BREAKING NEWS

मौलाना कल्बे सादिक बोले- देश मोदी-शाह की मर्जी से नहीं, संविधान से चलेगा◾तुर्की में 6.8 तीव्रता का भूकंप, 18 लोगों की मौत◾...जब दिल्ली में चुनाव प्रचार खत्म कर कार्यकर्ता के घर पहुंचे अमित शाह, खाया खाना◾केंद्र सरकार ने भीमा कोरेगांव मामले की जांच NIA को सौंपी, महाराष्ट्र के गृहमंत्री देशमुख ने की निंदा◾पाकिस्तान के विदेश मंत्री कुरैशी बोले- SCO बैठक के लिए भारत के आमंत्रण का है इंतजार◾फांसी टलवाने के लिए सभी हथकंडे आजमा रहे निर्भया के दोषी, तिहाड़ जेल प्रशासन के खिलाफ आज होगी सुनवाई◾रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ PMLA मामला : प्रवासी कारोबारी थम्पी की हिरासत 4 दिनों के लिए बढ़ी ◾3-4 दिनों में मंत्रिमंडल का विस्तार होगा : बी एस येदियुरप्पा◾CAA के बाद देश से वापस लौटने वाले बांग्लादेशी प्रवासियों की संख्या में काफी बढ़ोतरी हुई है : BSF◾TOP 20 NEWS 24 January : आज की 20 सबसे बड़ी ◾विजयवर्गीय के पोहे वाले बयान पर जावड़ेकर बोले- मैं भी पोहा खाता हूं ◾मुख्यमंत्री केजरीवाल बोले- चुनाव काम के आधार पर लड़ा जाएगा, न कि जाति या धर्म के आधार पर◾कांग्रेस, आप ने वोट बैंक की राजनीति की, भाजपा जो कहती है, वह करती है : नड्डा ◾प्रधानमंत्री मोदी बोले- भारत सिर्फ 130 करोड़ लोगों का घर ही नहीं बल्कि एक जीवंत परंपरा है◾भारत ने न्यूजीलैंड को 6 विकेट से हराया, सीरीज में 1-0 से आगे ◾कोरोना वायरस : मुंबई में मिले दो संदिग्ध मरीज, कस्तूरबा अस्पताल में बनाया गया विशेष वार्ड◾महाराष्ट्र : राकांपा नेता नवाब मलिक बोले- मोदी सरकार ने पवार के दिल्ली स्थित आवास से सुरक्षा हटाई◾योग गुरु बाबा रामदेव बोले-महंगाई और बेरोजगारी के मुद्दे पर काम करे सरकार◾जेएनयू छात्रों को दिल्ली HC ने दी राहत, कहा- पुरानी फीस पर ही होगा छात्रों का रजिस्ट्रेशन◾दिल्ली विधानसभा चुनाव : कपिल मिश्रा के विवादित बयान पर सिसोदिया का पलटवार, कहा- जीतेगा तो भारत ही◾

डेटिंग करने से बढ़ जाता है डिप्रेशन का खतरा, जानें इसके कारण

एक शोध के अनुसार शोधकर्ताओं को यह पता चला है कि जो लोग डेट करते हैं वह अवसाद का शिकार हो जाते हैं। जॉर्जिया यूनिवर्सिटी में यह शोध हुआ है। इस शोध पर लेखकर बुरक डॉग्लस ने कहा है कि डेटिंग एप्स बढ़ रहे हैं जिसके बाद लोग कम उम्र में ही एक-दूसरे को डेट करना शुरु हो जाते हैं जिसके बाद अवसाद का खतरा भी हो जाता है। 

फिजिकल एजुकेशन की पढ़ाई डॉग्लस कर रहे हैं। जॉर्जिया यूनिवर्सिटी की हेल्‍थ पत्रिका में इस अध्ययन को छापा गया है। कक्षा 10वीं के 594 विद्यार्थियों को इस शोध में शामिल किया था। इन सभी को चार श्रेणियों में शोधकर्ताओं ने बांट दिया। उसके बाद टीचर की रेटिंग्स और कुछ प्रश्न दिए गए जिसकी तुलना में यह सामने आया।

इस शोध में साफ हो गया है डिप्रेशन जैसी गंभीर बिमारी की खतरा उन लोगों को नहीं होता है जो डेटिंग नहीं करते हैं। डेटिंग करने वाले लोगों के मुकाबले इन लोगों में कौशल की क्षमता ज्यादा होती है। आजकल डेटिंग एप्स इतने बढ़ गए हैं जिसका इस्तेमाल करके कम उम्र वाले बच्चे डेट करना शुरु हो जाते हैं। जिसके बाद अवसाद का खतरा उनमें बढ़ जाता है। 

इस शोध में यह भी स्पष्ट किया गया है कि रोमांटिक रिश्ते में जो बच्चे नहीं आते हैं उनका सामजिक कौशल डेटिंग करने वाले लोगों के मुकाबले ज्यादा बेहतर होता है। इन लोगों पर डिप्रेशन का खतरा नहीं होता है ना ही कभी ये डिप्रेशन में जाते हैं। 

जो लोग डिप्रेशन से ग्रसित होने लगते हैं पहले तो वह समाज से दूर होते हैं। समाज में इन लोगों को रहना बिल्कुल अच्छा नहीं लगता है। जिन लोगों को डिप्रेशन होता है कोई भी चीज उन्हें अच्छी नहीं लगने लगती। जो खुशी के पल उनके सामने होते हैं उनमें भी वह गम खोजते रहते हैं। 

जो लोग डिप्रेस होते हैं वह कभी भी सकारात्मक सोच की तरह सोचता नहीं और ना ही इसे बढ़ावा देता है। डिप्रेशन में आए लोगों को लगता है कि उनके जीवन से सारी खुशियां खत्म हो गईं। यही वजह है कि डिप्रेशन वाले लोगों की जीने की इच्छा खत्म हो जाती है। अपनी भावनाओं को जाहिर करना यह लोग छोड़ देते हैं।