BREAKING NEWS

शिवराज के मंत्री ने बढ़ती महंगाई के लिए नेहरू पर फोड़ा ठीकरा, कहा-1947 के भाषण से शुरू हुई अर्थव्यवस्था की बदहाली◾संसद में पेगासस व किसानों के मुद्दे पर चर्चा करवाने के लिए विपक्षी दलों ने किया राष्ट्रपति से दखल देने का आग्रह◾मोदी कैबिनेट से हटाए जाने के बाद बाबुल सुप्रियो ने राजनीति से संन्यास का किया ऐलान, बोले- समाज सेवा के लिए आया था◾राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह बने जेडीयू के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष, जानिए नीतीश के करीबी का राजनीतिक संघर्ष◾UP बोर्ड एग्जाम का रिजल्ट जारी, 10वीं में 99.53% और 12वीं में 97.88% स्टूडेंट्स पास ◾टोक्यो ओलंपिक 2020 : पीवी सिंधु फाइनल की रेस से हुई बाहर, मेडल की उम्मीद अब भी बरकरार◾मिजोरम पुलिस की FIR पर CM सरमा का ट्वीट, 'किसी भी जांच में शामिल होने पर होगी खुशी'◾ओलंपिक मुक्केबाजी : क्वार्टर फाइनल में हारीं पूजा रानी, पहले ही मुकाबले में हारकर बाहर हुए अमित पंघाल ◾चुनावों से पहले BJP खेल रही आरक्षण का कार्ड, जानिए UP समेत किन 5 राज्यों में गूंजेगा OBC रिजर्वेशन का मुद्दा ◾आतंकी सरगना मसूद अजहर का भतीजा 'लंबू' मुठभेड़ में ढेर, पुलवामा हमले की साजिश में था शामिल ◾असम और मिजोरम के बीच हुई हिंसा पर बोले राहुल- देश में दंगों को बीज की तरह बोया जा रहा है◾अखिलेश यादव ने भाजपा के कार्यकर्ताओं को बताया ई-रावण, सोशल मीडिया पर नफरत फैलाने का लगाया आरोप ◾'UPA सरकार ने कभी पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा नहीं दिया', BJP का कांग्रेस पर पलटवार◾भारत और चीन के बीच 12वें दौर की सैन्य वार्ता, हॉट स्प्रिंग और गोगरा इलाकों से गतिरोध खत्म करने पर जोर ◾पहले ओलंपिक की घबराहट और अवसाद के बावजूद तोक्यो में कमलप्रीत ने बिखेरी हौसले की चमक ◾ओलंपिक: वंदना की हैट्रिक से भारतीय महिला हॉकी टीम की रोमांचक जीत, क्वार्टर फाइनल की उम्मीदें बरकरार ◾IPS प्रोबेशनर्स से संवाद करते हुए बोले PM मोदी-पुलिस की नकारात्मक छवि खत्म होनी चाहिए◾अगस्त में सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता संभालने के लिए पूरी तरह तैयार है भारत, आतंकवाद पर तेज होगा प्रहार◾अफगानिस्तान में UN पर तालिबान के हमले की गुटेरेस ने की निंदा, कहा- अंतर्राष्ट्रीय कानून के तहत यह प्रतिबंधित हैं◾जम्मू-कश्मीर : आतंकियों के निशाने पर घाटी, राजौरी में डिफ्यूज किया गया IED◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

Karwa Chauth 2020: करवा चौथ के व्रत में इन 5 बातों का ध्यान विशेष रूप से रखें, वर्ना अधूरा रहेगा व्रत

इस बार 4 नवंबर बुधवार को करवा चौथ का व्रत पड़ रहा है। कार्तिक मास के कृष्‍ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को ही हर साल करवा चौथ का व्रत आता है। अपने पति की दीर्घायु और सुखी जीवन के लिए सुहागिन महिलाएं इस दिन व्रत रखती हैं। करवा चौथ का व्रत सुहागिन महिलाओं के लिए बहुत अहम होता है। ऐसी पांच बातें होती हैं जिनका ध्यान करवा चौथ का व्रत रखने वाली सुहागिन महिलाओं को रखना जरूरी होता है। चलिए इन बातों के बारे में आपको बताते हैं। 

लाल रंग के वस्‍त्र पहनें

सुहाग की निशानी लाल रंग माना गया है। करवा चौथ के दिन लाल रंग के कपड़े इसलिए महिलाओं को पहनने चाहिए। इसलिए महिलाएं अपनी शादी का लहंगा या कोई भी लाल रंग का वस्‍त्र इस दिन धारण करें। दरअसल प्रेम का प्रतीक लाल रंग को मानते हैं। 

अपनी बहू को सरगी सास दे

सरगी का महत्व करवा चौथ के व्रत पर बहुत होता है। करवा चौथ के व्रत की शुरुआत सरगी के बिना नहीं होती है। सास अपनी बहू को करवा चौथ के व्रत की सरगी देती है। व्रत के शुरु होने से पहले यह दी जाती है। कुछ मिठाइयां,कपड़े और श्रृंगार का सामान इस सरगी में रखा जाता है। करवा चौथ के दिन सूरज निकलने से पहले चार बजे सुबह उठकर बहू इस सरगी को खाती है। उसके बाद ही करवा चौथ के व्रत की शुरुआत होती है। 

बाया भेजे अपनी बेटी को मां

सरगी के साथ-साथ बाया भी करवा चौथ पर बहुत अहम होता है। करवा चौथ को शाम के समय पूजा शुरु होने से पहले अपनी बेटी को बाया उसके घर या फिर उसे मां देती है। कुछ मिठाईयां, गिफ्ट, ड्राई फुट्स आदि यह सब बाया में रखे जाते हैं। 

करवा चौथ के व्रत की कथा एकाग्र होकर सुनें

करवा चौथ पर व्रत और पूजा दोनों को बहुत महत्व होता है। करवा चौथ की कथ का भी महत्व उतना ही माना गया है। इसी वजह से  करवा चौथ के व्रत की कथा को इस दिन बहुत ही एकाग्र से सुननी होती है। दरअसल कई ऐसी महिलाएं होती हैं जो एकचित्त होकर इस कथा को नहीं सुनती हैं। ऐसा लगता है कि उनका मन पूजा की बजाए कहीं और पर है। शास्‍त्रों के मुताबिक, इसे सही नहीं माना गया है। इसलिए इस व्रत की कथा को एकाग्र होकर महिलाओं को सुनना होता है। 

गीत गाएं करवा चौथ के दिन शाम को

हमारे आस-पास की सभी महिलाएं एक जगह पर एकत्रित होकर करवा चौथ की पूजा करती हैं। लेकिन महिलाओं को चांद निकलने तक गीत गाने चाहिए। क्योंकि ऐसा करना शुभ माना गया है। इसलिए इस दिन आप भी अपनी आस-पास की महिलाओं के साथ गीत गाएं।