BREAKING NEWS

किसानों ने दिल्ली को चारों तरफ से घेरने की दी चेतावनी, कहा- बुराड़ी कभी नहीं जाएंगे◾दिल्ली में लगातार दूसरे दिन संक्रमण के 4906 नए मामले की पुष्टि, 68 लोगों की मौत◾महबूबा मुफ्ती ने BJP पर साधा निशाना, बोलीं- मुसलमान आतंकवादी और सिख खालिस्तानी तो हिन्दुस्तानी कौन?◾दिल्ली पुलिस की बैरिकेटिंग गिराकर किसानों का जोरदार प्रदर्शन, कहा- सभी बॉर्डर और रोड ऐसे ही रहेंगे ब्लॉक ◾राहुल बोले- 'कृषि कानूनों को सही बताने वाले क्या खाक निकालेंगे हल', केंद्र ने बढ़ाई अदानी-अंबानी की आय◾अमित शाह की हुंकार, कहा- BJP से होगा हैदराबाद का नया मेयर, सत्ता में आए तो गिराएंगे अवैध निर्माण ◾अन्नदाआतों के समर्थन में सामने आए विपक्षी दल, राउत बोले- किसानों के साथ किया गया आतंकियों जैसा बर्ताव◾किसानों ने गृह मंत्री अमित शाह का ठुकराया प्रस्ताव, सत्येंद्र जैन बोले- बिना शर्त बात करे केंद्र ◾बॉर्डर पर हरकतों से बाज नहीं आ रहा पाक, जम्मू में देखा गया ड्रोन, BSF की फायरिंग के बाद लौटा वापस◾'मन की बात' में बोले पीएम मोदी- नए कृषि कानून से किसानों को मिले नए अधिकार और अवसर◾हैदराबाद निगम चुनावों में BJP ने झोंकी पूरी ताकत, 2023 के लिटमस टेस्ट की तरह साबित होंगे निगम चुनाव ◾गजियाबाद-दिल्ली बॉर्डर पर डटे किसान, राकेश टिकैत का ऐलान- नहीं जाएंगे बुराड़ी ◾बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा- कृषि कानूनों पर फिर से विचार करे केंद्र सरकार◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 94 लाख के करीब, 88 लाख से अधिक लोगों ने महामारी को दी मात ◾योगी के 'हैदराबाद को भाग्यनगर बनाने' वाले बयान पर ओवैसी का वार- नाम बदला तो नस्लें होंगी तबाह ◾वैश्विक स्तर पर कोरोना के मामले 6 करोड़ 20 लाख के पार, साढ़े 14 लाख लोगों की मौत ◾सिंधु बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन जारी, आगे की रणनीति के लिए आज फिर होगी बैठक ◾छत्तीसगढ़ में बारूदी सुरंग में विस्फोट, CRFP का अधिकारी शहीद, सात जवान घायल ◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾भाजपा नेता अनुराग ठाकुर बोले- J&K के लोग मतपत्र की राजनीति में विश्वास करते हैं, गोली की राजनीति में नहीं◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

जानें छोटी दिवाली की रात घर के मुख्य द्वार पर दीया जलाने के पीछे का रहस्य

हिंदू धर्म के अनुसार,दिवाली से एक दिन पहले छोटी दिवाली मनाई जाती है। दिवाली का पर्व इस साल 14 नवंबर है तो इसलिए 13 नवंबर शुक्रवार को छोटी दिवाली का पर्व मनाया जा रहा है। नरक चतुर्दशी के दिन छोटी दिवाली मनाते हैं। 

मान्यताओं के मुताबिक,घर के बुजुर्ग व्यक्ति द्वारा छोटी दिवाली की रात को पूरे घर में एक दीपक जलाकर घुमाया जाता है फिर घर के बाहर कहीं दूर उस दीपक को रख दिया जाता है। दीपक जलाने का विधान इस दिन मुख्य द्वार पर होता है मगर छोटी दिवाली पर दीपक क्यों जलाते हैं क्या आप जानते हैं। इसके पीछे पौराणिक कथाएं हैं वह आपको बताते हैं। 

दीया जलाया जाता है चांद न निकलने की वजह से

बता दें कि, अमावस्या की रात छोटी दिवाली से एक दिन पहले आती है। यमराज स्वामी अमावस्या तिथि के हैं। आसमान में चांद नहीं अमावस्या के दिन दिखता है। इसलिए कोई चांद ना निकलने के कारण भटक ना जाएं इसी वजह से घर के मुख्य द्वार पर एक बड़ा दीपक जलाते हैं। 

ये है नरक चतुर्दशी की पौराणिक कथा

एक और पौराणिक कथा है उसके मुताबिक, एक धर्मात्मा रति देव नाम के थे। किसी भी तरह का पाप अपने जीवन में उन्होंने नहीं किया था मगर नरक लोक उन्हें मृत्यु के बाद मिला। इसे देखकर राजा ने कहा कि कोई भी पाप मैंने अपने जीवन में नहीं किया फिर भी मुझे नरक में स्‍थान आप ने क्यों दिया। 

एक वर्ष का समय जब राजा ने मांगा

यमदूत ने जब यह बात सुनी तो उन्होंने कहा कि हे वत्स आपके द्वार से एक बार एक ब्राह्मण भूखा पेट लौटा था। उसी कर्म का फल यह आपका है। राजा ने यमराज की यह बात सुनकर उनसे उन्होंने एक वर्ष का मांगा। उसके बाद वह अपनी समस्या ऋषियों के पास गए। फिर उन्हें कार्तिक मास की कृष्‍ण पक्ष की चतुर्दशी का व्रत ऋषियों ने उन्हें रखने के लिए कहा साथ ही यह भी बोला कि ब्राह्मणों को भोजन कराएं और उनसे अपनी गलती की माफी मांगे। 

दीप जलाने की परंपरा ऐसे शुरु हुई

यमदूत राजा को एक साल बाद फिर लेने आए और उन्हें नरक के बजाय इस बार स्वर्ग लोग ले गए। उसके बाद से ही दीप जलाने की परंपरा कार्तिक मास के कृष्‍ण पक्ष से शुरु हुई। ऐसा इसलिए क्योंकि किसी भी तरह का पाप जो भूल से हुआ है उसकी क्षमादान मिल जाए। 

ये है दीपक जलाने की विधि 

घर का सबसे बड़ा सदस्य छोटी दिवाली के दिन एक बड़ा दीया जरूर जलाएं। दीपक को जलाकर पूरे घर में घूमाएं। फिर इस दीये को घर से बाहर जाकर दूर रख आएं। घर के अंदर ही घर के दूसरे सदस्य ही रें और इस दीपक को न देखें।