BREAKING NEWS

UP चुनाव: निर्भया मामले की वकील सीमा कुशवाहा हुईं BSP में शामिल, जानिए क्यों दे रही मायावती का साथ? ◾यूपी चुनावः जेवर से SP-RLD गठबंधन प्रत्याशी भड़ाना ने चुनाव लड़ने से इनकार किया◾SP से परिवारवाद के खात्मे के लिए अखिलेश ने व्यक्त किया BJP का आभार, साथ ही की बड़ी चुनावी घोषणाएं ◾Goa elections: उत्पल पर्रिकर को केजरीवाल ने AAP में शामिल होकर चुनाव लड़ने का दिया ऑफर ◾BJP ने उत्तराखंड चुनाव के लिए 59 उम्मीदवारों के नामों पर लगाई मोहर, खटीमा से चुनाव लड़ेंगे CM धामी◾संगरूर जिले की धुरी सीट से भगवंत मान लड़ सकते हैं चुनाव, राघव चड्डा बोले आज हो जाएगा ऐलान ◾यमन के हूती विद्रोहियों को फिर से आतंकवादी समूह घोषित करने पर विचार कर रहा है अमेरिका : बाइडन◾गोवा चुनाव के लिए BJP की पहली लिस्ट, मनोहर पर्रिकर के बेटे उत्पल को नहीं दिया गया टिकट◾UP चुनाव में आमने-सामने होंगे योगी और चंद्रशेखर, गोरखपुर सदर सीट से मैदान में उतरने का किया ऐलान ◾कांग्रेस की पोस्टर गर्ल प्रियंका BJP में शामिल, कहा-'लड़की हूं लड़ने का हुनर रखती हूं'◾लापता लड़के का पता लगाने के लिए भारतीय सेना ने हॉटलाइन पर चीन से किया संपर्क, PLA से मांगी मदद ◾UP विधानसभा चुनाव : कांग्रेस ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट, महिलाओं को 40% टिकट ◾BJP की बड़ी सेंधमारी, मुलायम के साढू प्रमोद गुप्ता ने थामा कमल, बोले- अखिलेश ने नेताजी को बना रखा बंधक◾NEET Case: SC ने कहा- पिछड़ेपन को दूर करने के लिए आरक्षण जरूरी, हाई स्‍कोर योग्‍यता का मानदंड नहीं ◾दिल्ली में सर्दी-बारिश का डबल अटैक, 21 से 23 जनवरी तक हल्की बारिश की संभावना, दृश्यता में आई कमी ◾नीलाम हुई गरीब किसान की जमीन..., राकेश टिकैत ने की परिवार से मुलाकात, प्रशासन ने उठाया यह कदम ◾BJP सांसद वरुण गांधी ने विकास के दावों पर उठाए सवाल, कहा-चुनावी राज्यों में बढ़ी बेरोजगारी ◾'सुरक्षा जहां, बेटीयां वहां', BJP ने अपर्णा यादव और संघमित्रा मौर्य को बनाया नई पोस्टर गर्ल◾चीनी सेना ने सीमा से भारतीय युवक को किया अगवा, राहुल बोले-PM की बुज़दिल चुप्पी ही उनका बयान◾कांग्रेस की पोस्टर गर्ल प्रियंका आज ज्वाइन कर सकती हैं BJP, टिकट नहीं मिलने से हैं नाराज◾

इस महाशिवरात्रि पर 117 साल बाद बना रहा अद्भुत संयोग, भूल से भी नहीं करें ये गलतियां

ज्योतिष शास्‍त्र में तीन रात्रि विशेष साधना के लिए बताई गई हैं। शरद पूर्णिमा को मोहरात्रि,दीपावली की कालरात्रि तथा महाशिवरात्रि को सिद्ध रात्रि इनका महत्व है। महाशिवरात्रि का पर्व फाल्गुन मास के कृष्‍ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाते हैं। 21 फरवरी शुक्रवार यानी कल महाशिवरात्रि मनाई जा रही है। ज्योतिष के अनुसार, सर्वार्थ सिद्धि योग इस बार की महाशिवरात्रि पर संयोग बना है। 117 साल बाद फाल्गुन मास की कृष्‍ण पक्ष की चतुर्दशी को एक अद्भुत संयोग महाश्विरात्रि पर बन रहा है। 

इस महाशिवरात्रि पर शनि स्वयं की मकर राशि में हैं वहीं शुक्र अपनी उच्च राशि मीन पर होंगे। यह एक दुर्लभ योग बन रहा है। भगवान शिव-पार्वती की पूजा-अर्चना को इस योग में सबसे श्रेष्ठ कहा गया है। शिव पुराण और महामृत्युंजय मंत्र का जाप महाशिवरात्रि में करना चाहिए। कई नियम महाशिवरात्रि के लिए बताए गए हैं। अगर व्रत के दौरान आपने इन नियम का पालन नहीं किया तो भगवान शिव की कृपा आप पर नहीं होगी। चलिए आपको बताते हैं कि महाशिवरात्रि के व्रत में कौन से काम व्यक्ति को नहीं करने चाहिए।

ये है महाशिवरात्रि की पूजा का शुभ-मुहूर्त


21 फरवरी 2020 को शाम 5 बजकर 16 मिनट से महाशिवरात्रि शुरु होगी और 22 फरवरी शनिवार को शाम 7 बजकर 9 मिनट तक रहेगी। मासिक शिवरात्रि का व्रत जो भक्त करना चाहते हैं तो वह इस महाशिवरात्रि से शुरु कर दें।

भूलकर भी ये 7 गलतियां शिव पूजा के दौरान न करें

1.शंख जल


शंखचूड़ नाम के एक असूर को भगवान शिव ने मारा था। उसी असुर का प्रतीक शंख को माना गया है जो भगवान विष्‍णु का भक्ता थ इसलिए शंख से विष्‍णु भगवान की पूजा होती है शिव की नहीं। 

2. पुष्प


केसर, दुपहरिका, मालती, चम्पा, कुंद,जूही आदि के पुष्प भोलेनाथ की पूजा में नहीं अर्पित करने चाहिए।

3.करताल


करताल भूल से भी भगवान शिव की पूजा के दौरान नहीं बजना चाहिए।

4. तुलसी पत्ता


तुलसी का जन्म जलंधर नाम के असुर की पत्नी वृंदा के अंश से हुआ था। उसी को पत्नी के रूप में भगवान विष्‍णु ने स्वीकार कर लिया। यही वजह है कि भगवान शिव की पूजा तुलसी से नहीं की जाती है।

5. तिल


मान्यता है कि भगवान विष्‍णु के मैल से तिल उत्पन्न हुआ है इसलिए भोलेनाथ को यह अर्पित नहीं किया जाता।

6. टूटे हुए चावल


मान्यता है कि अक्षत यानी साबुत चावल भगवान शिव को पूजा में अर्पित किए जाते हैं। टूूटे हुए चावल हो अपूर्ण और अशुद्ध बताया गया है इसलिए शिवजी को पूजा में यह नहीं चढ़ाते।

7. कुमकुम


कुमकुम को सौभाग्य का प्रतीक माना गया है लेकिन भोलेनाथ एक वैरागी हैं इसलिए उन्हें कुमकुम अर्पित नहीं किया जाता।