धर्मशाला : तिब्बती आध्यात्मिक नेता दलाई लामा ने कहा है कि वह अगले 20 साल इसी तरह काम करते रहना चाहते हैं। 82 वर्षीय लामा ने कहा कि अपनी बढ़ती उम्र के बावजूद वह अपना काम जारी रखना चाहते हैं। भारत, नेपाल भूटान के 40 मठों की 875 से ज्यादा ननों ने दलाई लामा की लंबी उम्र के लिए प्रार्थना आयोजित की थी। यह 40 मठ तिब्बती बौद्ध धर्म और बोन परंपरा के पांच संप्रदायों का प्रतिनिधित्व करते हैं। इस प्रार्थना के बाद लामा ने उक्त बातें कहीं। यह प्रार्थना, धर्मशाला में मुख्य मंदिर त्सुगलागखांग में हुई थी। यह मंदिर दलाई लामा के आधिकारिक आवास के पास है।

कार्यक्रम में मौजूद आध्यात्मिक नेता ने कहा, ‘‘ मैं वास्तव में बहुत खुश हूं कि यह प्रार्थना तिब्बती बौद्ध धर्म की सभी पांच संप्रदायों की ननों ने आयोजित की है। यह वास्तव में सराहनीय है।’’ उन्होंने कहा कि तिब्बती बौद्ध ननों ने भी अब ‘गेशे’ डिग्री हासिल कर ली है जो उच्चतम स्तर की स्कॉलरशिप है और पहले सिर्फ भिक्षुकों के लिए आरक्षित थी। इस कार्यक्रम मे केंद्रीय तिब्बती प्रशासन (सीएटी) के अध्यक्ष लोबसंग संगे, मुख्य न्यायिक आयुक्त के. धोनडूप के अलावा भारतीय और तिब्बती समुदाय के कई धार्मिक नेताओं ने शिरकत की।

देश और दुनिया का हाल जानने के लिए जुड़े रहे पंजाब केसरी  के साथ।