BREAKING NEWS

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता ने मरने से पहले कहा-'मुझे बचाओ, मैं मरना नहीं चाहतीं' ◾उन्नाव बलात्कार पीड़िता युवती का शव उसके गांव लाया गया ◾राम मंदिर के ट्रस्ट में संघ प्रमुख भागवत को नहीं होना चाहिए : विहिप◾मेरी मानसिक ताकत तोड़ना चाहती है केंद्र सरकार : चिदंबरम ◾भारत की पहचान 'दुष्कर्म राजधानी' के रूप में बन गई है : राहुल◾TOP 20 NEWS 7 DEC : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा का नारा 'अबकी बार, तीन पार' होगा : केजरीवाल◾एनआरसी के खिलाफ कल जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करेगी पार्टी : संजय सिंह◾राकांपा नेता उमाशंकर यादव बोले- नैतिकता के आधार पर तत्काल इस्तीफा दें CM योगी◾बलात्कारी के लिए मृत्युदंड से सख्त सजा कुछ नहीं हो सकती, पालक भी जिम्मेदारी समझें : स्मृति ईरानी◾CM केजरीवाल ने उन्नाव बलात्कार पीड़िता की मौत को बताया शर्मनाक, ट्वीट कर कही ये बात ◾बलात्कार की घटनाओं पर स्वत: संज्ञान लें सुप्रीम कोर्ट : मायावती◾PM मोदी, अमित शाह और अजीत डोभाल पुणे में शीर्ष पुलिस अधिकारियों के सम्मेलन में हुए शामिल ◾केरल में बोले राहुल गांधी- महिलाओं के खिलाफ हिंसा और ज्यादतियों में हुई बढ़ोतरी◾सशस्त्र सेना झंडा दिवस के अवसर PM मोदी ने लोगों से किया अनुरोध, बोले- सशस्त्र बल के कल्याण के लिए योगदान दें◾उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के विरोध में BJP मुख्यालय पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन, पुलिस ने किया लाठीचार्ज◾उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के बाद विधानसभा के बाहर धरने पर बैठे अखिलेश यादव, कहा- वो जिंदा रहना चाहती थी◾उन्नाव पीड़िता की मौत पर बोली स्वाति मालीवाल- सरकार बलात्कार पीड़िताओं के प्रति असंवेदनशील ◾उन्नाव बलात्कार पीड़िता की मौत पर बोली प्रियंका गांधी- यह हम सबकी नाकामयाबी है हम उसे न्याय नहीं दिला पाए◾उन्नाव रेप केस: बुजुर्ग पिता की गुहार, बेटी के गुनहगारों को मिले मौत की सजा◾

दिलचस्प खबरें

जानें क्यों है शादी की पहली रात पर दूध पिलाने का प्रचलन

 0

सुहागरात अहम और आखिरी पड़ाव शादी-विवाह का होता है। नवविवाहित जोड़े अपने गृहस्‍थ जीवन की शुरुआत इसी आखिरी पड़ाव के बाद शुरु करते हैं। कई तरह के सपने अपने मन में सुहागरात को लेकर नवविवाहित जोड़े बुन लेते हैं। नवविवाहित जोड़े कई तरह की कोशिश करते हैं अपनी जिंदगी की इस समय को स्पेशल बनाने के लिए। 

सुहागरात की रात को भरा हुआ दूध का गिलास पीना जरूरी होता है। ऐसा कहा जाता है कि यह एक रस्म होती है। चलिए जाते हैं कि दूध से भरा हुआ ग्लास आखिर सुहागरात पर क्यों पिलाया जाता है। क्या होते हैं इसके फायदे। 

क्या है परंपरा?


हमारे ग्रंथों में बताया गया है कि नवविवाहित जोड़ों को शादी की रात दूध दिया जाता है जो कि एक परंपरा है। केसर और बादाम इस दूध में डाले जोते हैं। कई तरह से यह दूध बनाया जाता है। जैसे बादाम और काली मिर्च ही डाले जाते हैं या फिर सिर्फ बादाम को पीसकर डालते हैं या फिर सौंफ का रस दूध में मिला देते हैं। इन अलग-अगल तरीकों से दूध बनाया जाता है। 

यह शुभ माना जाता है


हिंदू धर्म के मुताबिक, दूध एक शुद्ध पदार्थ है और इसे बहुत शुभ माना गया है। क्योंकि दंपत्ति अपने नए जीवन की शुरुआत कर रहे हैं, इसलिए दूध उन्हें दिया जाता है। 

ये मूल रूप से किस जगह से आया है?


कई महशूर ग्रंथों के मुताबिक,शारिरीक संबंध बनाने के दौरान इन चीजों को ऊर्जा बढ़ाने के लिए शामिल किया गया था। नवविवाहित कपल की सुहागरात का अनुभव बढ़ाने के लिए इसे शामिल किया गया था। दूध में शहद, चीनी, हल्दी, काली मिर्च में सौफ के रस की विविधताएं इसके कारण जोड़े के रिश्ते बेहतर बनते हैं। 

क्यों है ये मिश्रण?


शादी की भागदौड़ के बाद दूध, केसर और बादाम नवविवाहित को दिए जाते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि बादाम और दूध दोनों में प्रोटीन की मात्रा होती है जो शरीर को ताकत प्रदान करते हैं। टेस्टोस्टेरोन और एस्ट्रोजन जैसे हार्मोन बनाने के लिए भी प्रोटीन की आवश्यकता होती है। 

कामोत्तेजक 


इसे कामोत्तेजक भी कहा जाता है। दूध, केसर और बादाम एक शक्तिशाली संयोजन है जो शरीर को ऊर्जा प्रदान करते हैं।