BREAKING NEWS

प्रधानमंत्री मोदी के आगमन से पहले छावनी में तब्दील हुआ प्रयागराज, जानिये 'विश्व रिकार्ड' बनाने का पूरा कार्यक्रम ◾ ताहिर हुसैन के कारखाने में पहुंची दिल्ली फोरेंसिक टीम, जुटाए हिंसा से जुड़े सबूत◾जानिये कौन है IB अफसर की हत्या के आरोपी ताहिर हुसैन, 20 साल पहले अमरोहा से मजदूरी करने आया था दिल्ली ◾एसएन श्रीवास्तव नियुक्त किये गए दिल्ली के नए पुलिस कमिश्नर, कल संभालेंगे पदभार ◾दिल्ली हिंसा : मरने वालों का आंकड़ा हुआ 39, कमिश्नर एस. एन. श्रीवास्तव ने किया हिंसाग्रस्त इलाकों का दौरा ◾जुमे की नमाज़ के बाद जामिया में मार्च , दिल्ली पुलिस के लिए चुनौती भरा दिन◾CAA को लेकर आज भुवनेश्वर में अमित शाह करेंगे जनसभा को सम्बोधित ◾CAA हिंसा : उत्तर-पूर्वी दिल्ली में अब हालात सामान्य, जुम्मे के मद्देनजर सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम कायम◾CAA को लेकर BJP अध्यक्ष जेपी नड्डा बोले - कांग्रेस जो नहीं कर सकी, PM मोदी ने कर दिखाया◾Coronavirus : चीन में 44 और लोगों के मौत की पुष्टि, दक्षिण कोरिया में 2,000 से अधिक लोग पाए गए संक्रमित ◾भारत ने तुर्की को उसके आंतरिक मामलों पर टिप्पणी करने से बचने की सलाह दी◾राष्ट्रपति कोविंद 28 फरवरी से 2 मार्च तक झारखंड और छत्तीसगढ़ के दौरे पर रहेंगे◾संजय राउत ने BJP पर साधा निशाना , कहा - दिल्ली हिंसा में जल रही थी तो केंद्र सरकार क्या कर रही थी ?◾PM मोदी 29 फरवरी को बुंदेलखंड एक्स्प्रेस-वे की रखेंगे नींव◾दिल्ली हिंसा : SIT ने शुरू की जांच, मीडिया और चश्मदीदों से मांगे 7 दिन में सबूत◾PM मोदी प्रयागराज में 26,526 दिव्यांगों, बुजुर्गों को बांटेंगे उपकरण◾ओडिशा : 28 फरवरी को अमित शाह करेंगे CAA के समर्थन में रैली को संबोधित◾SP आजम खान के बेटे अब्दुल्ला की विधानसभा सदस्यता खत्म◾AAP पार्टी ने पार्षद ताहिर हुसैन को किया सस्पेंड, दिल्ली हिंसा में मृतक संख्या 38 पहुंची◾दिल्ली हिंसा : अंकित शर्मा की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में कई सनसनीखेज खुलासे, चाकू मारकर की गई थी हत्या◾

जानें इस बार कब है करवा चौथ,ये है मुहूर्त,पूजा की विधि और खास संयोग

हर साल करवा चौथ कार्तिक मास की चतुर्थी तिथि के दिन मनाया जाता है। इस बार करवा चौथ का व्रत 17 अक्टूबर यानी गुरुवार के दिन पड़ रहा है। करवा चौथ का व्रत महिलाएं बिना पानी पिए रखती हैं साथ ही रात के समय चांद निकलने के बाद व्रत का पाराण करती हैं। सामाजिक मान्यता यह भी है कि अगर सुहागिन महिलाएं करवा चौथ व्रत का विधिवत पालन करें तो उनके पति की आयु लंबी हो जाती है।

 इसके साथ ही वैवाहिक जीवन भी खुशहाल रहता है। करवा चौथ का व्रत सूर्योदय होने से पहले आरंभ किया जाता है और सूर्यास्त के बाद यानी चांद निकलने तक रखा जाता है। इस व्रत को लेकर एक अन्य मान्यता यह भी है कि इसमें सास अपनी बहू को सरगी देती है जिसे लेकर व्रती महिला व्रत की शुरूआत करती है। 

ये खास संयोग बन रहा है

इस बार करवा चौथ पर रोहिणी नक्षत्र और मंगल का विशेष शुभ संयोग बन रहा है। इस बार व्रत पर बनने वाला यह खास संयोग 70 साल बाद बन रहा है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार करवा चौथ पर रोहिणी नक्षत्र और मंगल का योग ज्यादा मंगलकारी है। इसके अलावा इस करवा चौथ रोहिणी नक्षत्र के साथ-साथ सत्यभामा और मार्कण्डेय योग भी बन रहा है जो बाकी योगों की तुलना में बेहद शुभ है। यह शुभ संयोग भगवान श्रीकृष्ण और सत्यभामा के मिलन के समय बना था। 

करवा चौथ तिथि

17 अक्टूबर, 2019, दिन-गुरूवार करवा चौथ पूजा मुहूर्त- शाम 05 बजकर 50 मिनट से 07 बजकर 05 मिनट तक। कुल अवधि (पूजा के लिए)- 01 घंटा 15 मिनट करवा चौथ व्रत समय- सुबह 06 बजकर 23 मिनट से रात 08 बजकर 16 मिनट तक। व्रत की अवधि- 13 घंटे 15 मिनट। करवा चौथ के दिन चाँद निकलने का समय- 08 बजकर 16 मिनट।

करवाचौथ व्रत की पूजा विधि


करवा चौथ के दिन सुबह सूर्योदय से पहले उठे। सरगी के रूप में मिला हुआ भोजन करें इसके बाद पानी पीएं और भगवान की पूजा करके  निर्जला व्रत का संकल्प लें। करवा चौथ के पूरे दिन बिना पानी-अन्न कुछ खाएं बिना व्रत रखें इसके बाद शाम को चांद देखने के बाद अपना व्रत खोलें। पूजा के लिए शाम के समय एक मिट्टी की वेदी पर सभी देवताओं की स्थापना कर इसमें करवे रखें। 



अब एक थाली में धूप,दीप,चन्दन,रोली,सिंदूर को रख लें और दीपक जलाएं। पूजा चांद निकलने के एक घंटे पहले शुरू कर देनी चाहिए। इस व्रत में पूजन के समय करवा चौथ कथा जरूर सुनें। 



चांद को छलनी से देखने के बाद अध्र्य देकर चन्द्रमा की पूजा करें। चांद को देखने के बाद पति के हाथ से जल पीकर व्रत खोलें। करवा चौथ के दिन बहुंए अपनी सास को थाली में खाना,मिठाई,फल,मेवे,रुपए आदि देकर उनका आशीर्वाद जरूर लें। 


बतातें चले कि करवा चौथ और संकष्टी चतुर्थी एक ही दिन पड़ते हैं।  संकष्टी चतुर्थी पर भगवान गणेश की पूजा की जाती है। इस व्रत में शादीशुदा महिलाएं अपने पति की लंबी आयु की कामना के लिए निर्जला व्रत रखकर भगवान शिव,पार्वती और कार्तिकेय की पूजा करती हैं।