BREAKING NEWS

शरद पवार ने NCP छोड़ने वाले नेताओं को बताया ‘कायर’◾जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करना भाजपा की राष्ट्रीय प्रतिबद्धता थी : नड्डा ◾आजाद ने अपने गृह राज्य जाने की अनुमति के लिए उच्चतम न्यायालय का किया रुख◾सिद्धारमैया ने बाढ़ राहत को लेकर केन्द्र कर्नाटक सरकार की आलोचना की◾बेरोजगारी पर बोले श्रम मंत्री-उत्तर भारत में योग्य लोगों की कमी, विपक्ष ने किया पलटवार ◾INLD के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा और निर्दलीय विधायक कांग्रेस में हुये शामिल ◾PAK ने इस साल 2,050 से अधिक बार किया संघर्षविराम उल्लंघन, 21 भारतीयों की मौत : विदेश मंत्रालय ◾PM मोदी,वेंकैया,शाह ने आंध्र नौका हादसे पर जताया शोक◾पासवान ने किया शाह के हिंदी पर बयान का समर्थन◾न्यायालय में सोमवार को होगी अनुच्छेद 370 को खत्म करने, कश्मीर में पाबंदियों के खिलाफ याचिकाओं पर सुनवाई◾TOP 20 NEWS 15 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾आंध्र प्रदेश के गोदावरी में बड़ा हादसा : नाव पलटने से 13 लोगों की मौत, कई लापता◾संतोष गंगवार ने कहा- नौकरी के लिये योग्य युवाओं की कमी, मायावती ने किया पलटवार ◾पाकिस्तान ने इस साल 2050 बार किया संघर्षविराम उल्लंघन, मारे गए 21 भारतीय◾संतोष गंगवार के 'नौकरी' वाले बयान पर प्रियंका का पलटवार, बोलीं- ये नहीं चलेगा◾CM विजयन ने हिंदी भाषा पर बयान को लेकर की अमित शाह की आलोचना, दिया ये बयान◾महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में 'अप्रत्याशित जीत' हासिल करने के लिए तैयार है BJP : फडणवीस◾ देश में रोजगार की कमी नहीं बल्कि उत्तर भारतीयों में है योग्यता की कमी : संतोष गंगवार ◾ममता बनर्जी पर हमलावर हुए BJP विधायक सुरेंद्र सिंह, बोले- होगा चिदंबरम जैसा हश्र◾International Day of Democracy: ममता का मोदी सरकार पर वार, आज के दौर को बताया 'सुपर इमरजेंसी'◾

दिलचस्प खबरें

डेटिंग करने से बढ़ जाता है डिप्रेशन का खतरा, जानें इसके कारण

एक शोध के अनुसार शोधकर्ताओं को यह पता चला है कि जो लोग डेट करते हैं वह अवसाद का शिकार हो जाते हैं। जॉर्जिया यूनिवर्सिटी में यह शोध हुआ है। इस शोध पर लेखकर बुरक डॉग्लस ने कहा है कि डेटिंग एप्स बढ़ रहे हैं जिसके बाद लोग कम उम्र में ही एक-दूसरे को डेट करना शुरु हो जाते हैं जिसके बाद अवसाद का खतरा भी हो जाता है। 

फिजिकल एजुकेशन की पढ़ाई डॉग्लस कर रहे हैं। जॉर्जिया यूनिवर्सिटी की हेल्‍थ पत्रिका में इस अध्ययन को छापा गया है। कक्षा 10वीं के 594 विद्यार्थियों को इस शोध में शामिल किया था। इन सभी को चार श्रेणियों में शोधकर्ताओं ने बांट दिया। उसके बाद टीचर की रेटिंग्स और कुछ प्रश्न दिए गए जिसकी तुलना में यह सामने आया।

इस शोध में साफ हो गया है डिप्रेशन जैसी गंभीर बिमारी की खतरा उन लोगों को नहीं होता है जो डेटिंग नहीं करते हैं। डेटिंग करने वाले लोगों के मुकाबले इन लोगों में कौशल की क्षमता ज्यादा होती है। आजकल डेटिंग एप्स इतने बढ़ गए हैं जिसका इस्तेमाल करके कम उम्र वाले बच्चे डेट करना शुरु हो जाते हैं। जिसके बाद अवसाद का खतरा उनमें बढ़ जाता है। 

इस शोध में यह भी स्पष्ट किया गया है कि रोमांटिक रिश्ते में जो बच्चे नहीं आते हैं उनका सामजिक कौशल डेटिंग करने वाले लोगों के मुकाबले ज्यादा बेहतर होता है। इन लोगों पर डिप्रेशन का खतरा नहीं होता है ना ही कभी ये डिप्रेशन में जाते हैं। 

जो लोग डिप्रेशन से ग्रसित होने लगते हैं पहले तो वह समाज से दूर होते हैं। समाज में इन लोगों को रहना बिल्कुल अच्छा नहीं लगता है। जिन लोगों को डिप्रेशन होता है कोई भी चीज उन्हें अच्छी नहीं लगने लगती। जो खुशी के पल उनके सामने होते हैं उनमें भी वह गम खोजते रहते हैं। 

जो लोग डिप्रेस होते हैं वह कभी भी सकारात्मक सोच की तरह सोचता नहीं और ना ही इसे बढ़ावा देता है। डिप्रेशन में आए लोगों को लगता है कि उनके जीवन से सारी खुशियां खत्म हो गईं। यही वजह है कि डिप्रेशन वाले लोगों की जीने की इच्छा खत्म हो जाती है। अपनी भावनाओं को जाहिर करना यह लोग छोड़ देते हैं।