ये सुनने में भले ही आपको अजीब लग रहा हो लेकिन आज हम आपको एक ऐसे पिकअपमैन के बारे में बताने वाले हैं जिसपर भगवान की असीम कृपा हुई और वह रातोरात करोड़पति बन गया। जैसा की अक्सर हम किस्से कहानियों में सुनते हैं की भगवान जब किसी को देता है तो छप्पर फाड़ के देता है।
करोड़पतिइस पिकअपमैन के साथ हुआ ये किस्सा ऐसा ही कुछ साबित करता नज़र आ रहा है। वैसे ये सब सुन के आपके ज़हन में एक सवाल तो जरूर उठ रहा होगा की ऐसा कैसे संभव हो सकता है की रातोरात एक ड्राइवर करोड़पति बन गया ।
आपकी जानकारी के लिए आपको बता दें की केरल में ओणम के त्यौहार के मौके पर केरल सरकार ने जनता के लिए बम्पर लॉटरी का आयोजन किया था और इस इनाम की कीमत दस करोड़ रुपये तय की गयी थी।

ड्राईवर से बन गए करोडपति

करोड़पतिइसी इनाम के कारण पिकअपमैन की किस्मत पूरी तरह बदल गई। केरल सरकार द्वारा जब इस लॉटरी के विजेता घोषित किया गया तो अधिकारीयों ने टिकट नंबर AJ2876 को विजेता घोषित किया जो की  पिकअपमैन ड्राइवर मुस्तफा की टिकट का नंबर था।
करोड़पतिपहले कुछ समय तो अधिकारीयों को पता ही नहीं लगा की आखिर असली विजेता है कौन? अब ज़ाहिर सी बात है की जब इनाम की रकम इतनी ज्यादा हो तो हर कदम कदम फूंक फूंक के रखना पड़ेगा। कुछ समय तक विजेता के बारे में पता न चलने पर जब सभी ने विजेता की उम्मीद छोड़ दी थी।
करोड़पतितभी शनिवार दोपहर दो बजे फ़ेडरल बैंक में परप्पनंगडी गांव में रहने वाले मुस्तफा नाम के पिकअपमैन  ड्राइवर ने अपनी टिकट बैंक मैनेजर के पास जमा कराई और इनाम की राशि की मांग की बैंक वालो ने  अड़तीस वर्षीय मुस्तफा को जोंकी माध्यम वर्गीय परिवार से हैं उनको बधाई देते हुए इनाम की राशि लेने के लिए कहा ।
करोड़पतिकेरल सरकार की यह अब तक की सबसे बड़ी इनामी लॉटरी है। लॉटरी के विजेता बनकर इनाम की इस राशि को पाने वाले मुस्तफा न केवल धनवान बने बल्कि काफी मशहूर भी हो गए हैं।
करोड़पतिजी हाँ जब मुस्तफा के गांव के लोगो को यह पता चला की उसकी दस करोड़ की लॉटरी निकली है तब वह मुस्तफा को बधाई देने के लिए उसके घर पहुँचने लगे और उसके साथ सेल्फी भी लेने लगे। अब इसे किस्मत का खेल कहें या भगवन की कृपा। रातोरात एक मध्यमवर्गी पिकअपमैन करोड़पति बन गया कल तक जो इंसान गुमनाम भीड़ का हिस्सा था आज वो ही भीड़ उसे अपने से अलग कर के उसे सम्मान की नज़रो से देखती है।
जतिन शर्मा