BREAKING NEWS

'भारत-अमेरिका के बीच सैन्य वार्ता सफल, BECA पर करेंगे साइन◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾तिरंगे पर महबूबा मुफ्ती के बयान से नाखुश पीडीपी के तीन नेताओं ने पार्टी से दिया इस्तीफा, NC ने भी किया किनारा◾स्ट्रीट वेण्डर आत्मनिर्भर निधि योजना के तहत प्रधानमंत्री कल UP के लाभार्थियों से करेंगे बात ◾साक्षी महाराज ने फिर दिया विवादित बयान, कहा- अनुपात के हिसाब से हो कब्रिस्तान और श्मशान◾राजनाथ सिंह ने अमेरिकी रक्षा मंत्री के साथ की वार्ता, रक्षा तथा सामरिक संबंधों पर हुई चर्चा ◾बिहार चुनाव : प्रचार के आखिरी दिन तेजस्वी पहुंचे हसनपुर, तेजप्रताप के लिए मांगे वोट ◾जेपी नड्डा ने चिराग पर साधा निशाना - कुछ लोग NDA में सेंध लगाना चाहते हैं, कर रहे है षड्यंत्र ◾भारत में कोविड-19 संबंधी मृत्युदर 1.50 प्रतिशत, 108 दिन बाद 500 से कम मौत हुई◾CM नीतीश ने महुआ में RJD पर बोला हमला - कुछ लोगों की भ्रमित करने और ठगने की आदत होती है◾दिल्ली की वायु गुणवत्ता 'बहुत खराब', पराली जलाए जाने से दिल्लीवासियों पर कहर बरपाएगा प्रदूषण◾SC ने कोर्ट की निगरानी में CBI जांच की मांग वाली दिशा सालियान केस की याचिका को किया खारिज◾जेपी नड्डा का RJD पर तंज- नौकरी छीनने वाले आज कर रहे हैं नौकरी देने की बात ◾अनुराग कश्यप पर बलात्कार का आरोप लगाने वाली अभिनेत्री पायल घोष अठावले की पार्टी में हुईं शामिल ◾IPL-13 : KXIP vs KKR, प्लेऑफ की दौड़ में पंजाब को बने रहने के लिए बनानी होगी जीत में निरंतरता ◾पंजाब में पीएम मोदी का पुतला जलाने पर भड़के नड्डा, कहा- राहुल गांधी निर्देशित है यह ड्रामा◾महबूबा के बयान के खिलाफ लाल चौक पर तिरंगा फहराने की कोशिश, हिरासत में लिए गए BJP कार्यकर्ता◾कृषि बिल पर राहुल गांधी की नसीहत- गुस्साए किसानों की बात सुनें पीएम मोदी◾बिहार चुनाव में आलू और प्याज की एंट्री, 60 घोटालों के आरोप में तेजस्वी ने CM नीतीश को घेरा ◾Bihar Election : एक बार फिर नीतीश के खिलाफ हुए चिराग, बोले- CM हो या कोई अधिकारी, जेल भेजा जाएगा◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

13 दिसंबर के बाद से नहीं होंगी शादियां क्योंकि लग जाएगा खरमास, जानें इससे जुडी कुछ खास बातें

हिंदू पंचांग के अनुसार शरद ऋतु में एक महीने के लिए सभी शुभ कार्यों को ररोक दिया जाता है। इस महीने को खरमास कहते हैं। इस साल16 दिसंबर से खरमास शुरू हो रहा है। यह मकर संक्राति यानी 14 जनवरी 2020 तक रहेगा। जबकि गुरु अस्त होने के  कारण बढ़ चले हैं इसी वजह से 13 दिसंबर के बाद से सभी मांगलिक  कार्य बंद हो जाएंगे। 

इस समय कोई शादी,मुंडन आदि कोई कार्य नहीं किया जा सकता है। ऐसा कहा जाता है कि खरमास में मांगलिक कार्य करने से उनका वंाछित फल प्राप्त नहीं हो पाता है। खरमास में सूर्य अपने गुरू बृहस्पति के घर धनु और मीन में प्रेवश करता है। तो आइए आपको बताते हैं खरमास में मांगलिक कार्यों के संपन्न न होने के पीछे ये कुछ मान्यताएं....

खरमास क्या है

सूर्य जब 12 राशियों का भ्रमण करते हुए बृहस्पति की राशियों धनु या मनी में प्रवेश करता है तब इसे खरमास कहा जाता है। खरमास साल में दो बार चैत्र और पूस में आता है। खरमास के पूरे महीने कोई भी मांगलिक कार्य नहीं किया जाता है जैसे मुंडन,विवाह,नवगृह प्रवेश आदि। 

सूर्य हो जाता है प्रभावहीन

खरमास के महीने को लेकर बहुत तरह की मान्यताएं हैं। सबसे पहली मान्यता के मुताबिक सूर्य अपने तेज को अपने गुरु के घर में पहुंचते ही समेट लेता है। साथ ही अपने प्रभाव को छिपा लेता है और गुरु को साष्टïांग नमन कर प्रभावहीन होने की वजह से सभी शुभ कार्य बंद हो जाते हैं,क्योंकि किसी भी कार्य में ऊर्जा की जरूरत होती है। 

इसलिए पड़ा खरमास नाम

इस महीने का नाम खरमास होने के पीछे एक कथा चली हुई आ रही है। सूर्यदेव अपने सात घोड़ों के रथ में भ्रमण कर रहे थे। घूमते-फिरते अचानक उनके घोड़े प्यास बुझाने के लिए तालाब के किनारे पानी पीने लगे। पानी पीते के साथ ही घोड़ों को अलस आ गया और तब से ही सूर्यदेव को स्मरण हुआ कि सृष्टिï के नियमानुसार उन्हें निरंतर ऊर्जावान होकर चलते रहने का आदेश है। 

घोड़ों के थक  जाने के बाद सूर्यदेव को तालाब के किनारे दो गधे नजर आए। इसके बाद सूर्यदेव उन गधों को अपने रथ में जोतकर वहां से चले गए। इस तरह सूर्यदेव इस पूरे महीने मंद गति से गधों की सवारी से चलते रहे। इस वक्त उनका तेज भी कम हो गया। इसके बाद मकर राशि में प्रेवश करने के समय एक महीने के बाद वो अपने सातों घोड़ोंं पर सवार हुए।