वैसे तो हमारे देश में कई सारे मंदिर ,मस्जिद,गिरजा घर और गुरुद्वारे हैं। भले ही आज भारत में सबसे बड़ा मंदिर ना हो लेकिन यहां कई सारे प्रसिद्घ मंदिर है और इतना ही नहीं कई जगह तो मंदिर का निर्माण मीनार के रूप में भी किया गया है। हम बात कर रहें हैं यूपी के जालौन में 210 फीट ऊंची लंका मीनार है। इस मीनार के अंदर रावण के पूरे परिवार का चित्रण किया गया है। खास बात ये है कि इस मीनार के ऊपर सगे भाई-बहन एक साथ नहीं जा सकते हैं। आइए जानते हैं इस मीनार के पीछे की कहानी के बारे में।

 

मीनार में भाई बहन का एक साथ जाना है सख्त मना

जालौन में लंका मीनार से मशहूर इस भाई बहन को एक साथ नहीं जाने दिया जाता है। इस मंदिर के निर्माता मथुरा प्रसाद पहले रामलीला में काम करते थे। उन्होंने कई सालों तक रावण का किरदार निभाया है। उन्होंने अपनी कला को जीवित रखने और रावण की याद में इस मंदिर का निर्माण सन 1875 में करवाया था।

इस मीनार के किस्से हैं मशहूर

ये मीनार देखने में जितनी ज्यादा आकर्षक है उतने ही ज्यादा इसके किस्से भी मशहूर हैं। कहा जाता है कि इस मीनार में कभी कोई भाई-बहन एक साथ दर्शन नहीं करते हैं। क्योंकि लंका मीनार की नीचे से ऊपर तक की चढ़ाई में सात परिक्रमाएं करनी होती है। जबकि सात चक्कर महज शादी में केवल पति-पत्नी ही लगाते हैं।

ऐसे में यहां पर भाई बहन का जाना माना होता है।इस मंदिर के निर्माण में कुल खर्च एक लाख 75 हजार रुपए लगे थे। ये मीनार यहां करीब 20 साल से है। इस मीनार की खासियत यह है कि इसको सीप,उड़द की दाल,शंख और कौडियों से बनाया गया है। सिर्फ इतना ही नहीं लंका मीनार में सौ फीट के कुंभकर्ण और 65 फीट ऊंचे मेघनाथ की मुर्तियां भी हैं। इसके अलावा मीनार के सामने भगवान चित्रगुप्त और भगवान शंकर की मूर्ति भी लगी है।

 

तोते के बारे में ये रोचक बातें सुनकर नहीं होगा आपको विश्वास