BREAKING NEWS

किसानों की आमदनी दोगुनी करने के लिए सरकार ने बनाया रोडमैप : कृषि मंत्री ◾उत्तर भारत में बर्फबारी के बाद बढ़ी ठंड, दिल्ली में भी हुई बारिश ◾भाजपा नेता विनय कटियार को मिली जान से मारने की धमकी◾नागरिकता विधेयक पर बवाल के बीच गुवाहाटी के पुलिस प्रमुख हटाए गए, अन्य अधिकारियों का भी तबादला ◾नागरिकता संशोधन विधेयक को राष्ट्रपति की मंजूरी, कानून बना ◾राज्यों की जीएसटी क्षतिपूर्ति के वादे को पूरा करेगा केन्द्र, समयसीमा नहीं बताई - सीतारमण◾ठाकरे ने गृह शिवसेना, वित्त राकांपा और राजस्व कांग्रेस को दिया ◾फिर बढ़े प्याज के दाम, सरकार ने किए 12660 टन आयात के नए सौदे◾असम के हथकरघा मंत्री के आवास पर हमला, तेजपुर, ढेकियाजुली में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू◾जब लोकसभा में मुलायम सिंह ने पूछा ... ‘‘सत्ता पक्ष कहां है''◾केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय विधेयक को लोकसभा की मंजूरी, निशंक ने सभी भारतीय भाषाओं को सशक्त बनाने पर दिया जोर ◾भारत और अमेरिका के बीच ‘टू प्लस टू’ वार्ता 18 दिसम्बर को वाशिंगटन में होगी : विदेश मंत्रालय◾TOP 20 NEWS 12 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की सभी पुनर्विचार याचिकाएं◾महाराष्ट्र में BJP की कोर समिति की सदस्य नहीं, बावजूद पार्टी नहीं छोड़ूंगी : पंकजा मुंडे◾झारखंड में महागठबंधन की सरकार बनते ही किसानों का ऋण किया जाएगा माफ : राहुल गांधी ◾CAB :बांग्लादेश के विदेश मंत्री ने भारत दौरा किया रद्द ◾झारखंड विधानसभा चुनाव: तीसरे चरण में 17 सीटों पर वोटिंग जारी, दोपहर 1 बजे तक 45.14 प्रतिशत मतदान◾झारखंड : धनबाद में रैली को संबोधित करते हुए बोले PM मोदी-कांग्रेस में सोच और संकल्प की कमी◾असम के लोगों से PM की अपील, कांग्रेस बोली- मोदी जी, वहां इंटरनेट सेवा बंद है◾

दिलचस्प खबरें

इस तरह करें देवउठनी एकादशी के दिन घर पर तुलसी विवाह, जानें तिथि मुहूर्त और लाभ

 0

तुलसी विवाह का उत्सव कार्तिक मास की शुुक्ल पक्ष की एकदाशी को मनाते हैं। 8 नवंबर शुक्रवार यानी आज के दिन तुलसी विवाह मनाया जा रहा है। देवउठनी एकादशी, देवोत्‍थान और देव प्रबोधिनी के नाम से भी इसे जाना जाता है। 

शास्‍त्रों में कहा गया है कि भगवान विष्‍णु इस दिन चतुर्मास निद्रा से जागते हैं। ऐसा बताया गया है कि मांगलिक कार्य जैसे शादी-विवाह, देवस्‍थापना इत्यादि कार्य भगवान विष्‍णु के जगने के बाद शुरु हो जाते हैं। 

विशेष कृपा होती है भगवान विष्‍णु की


कार्तिक, शुुक्ल और नवमी की तिथि तुलसी विवाह के लिए अच्छा माना गया है। हालांकि एकादशी से पूर्णिमा तक तुलसी की पूजा करके ज्यादातर लोग तुलसी विवाह पांचवें दिन करते हैं। जिस तरह से हिंदू रीति रिवाज में वर और वधू का विवाह होता है वैसे ही तुलसी विवाह करते हैं। दुल्हन की तरह ही तुलसी के पौधे का श्रृंगार इस दिन करते हैं। जो भक्त अपने घर में तुलसी विवाह करते हैं उन पर भगवान विष्‍णु अपनी विशेष कृपा करते हैं। 

पुण्य मिलता है कन्यादान का


 

कार्तिक महीने में देवोत्‍थान एकादशी वाले दिन भगवान विष्‍णु के शालिग्राम रूप के साथ तुलसी का विवाह किया जाता है। तुलसी विवाह के जरिए भगवान का आह्वान किया जाता है। ज्योतिष शास्‍त्र में कहा गया है कि एक बार तुलसी और शालिग्राम का विवाह करके कन्यादान का पुण्य उन दंपत्तियों को करना चाहिए जिनके कोई पुत्री नहीं होती है। 

ये है तिथि व मुहूर्त देवोत्‍थान एकादशी 2019 का


8 नवंबर 2019 को है देवोत्‍थान एकादशी

96ः39 से 08ः50 बजे तक है पारण का समय

7 नवंबर की सुबह 09ः55 बजे से एकादशी की तिथि आरंभ है

8 नवंबर के 12ः24 बजे तक एकादशी की तिथि समाप्त है

जानें तुलसी विवाह की कथा


पौराणिक कथाओं में बताया गया है कि वृंदा से जलंधर नाम के असुर का विवाह हुआ था। भगवान विष्‍णु की वृंदा परम भक्त थी। जलंधर बहुत शक्तिशाली वृंदा के तप से ही हुआ था। उसके बाद से देवताओं को परेशान करना जलंधर ने शुरु कर दिया था। अपनी शक्ति पर जलंधर को इतना अभिमान को गया था कि अपनी कुदृष्टि उसने माता पार्वती पर भी डाल दी थी। 

जालंधर को ऐसे मारा गया


जलंधर की परेशानियों से दुखी होकर भगवान विष्‍णु के पास सारे देवता पहुंच गए थे और उन्हें सभी ने अपनी परेशानी बताई। उसके बाद सारे देवताओं ने मिलकर वृंदा का सतीत्व भंग करने का रास्ता निकाला ताकि जलंधर मारा जाए। वृंदा का सतीत्व भंग करने के लिए जलंधर का रूप भगवान विष्‍णु ने धारण कर लिया और उसके बाद देवताओं ने जलंधर को ऐसे मार दिया। कहा जाता है कि भगवान शिव का ही जलंधर पुत्र था। 

विष्‍णुजी और तुलसी का विवाह ऐसे हुआ


वृंदा को जब अपने पति की मृत्यु का सच पता चला तो उसने भगवान विष्‍णु को श्राप दिया कि वह पत्‍थर बन जाएंगे। जो पत्‍थर भगवान विष्‍णु बने उसी को शालिग्राम कहा जाता है। वृंदा के श्राप पर विष्‍णुजी ने कहा कि मैं तुम्हारे सतीत्व का आदर करता हूं लेकिन तुम हमेशा तुलसी बनकर सदा मेरे साथ रहोगी। तुम्हारे बिना मैं खाना भी नहीं खाउंगा। जो मनुष्य मेरा विवाह तुम्हारे साथ कार्तिक एकादशी के दिन करेगा उसकी सारी मनोकामना पूर्ण होंगी। भगवान विष्‍णु और महालक्ष्मी का ही प्रतीकात्मक विवाह शालिग्राम और तुलसी का विवाह माना गया है।