चावल, लाल सिंदूर, दीपक, नारियल, हल्दी, गन्ना, सुथनी, सब्जी और शकरकंदी, नाशपाती, बड़ा नींबू,शहद,पान, साबूत सुपारी, कैराव, कपूर, चंदन और मिठाई, प्रसाद के रूप में ठेकुआ,मालपुआ, खीर-पुड़ी, सूजी का हलवा,चावल के बने लड्डू आदि। 

ये है पूजा एवं अर्घ्य की विधि 

जो भी सामग्रियां छठ पूजा में आवश्यक होती हैं उन्हें सबसे पहले एक बांस की टोकरी में रख दें। 

उसके बाद सूर्य को अर्घ्य दें और उस दौरान सूप में सारे प्रसाद रखें फिर दीपक सूप में ही जलाएं। 

इसके बाद सूर्य देव को अर्घ्य नदी में उतरकर दें। 

ऐसे आपकी छठ पूजा की सही विधि संपन्न होगी।

ये है छठ पूजा का महत्व

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, सूर्य देव की उपासना और छठी मैया की आराधना छठ पूजा में करते हैं। सनातन संस्कृति में देवता के तौर पर सूर्य की पूजा की जाती है। शास्‍त्रों के अनुसार, सृष्टि की आत्मा सूर्य देव को कहा गया है। मनुष्यों, जीवों एवं पेड़-पौधों का जीवन इसके प्रकाश से अस्तित्व में है। 

ऊर्जा का ही स्रोत सूर्य सिर्फ नहीं होता है बल्कि ऐसे तत्व इसके प्रकाश में होते हैं जिनसे रोग-दोष से छुटकारा मनुष्य और जीवों को मिलता है। साथ ही भोजन पेड़-पौधों को भी प्राप्त होता है। इसके अलावा छठी माई की पूजा संतान की कामना और उसके सुखी जीवन के लिए भी करते हैं।