कहते है किस्मत कब पलट जाए कुछ नहीं कहा जा सकता और कब इंसान फर्श से अर्श पर पहुंच जाए अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है। ऐसा ही कुछ मध्य प्रदेश की मशहूर पन्ना जिले की हीरा खदान में एक मजदूर के साथ हुआ और रातों रात इस मजदूर की किस्मत पलट गयी।

हीरा

प्राप्त जानकारी के अनुसार मजदूर जिसका नाम मोतीलाल प्रजापति है, और इस दिहाड़ी मजदूर को 42.59 कैरट का बेशकीमती हीरा मिला है। आपको बता दें की ये इस खदान मिला अब तक का दूसरा सबसे बड़ा हीरा है।

हीरा

अधिकारियों के मुताबिक इस बेशकीमती हीरे की कीमत 1.5 करोड़ रुपये से 2.5 करोड़ रुपये के बीच होने का अनुमान है। इससे पहले साल 1961 में 44.55 कैरट का सबसे बड़ा और कीमती हीरा मिला था।

हीरा

पन्ना-हीरा कार्यालय ने बताया है की जिले में कृष्णा कल्याणपुर गांव के पास में खदान की जमीन का एक हिस्सा एक महीने पहले खदान मजदूर मोतीलाल प्रजापति ने लिए था और शायद मोतीलाल खुद नहीं जानता होगा की उसकी किस्मत में यूँ रातों रात ये चमत्कार प्रकट होगा।

हीरा

जैसे ही मोतीलाल को ये हीरा मिला वो और उसके साथी अधिकारी कार्यालय में पहुंचे और हीरे को जमा करा गए। कार्यालय के अधिकारीयों के मुताबिक इस हीरे की नीलामी अगली जनवरी में की जाएगी।

हीरा

इस हीरे को जितने रकम में नीलाम किया जायेगा उस धनराशि में से सरकार की रॉयल्टी तथा जीएसटी काटकर शेष रकम मोतीलाल को दी जाएगी। यानी तय है की मोतीलाल के दिन पलटने वाले है।

हीरा

वहीं एक स्थानीय कारोबारी का कहना है कि इस हीरे की कीमत 1.5 करोड़ रुपये से 2.5 करोड़ रुपये के बीच होने का अनुमान है। इस वर्ष 14 सितंबर को एक किसान को यहां सरखोहा गांव में खेत में हल चलाते समय 12.58 कैरट का हीरा मिला था, जिसका अनुमानित मूल्य लगभग 30 लाख रुपये था।

सगाई के बाद लड़के भूलकर भी ना करे ये गलतियां, टूट सकता है रिश्ता !