BREAKING NEWS

जामिया हिंसा : कुछ नेताओं ने जांच की मांग की, तो कुछ ने प्रदर्शनकारियों को ‘‘अराजकतावादी’’ करार दिया ◾नागरिकता पर प्रदर्शन : जामिया, एएमयू में हिंसक प्रदर्शन, बंगाल में उबाल, असम में स्थिति में सुधार ◾दिल्ली में हिंसा को लेकर भाजपा और आप के बीच आरोप-प्रत्यारोप◾दक्षिणपूर्व दिल्ली के स्कूल सोमवार को बंद रहेंगे : सिसोदिया◾दिल्ली जामिया बवाल : चूक गया दिल्ली पुलिस का खुफिया तंत्र !◾उत्तर भारत में शीत लहर का प्रकोप जारी, उत्तराखंड में बर्फबारी से जुड़ी घटनाओं में तीन की मौत ◾AMU में छात्रों का हंगामा और पथराव: विश्वविद्यालय 5 जनवरी तक के लिए बंद ◾भाजपा सरकार ने पूर्वोत्तर और बंगाल के बाद दिल्ली को भी जलने के लिए छोड़ दिया है : कांग्रेस◾जामिया नगर में हिंसक झड़पें, तनाव बरकरार◾हेटमेयर और होप के शतक, वेस्टइंडीज की दमदार जीत ◾दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन◾केजरीवाल ने LG से बात की, शांति बहाल करने के लिए हरसंभव कदम उठाने का किया अनुरोध◾ग्रेटर नोएडा में बिरयानी विक्रेता की पिटाई, सभी आरोपी गिरफ्तार ◾नागरिकता कानून का विरोध : दिल्ली में आगजनी, हिंसा : पुलिसकर्मी जख्मी, बसों में आग लगाई◾केजरीवाल ने नागरिकता अधिनियम पर शांति की अपील की ◾TOP 20 NEWS 15 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾गुवाहाटी में पुलिस गोलीबारी में घायल हुए 2 और लोगों की हुई मौत, अब तक 4 की गई जान◾नागपुर में बोले फडणवीस- सावरकर पर टिप्पणी के लिए माफी मांगें राहुल गांधी◾कांग्रेस ने नागरिकता कानून को लेकर बवाल खड़ा किया : PM मोदी◾महाराष्ट्र: प्रदर्शन के बाद PMC के जमाकर्ता हिरासत में, CM उद्घव ने मदद का दिलाया भरोसा◾

दिलचस्प खबरें

बकरीद 2019: जानिए क्यों दी जाती है बकरे की कुर्बानी

 eid3

पूरे देशभर में आज बकरीद ईद का त्योहार धूमधाम से मनाया जा रहा है। इस्लामिक कैलेंडर के आखिरी महीने की दस तारीख को बकरीद का त्योहार होता है। तो आइए आप भी जान लीजिए आखिर बकरीद पर कुर्बानी क्यों दी जाती है? वैसे कुर्बानी की कहानी एक तरह से कुर्बानी का जज्बा होता है।

बता दें कि यादि हजरत इब्राहिम अल्लाह की इस मनोकामना को पूरा करने के लिए उनकी राह में अपने बेटे को कुर्बान करने के लिए तैयार नहीं होते तो शायद आज यह त्योहार मनाने की परंपरा शुरू ही नहीं होती। हजरत इब्राहिम अल्लाह को समर्पित ऐसे व्यक्ति थे,जो उनकी इच्छा को पूरा करने के लिए कोई भी बलिदान देने के लिए तैैयार रहा करते थे। ऐसा कहा जाता है कि एक बार कुछ ऐसा हुआ जब अल्लाह ने उनकी परीक्षा लेनी चाही और उसी के अनुरूप हजरत इब्राहिम को हुक्म दिया गया कि वह अपनी सबसे प्यारी चीज को अल्लाह की राह में कुर्बान कर दें। 

अल्लाह की इसी बात को सुनते हुए हजरत इब्राहिम ने अल्लाह की राह में अपने बेटे को कुरबान करने का निर्णय लिया। बेटे को कुर्बानी देते वक्त उसका प्यार उन पर हावी न हो जाए इसी वजह से उन्होंने अपनी आंखों पर पट्टी बांध ली थी। हजरत ने अल्लाह का नाम लेते हुए अपने बेटे के गले पर छूरी चला दी। जब उन्होंने अपनी आंखों से काली पट्टी हटाई तब उन्होंने देखा कि उनका बेटा उनके साथ में सही सलामत जिंदा खड़ा हुआ है उसकी जगह दुम्बा यानि बकरे जैसी शक्ल का जानवर कटा हुआ लेटा है। यही वजह है जब अल्लाह की राह में कुर्बानी की शुरूआती हुई। 

बकरे का पूरा गोश्त नहीं रख सकते...

बकरीद के त्योहार पर जिस जानवर की कुर्बानी होती है उसके पूरे गोश्त को अकेले परिवार के लिए नहीं रखा जाता है। पूरे गोश्त को तीन भागों में विभाजित किया जाता है। एक हिस्सा गरीबों को बांटा जाना बहुत जरूरी होता है। दूसरा हिस्सा अपने रिश्तेदारों को बांटा जाना चाहिए जबकि तीसरा हिस्सा घर में रखा जाना होता है। इतना ही नहीं कुर्बानी वाले जानवर का स्वस्थ होना सबसे ज्यादा जरूरी होता है। यदि वह बीमार है और आप उसकी कुर्बानी दे रहे हैं तो यह जायज नहीं होगा। मान्यता है कि जानवर के शरीर पर जितने बाल होते हैं,उनकी संख्या के बराबर नेकियां कुर्बानी करने वाले के हिस्से में लिखाी जाती है। 

ये वजह है शैतान पर पत्थर मारने की...

हज यात्रा के आखिरी दिन कुर्बानी देने के बाद रमीजमारात पहुंचकर शैतान को पत्थर मारने का जो रिवाज है,वह हजरत इब्राहिम से ही जुड़ी हुई है। ऐसा कहा जाता है कि जब हजरत इब्राहिम अपने बेटे को अल्लाह की राह में कुर्बानी देने के लिए चले तो शैतान ने उन्हें बहुत बरगलाने की कोशिश करी थी। यह वजह है हजयात्री शैतान के प्रतीकों को वहां पर पत्थर बरसातें हैं। 

क्या फर्क है ईद और बकरीद में?

ईद का त्योहार रमजान के पाक महीने के खत्म होने पर आता है। रमजान को इस्लाम का सबसे पवित्र महीना माना जाता है। इसमें 30 दिन के रोजे रखने होते हैं और फिर चांद को देखकर ईद मनाई जाती है। ईद के मौके पर सेवेइयां बनती हैं। इसके बाद बकरीद मनाई जाती है जिस पर गोश्त से बने पकावान ही खाने में परोसे जाते हैं।