BREAKING NEWS

जन्मदिन पर PM मोदी ने मां हीराबेन से की मुलाकात, साथ में खाया खाना◾गृह मंत्री अमित शाह बोले- देश की सुरक्षा को लेकर कोई समझौता बर्दाश्त नहीं ◾आज देश सरदार पटेल के एक भारत-श्रेष्ठ भारत के सपने को साकार होते हुए देख रहा है : PM मोदी◾मायावती ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- गैर भरोसेमंद और धोखेबाज है◾शारदा चिट फंड घोटाला : कोलकाता HC ने राजीव कुमार की अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई से किया इनकार◾कपिल सिब्बल ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, कहा- कश्मीर में हालात सामान्य तो फारुक अब्दुल्ला गिरफ्तार क्यों ?◾मंदी की मार को लेकर जिम्मेदारी से बचना चाहती है बीजेपी सरकार : प्रियंका गांधी◾भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों से जल्द ही करूंगा मुलाकात : डोनाल्ड ट्रंप ◾राजस्थान : BSP को झटका, छह विधायकों ने थामा कांग्रेस का हाथ ◾प्रधानमंत्री मोदी का 69वां जन्मदिन, राष्ट्रपति कोविंद सहित विपक्ष के अन्य नेताओं ने दी शुभकामनाएं◾सरदार सरोवर का गेट खोलने की मांग को लेकर मेधा पाटकर मंगलवार को निकालेंगी रैली ◾PM मोदी अपने जन्मदिन के मौके पर नर्मदा बांध का करेंगे दौरा ◾नितिन गडकरी बोले- सिर्फ आरक्षण से किसी समुदाय का विकास सुनिश्चित नहीं हो सकता ◾TOP 20 NEWS 16 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर बोले- जल्द ही पूरी दुनिया में उपलब्ध होगा दूरदर्शन इंडिया◾योगी सरकार को इलाहाबाद HC से झटका, 17 OBC जातियों को SC में शामिल करने पर रोक◾शरद पवार का ऐलान- महाराष्ट्र में 125-125 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी NCP और कांग्रेस◾हिंदी को लेकर अमित शाह के बयान पर बोले कमल हासन - कोई 'शाह' नहीं तोड़ सकता, 1950 का वादा◾CJI रंजन गोगोई बोले-जरूरत हुई तो मैं खुद जाऊंगा जम्मू-कश्मीर हाई कोर्ट◾गंगवार के बयान पर प्रियंका का वार, कहा-मंत्री जी, 5 साल में कितने उत्तर भारतीयों को दी हैं नौकरियां◾

दिलचस्प खबरें

भारत के इस मंदिर में भगवान शिव की पूजा से पहले होती है रावण की आराधना

दुनिया भर में कई मंदिर हैं जिनके पीछे कहानियां बहुत ही अनोखी और दिलचस्प है। भगवान शिव के दुनिया भर में कई सारे मंदिर हैं और उन मंदिरों में बहुत श्रद्धा से अराधना की जाती है। लेकिन भारत में एक ऐसा भी शिव जी का मंदिर है जहां पर पहले रावण की पूजा होती है उसके बाद भगवान शिव की पूजा करते हैं। इसके पीछे भी एक रोचक कहानी है जिसके बारे में आज हम आपको बताएंगे। इस मंदिर का नाम कमलनाथ महादेव है। यह मंदिर उदयपुर से 80 किलोमीटर की दूरी पर झाड़ोल तहसील में आवारगढ़ की जो पहाडिय़ां हैं वहां पर शिवजी का यह मंदिर है।

 

पुराणों के मुताबिक लंकापति ने खुद शिवजी के इस मंदिर की स्थापना कराई थी। इतना ही नहीं पुराणों में यह भी बताया गया है कि इसी जगह पर भगवान शिव को रावण ने अपना सिर अग्निकुंड में समर्पित कर दिया था। भगवान शिव रावण की इस भक्ति से प्रसन्न हो गए थे और उन्होंने उसकी नाभि पर अमृत कुंड की स्थापना कर दी थी।

भगवान शिव से पहले इस मंदिर में होती है रावण की पूजा

इस मंदिर में भगवान शिव से पहले रावण की पूजा की जाती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इस मंदिर की यह मान्यता है कि अगर रावण की पूजा भगवान शिवजी से पहले नहीं हुई तो पूजा व्यर्थ हो जाती है। पुराणों में इस मंदिर के बारे में एक अनोखी कहानी लिखी है। उस कहानी के मुताबिक भगवान शिव को एक बार रावण ने प्रसन्न करने के लिए कैलाश पर्वत पर चले गए थे और वहां जाकर तपस्या की।

भगवान शिव रावण की इस कठोर तपस्या से खुश हो गए थे और उन्होंने उससे वरदान मांगने को कहा था। उसके बाद भगवान शिव से रावण ने वरदान के रूप में लंका चलने का आग्रह किया। रावण के साथ भगवान शिव शिवलिंग के रूप में जाने के लिए तैयार हो गए थे।

 

रावण से भगवान शिव ने यह शर्त रखी थी कि अगर तुमने लंका पहुंचने से पहले किसी भी जगह पर शिवलिंग धरती पर रख दिया तो मैं उसी जगह पर स्थापित हो जाउंगा। हालांकि लंका का रास्ता कैलाश पर्वत से बहुत दूर पर था। जब रावण रास्ते में शिवलिंग ले जा रहा था तो वह थक गया और उसने आराम के लिए एक जगह पर शिवलिंग को धरती पर रख दिया।

जब रावण ने आराम कर लिया तो उसने शिवलिंग को उठाना चाहा लेकिन वह शिवलिंग वहां से नहीं हिला। उस समय रावण को अपनी गलती का आभास हुआ और उसने पश्चाताप के लिए फिर से वहीं पर तपस्या करनी शुरू कर दी। रावण भगवान शिव की पूजा दिन में एक बार 100 कमल के फूलों से करता था। भगवान शिव की इस तरह पूजा करते हुए रावण को साढ़े बारह साल हो गए थे।

रावण की तपस्या केसफल होने के बारे में जब ब्रह्मा जी को पता चला था तो उन्होंने उसकी तपस्या विफल करने के लिए कमल का एक फूल कम कर दिया था। भगवान शिव की पूजा के लिए रावण को एक फूल नहीं मिला तो उसने भगवान शिव को अपना सिर ही काटकर अर्पित कर दिया था। भगवान शिव रावण की इस भक्ति से प्रसन्न हो गए थे और उन्होंने उसे वरदान के रूप में उसकी नाभि पर अमृत कुंड की स्थापना कर दी। इसके साथ ही भगवान शिव ने कहा कि इस स्थान को कमलनाथ महादेव के नाम से जाना जाएगा।

इस मंदिर की तर्ज पर संसद भवन को बनाया गया है, यहां पर कभी होती थी तंत्र साधना