अक्सर आपने सुना होगा कि लोग अपने शौक पूरे करने के लिए किसी भी हद तक चले जाते हैं। ऐसा ही एक लड़का है जिसने अपने शौक को पूरा करने के लिए अपनी अच्छी खासी नौकरी छोड़कर अपना शौक पूरा किया। हम जिस लड़के की बात कर रहे हैं उसका नाम Dean Schneider है और उसने अपनी नौकरी साल 2017 में छोड़ कर अपना शौक पूरा किया।

हम आपको इसके पीछे की असली वजह बताते हैं। दरअसल Dean Schneider को जंगली जानवरों से बहुत प्यार था इसलिए उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ कर जंगली जानवरों के साथ रहने का मन बनाया। बता दें कि उन्हें कुत्ते या बिल्ली नहीं पसंद बल्कि उन्हें शेर पसंद है।

अफ्रीका चले गए

Dean Schneider ने अपनी नौकरी छोड़ी और सब कुछ समेटकर साउथ अफ्रीका पहुंच गए। वहां जाकर वह जानवरों के साथ समय बीताना चाहते थे।

जानवरों के एक प्रोजेक्ट पर शुरू किया काम

जब वह साउथ अफ्रीका आ गए तो उन्होंने एक प्रोजेक्ट पर काम शुरू कर दिया। यह प्रोजेक्ट जंगली जानवरों से जुड़ा हुआ था। इस प्रोजेक्ट पर उन जंगली जानवरों पर काम किया जा रहा था जो लुप्त होने की कगार पर खड़े हैं। मसलन शेर थे।

 

जानवरों को रेस्कयू किया गया है

जंगली जानवरों को Hakuna Mipaka रेस्कयू करता है। दरअसल अगर जंगल में दो शेर लड़ पड़ते हैं और उनमें से एक की हालत बहुत खराब हो जाती है तो उसे पकड़कर वह इलाज करते हैं। फिर उस शेर को वापस जंगल में छोड़ देते हैं।

रख लेते हैं जानवरों को भी

इस सैंचुरी में जानवरों को कई बार रखा भी गया है। उन सभी जंगली जानवरों को जंगल जैसा माहौल मुहैया करवाया जाता है।

इसमें कई और जानवर भी आते हैं

कई सारे जानवर भी इस सेंचुरी में आते हैं। इसमें जंगली बंदर, लकड़बग्घे, शेर, सांपों की अलग-अलग प्रजातियां भी पाई गई हैं।

संदेश फैलाना चाहते हैं

Dean मानते हैं कि जानवर बिना इंसानी गलती के इंसान को कभी नुकसान नहीं पहुंचाते हैं। उनका लक्ष्य है कि वह इंसानों को जानवरों के प्रति ज्ञान देना चाहते हैं। लोगों को समझना होगा की जानवरों से डरना नहीं है बल्कि उन्हें वह समझें। एक वीडियो में अजगर से एक बच्चा खेलता हुआ देखाई दे रहा है। इस वीडियो को सोशल मीडिया पर पोस्ट करने का उनका यही मकसद था।

 

जंगल के प्रति नजरिया बदल सके

Dean का यह मानना है कि जंगल के प्रति लोगों का नजरिया बदला चाहिए। ताकि इंसानों से जानवरों को दिक्कत ना हो।

 

14 साल के इस मासूम को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दिया शौर्य चक्र, परिवार की खातिर लड़ा था आतंकियों से