BREAKING NEWS

UP : सोनभद्र में जमीनी विवाद को लेकर हुई हिंसक झड़प में 9 की मौत, CM योगी ने जांच के दिए निर्देश ◾उत्तराखंड से बीजेपी विधायक प्रणव सिंह चैम्पियन 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित ◾व्हिप को निष्प्रभावी करने वाले SC के फैसले ने खराब न्यायिक मिसाल पेश की : कांग्रेस◾इंच-इंच जमीन से अवैध प्रवासियों को करेंगे बाहर : अमित शाह◾चीन-भारत सीमा पर दोनों देशों के सुरक्षा बलों द्वारा बरता जा रहा है संयम : राजनाथ◾पीछे हटने का सवाल नहीं, विधानसभा की कार्यवाही में नहीं लेंगे हिस्सा : कर्नाटक के बागी विधायक◾मुंबई आतंकवादी हमलों का मास्टरमाइंड हाफिज सईद लाहौर से गिरफ्तार◾सुप्रीम कोर्ट का फैसला असंतुष्ट विधायकों के लिए नैतिक जीत : येदियुरप्पा◾कर्नाटक संकट : विधानसभा अध्यक्ष बोले- संवैधानिक सिद्धांतों का करुंगा पालन◾कर्नाटक संकट : SC ने कहा-बागी विधायकों के इस्तीफों पर स्पीकर ही करेंगे फैसला◾जम्मू एवं कश्मीर : सोपोर में सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़◾पूर्व सपा सांसद अतीक अहमद के घर और दफ्तर पर CBI की छापेमारी◾समाजवादी पार्टी को सता रही है मुस्लिम वोट बैंक संजोने की चिंता◾मुंबई में इमारत गिरने से अभी तक 14 लोगों की मौत, सर्च ऑपरेशन जारी ◾असम, बिहार में बाढ़ से 55 लोगों की मौत, उत्तर प्रदेश में वर्षा जनित हादसों में 14 की मौत ◾अनुसुइया उइके छत्तीसगढ़ की, हरिचंदन आंध्र के राज्यपाल नियुक्त◾देश के कई हिस्सों में दिखेगा चंद्र ग्रहण, करीब एक बजकर 31 मिनट शुरू और चार बजकर 20 मिनट पर होगा खत्म◾बनगांव में भाजपा, TMC के बीच संघर्ष, निषेधाज्ञा लागू ◾चंद्रग्रहण : सूतक काल के दौरान बंद रहेंगे मंदिर के कपाट ◾राष्ट्रपति उच्चतम न्यायालय की नई सौध इमारत का करेंगे उद्घाटन◾

दिलचस्प खबरें

जानिए, क्या है शंख का धार्मिक एवं वैज्ञानिक महत्व

हिंदु धर्म में शंख का काफी ज्यादा महत्व होता है। मुख्य रूप से शंख समुद्री जीव का ढांचा होता है। ऐसा माना जाता है कि शंख की उत्पत्ति समुद्र से हुई है और कई सारे लोग का कहना तो यह भी है कि ये लक्ष्मी जी का भाई है। कहा जाता है कि जिस जगह शंख होता है वहां पर लक्ष्मी जरूर होती हैं। तभी मंगल कार्यो के दौरान शंख बजाना शुभ होता है। घर में पूजा के वक्त वेदी पर शंख की स्थापना करी जाती है। शंख को दीपावली,होली,नवरात्रि,आदि शुभ मुहूर्त में स्थापित किया जाना चाहिए। 




वैज्ञानिक रूप से शंख का महत्व

1.विज्ञान के मुताबिक शंख की आवाज जरूरी होती है।
2.वैज्ञानिक के मुताबिक शंख-ध्वानि से वातावरण का परिष्कार होता है।
3.शंख की ध्वानि से कीटाणुओं का नाश होता है।
4.शंख के अंदर चूने का पानी भरकर पीने से कैल्शियम की कमी दूर हो जाती है।
5.शंख बजाने से ह्दय रोग की परेशानियों का खत्मा हो जाता है।
6.शंख बजाने से वाणी दोष से मुक्ति मिल जाती है।

कितने प्रकार के होते हैं शंख

बता दें कि शंख कई प्रकार के होते हैं और सभी प्रकार के शंखों की विशेषता और पूजन-पद्घति अलग है। वैसे शंख की आकृति के आधार पर ये तीन प्रकार के होते हैं। दक्षिणावृत्ति शंख,मध्यावृत्ति शंख तथा वामावृत्ति शंख। 

सामान्य रूप से कैसे करें शंख का प्रयोग

1.सफेद रंग का शंख लाएं।
2.इसको गंगाजल और दूध से धोएं।
3.इसके बाद इसे गुलाबी कपड़े में लपेट कर इसकी पूजा वाली जगह पर रखें।
4.सुबह के समय पूजा करते समय इसे तीन बार बजाएं।
5.बजाने के बाद इसको वहीं धोकर रख दें।



शंख का प्रयोग करते समय रखें ये सावधानियां

1.शंख का इस्तेमाल करके भी उसे किसी वस्त्र या आसन पर ही रखें।
2.केवल सुबह के समय यानि संध्या काल में ही शंख बजाएं,हर समय शंख न बजाएं।
3.शंख का इस्तेेमाल करने के बाद धोकर ही रखें,किसी दूसरे को न अपना शंख दे और ना ही दूसरे व्यक्ति का शंख प्रयोग करे।