BREAKING NEWS

दुखद और शर्मनाक है बिहार में चमकी बुखार से हुई बच्चों की मौत : PM मोदी ◾इंदौर: BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय के बेटे आकाश ने नगर निगम अफसरों को बल्ले से पीटा◾कांग्रेस ने 2014 से देश की विकास यात्रा शुरू करने के दावे पर मोदी सरकार को लिया आड़े हाथ ◾SC ने राजीव सक्सेना को विदेश जाने की अनुमति देने वाले दिल्ली HC के फैसले पर लगाई रोक ◾अध्यक्ष पद छोड़ने के रुख पर कायम राहुल गांधी, कांग्रेस सांसदों ने नेतृत्व करते रहने का आग्रह किया◾जम्मू-कश्मीर: त्राल मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने एक आतंकी किया ढेर◾अमेरिकी विदेश मंत्री पोम्पिओ ने की PM मोदी से मुलाकात, अहम सामरिक मुद्दों पर हुई चर्चा ◾उत्तर प्रदेश में जनता 'जंगल राज' से पीड़ित और योगी सरकार बेपरवाह : कांग्रेस◾पश्चिम बंगाल : नमाज के विरोध में बीजेपी ने रोड पर किया हनुमान चालीसा का पाठ◾पटना : तेज तफ्तार SUV ने फुटपाथ पर सो रहे 4 बच्चों को कुचला, 3 की मौत◾UP: बहुजन नेताओं की नजर में भाई-भतीजावाद से BSP को होगा नुकसान !◾पुलवामा के त्राल में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ शुरू◾आज अमरनाथ दर्शन के साथ जम्मू-कश्मीर का दौरा शुरू करेंगे अमित शाह ◾आंध्र प्रदेश के पूर्व CM चंद्रबाबू नायडू के घर पर चली JCB◾TDP के दर्जन से ज्यादा विधायक BJP के संपर्क में ◾अमरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ पहुंचे भारत, आज PM मोदी से करेंगे मुलाकात !◾World Cup 2019 AUS vs ENG : ऑस्ट्रेलिया सेमीफाइनल में, इंग्लैंड गहरे संकट में◾राम रहीम की पैरोल पर निर्णय डीसी, एसपी की रिपोर्ट के बाद : खट्टर ◾लकीर छोटी करने की बजाय अपनी लकीर लंबी करने में विश्वास करते हैं : PM मोदी ◾Modi का 5 साल का कार्यकाल ‘सुपर इमरजेंसी’ का : ममता◾

दिलचस्प खबरें

इस वजह से रखा जाता है 16 सोमवार का व्रत,आप भी जानिए इसके पीछे की कहानी

भगवान शिवजी का दिन सोमवार के दिन को कहा जाता है। ज्योतिषियों के मुताबिक यदि सोमवार के दिन जो भी भक्त पूरी श्रद्घा से भगवान शिवजी की पूजा-अर्चना करता है तो उस इंसान पर भगवान शिवजी की कृपा हमेशा बरसती रहती है।\"\"

वहीं यही वह दिन होता है जब किसी स्त्री या फिर पुरुष को 16 सोमवार व्रत करने की सलाह दी जाती है। मान्यता है कि श्रावण के महीने में लगातार 16 सोमवार के व्रत करने से भगवान शिवजी खुश होते हैं। तो चालिए आज हम आपके लिए भी लेकर आए हैं सोमवार के दिन व्रत करने की पौराणिक कथा।

\"\"

माता पार्वती ने गुस्से में आकार दिया श्राप...

पौराणिक कथा के मुताबिक एक बार भगवान शिवजी माता पार्वती के साथ मृत्यु लोक में घूम रहे थे। उसी जगह पर माता पार्वती ने शिव मंदिर देखा तो वह दोनों वहीं आ गए और फिर वहीं पर रहने भी लग गए। एक दिन कि बात है जब माता पार्वती ने भगवान शिवजी को चौसर खेलने को बोला था।

\"\"

हुआ कुछ ऐसा कि तब वहां पर मंदिर का पुजारी भी आ गया। माता पार्वती ने पुजारी से पूछ लिया कि बताइए आप कौन विजयी होगा। पार्वती की इस बात का जवाब देते हुए पुजारी ने कहा कि शिवजी जीतेंगे। पुजारी की ये बात सुनकर माता पार्वती गुस्सा हो गई। लेकिन वह कुछ बोली नहीं थी।

\"\"

खेल शुरू हुआ और माता पार्वती जीत भी गई। इस खेल को जीतने के बाद माता पार्वती ने पुजारी को श्राप देने का सोचा लेकिन शिवजी ने माता पार्वती को समझाया कि ऐसा करना उचित नहीं है। शिवजी ने माता पार्वती को बताया कि खेल में तो किसी भी हार या जीत हो सकती है। इसमें पुजारी की कोई गलती नहीं है। लेकिन माता पार्वती ने शिवजी की बात भी नहीं मानी और पुजारी को श्राप दे दिया। माता पार्वती ने पुजारी जी को कोढ़ से पीडि़त होने का श्राप दिया था।

\"\"

पुजारी कोढ़ से पीडि़त भी हो गया। वहीं पुजारी मंदिर में एक अप्सरा आई उसने पुजारी को कोढ़ से पीडि़त देखा और पुजारी को सोलह सोमवार व्रत करने की सलाह दी। अप्सरा ने पुजारी को 16 सोमवार व्रत करने का विघि-विधान बताया। अप्सरा की बात सुनकर पुजारी ने 16 सोमवार के उपवास किए। जब माता पार्वती ने 16 सोमवार को व्रत रखने की बात को सुना तो वह काफी ज्यादा खुश हुई और इसी वजह से उन्होंने पुजारी के कोढ़ को खत्म कर दिया।

\"\"