शिवपुरी : कोतवाली थाना क्षेत्र केे कृष्ण पुरम कॉलोनी में 15 वर्षीय काजल परिहार द्वारा फांसी लगाकर आत्महत्या करने के मामले में पुलिस ने जांच के बाद नागाबाड़ी के रहने वाले मंगल सिंह परिहार के खिलाफ आत्महत्या उत्प्रेरण का मामला दर्ज कर लिया है। आरोपी मंगलसिंह परिहार अपने विकलांग बेटे सोनू की मृतिका से जबरन शादी कराने के लिए दबाव बना रहा था। पुलिस ने आरोपी की गिरफ्तारी के प्रयास तेज कर दिए हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार आरोपी मंगलसिंह परिहार अपने विकलांग बेटे सोनू की मृतिका से जबरन शादी कराने के लिए उस पर तथा उसके परिवार पर दबाव बना रहा था, लेकिन मृतिका को लड़का विकलांग होने पर पसंद नहीं था इस कारण उसने शादी से इंकार कर दिया था। काजल द्वारा इंकार करने पर आरोपी द्वारा धमकी दी जा रही थी कि यदि उसने उसके बेटे से शादी नहीं की तो वह उसे जबरन उठाकर ले जाएगा।

रोज-रोज की इन धमकियों से तंग आकर काजल ने 26 जनवरी की दोपहर 2 बजे अपने घर पर परिजनों की अनुपस्थिति में कमरे में दुपट्टे का फंदा बनाकर फांसी लगा ली। जिससे काजल की मौत हो गई। पुलिस ने इस मामले में मर्ग कायम कर जांच की तो आरोपी पर लगाए गए सभी आरोप सत्य पाए गए। जिस पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ प्रकरण पंजीबद्ध कर लिया। इस मामले की जांच कर रहे सहायक उपनिरीक्षक सतेंद्र सिंह ने बताया कि एक माह पहले 9 जनवरी को मृतिका काजल परिहार की आरोपी मंगलसिंह परिहार के बेटे सोनू परिहार से सगाई हुई थी।

उस समय काजल को नहीं पता था कि सोनू विकलांग है और जब उसे सोनू के विकलांग होने का पता चला तो उसने उसके साथ शादी करने से इंकार कर दिया। इस पर सोनू का पिता मंगलसिंह परिहार काजल और उसके परिजनों पर शादी करने के लिए दबाव डालने लगा। आरोपी यह भी कह रहा था कि उसने सगाई पर 90 हजार रूपए की राशि खर्च कर दी है और यदि शादी नहीं करनी है तो उसे 90 हजार रूपए की राशि वापस करो। जबकि काजल के परिजनों की आर्थिक हैसियत इस लायक नहीं थी। इसी बात से परेशान होकर काजल ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ।