शिक्षा क्षेत्र में अव्यवस्थाओं को लेकर विवादों में रहने वाला बिहार एक बार फिर राजधानी पटना के एक मगध महिला कॉलेज के जारी किये गए नियम की वजह से चर्चा में आया है।

कॉलेज ने कैंपस में जींस और पटियाला सूट पहनकर आने पर प्रतिबंद लगा दिया है। साथ ही क्लासरूम में मोबाइल फोन लाने पर प्रतिबंद है। कॉलेज में ड्रेस कोड लागू है। सभी विभाग को अलग-अलग एप्रन दी गई है, लेकिन छात्राएं इसे फॉलो नहीं कर रही थीं।

पटना के मगध महिला कॉलेज के प्रबंधन ने कॉलेज कैंपस में कई नए परिवर्तन करते हुए नियमावली में ड्रेस कोड से जुड़ा यह फरमान जोड़ा है। इसमें लिखा गया है कि छात्राओं को कैंपस में जींस या पटियाला सूट पहनकर नहीं आना है। इसके अलावा कैंपस में मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर भी रोक लगा दी गई है और कैंपस में मोबाइल का इस्तेमाल करने वाली लड़कियों पर 1000 रुपये का फाइन लगाया जाएगा

।बतादें की जनवरी 2018 नया ड्रेस कोड जारी कर दिया जाएगा। प्राचार्या ने छात्राओं को निर्देश दिया कि एक हफ्ते में उन्हें कुर्ती और सलवार सिलवा लेनी है। वही छात्राओं ने मांग की कि उन्हें कॉलेज यूनिफॉर्म मिले। प्राचार्या ने इसमें अपनी सहमति दी और कहा कि जनवरी में कॉलेज खुलते ही नई यूनिफार्म छात्राओं को मिल जाएगी। इसके लिए ड्रेस की नाप छुटिट्यों के पहले ले ली जाएगी।

तब तक छात्राओं को जींस नहीं पहनना है। कुर्ती और सलवार में आना है। कॉलेज की प्रधानाचार्या शशि शर्मा ने कहा, ‘ड्रेस कोड से जुड़े यह नियम सामाजिक समानता लाने के लिए लागू किए गए है। मुस्लिम लड़कियां विरोध नहीं करतीं इसलिए उन्होंने विरोध नहीं किया। हिंदू लड़कियां जैसे कपड़े पहनती हैं, वे असहज करने वाले हैं।’ वही कॉलेज की जनरल सेक्रेटरी लैला काजमी ने कहा है कि जींन पर बैन लगाना पुराना नियम है। जबकि कॉलेज में मोबइल फोन पहले से ही बैन हैं।

 लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।