रायपुर : छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव से पहले राज्य सरकार ने पुलिस महकमें एक बड़ी प्रशासनिक सर्जरी की तैयारी की है। इनमें वरिष्ठ आईपीएस अफसरों को अहम प्रभार दिए जाने के संकेत मिल रहे हैं। शासन स्तर पर फेरबदल का खाका भी तैयार कर लिया गया है। हालांकि चुनाव आचार संहिता प्रभावी होने से पहले फेरबदल की कवायदें पूरी कर ली जाएगी। आचार संहिता लगने के बाद भी एक और फेरबदल की गुंजाइश बनी हुई है।

ऐसी स्थिति में तीन वर्ष से अधिक समय से एक ही जगह पदस्थ अफसरों को हटाकर नए सिरे से पदस्थापना की जा रही है। सूत्र दावा करते हैं कि जिन जिलों में पुलिस अधीक्षकों का परफार्मेंस बेहतर नहीं है वहां बदलाव का असर नजर आएगा। इसके अलावा आईजी स्तर के अफसरों को भी इधर से उधर किया जाएगा। इस मामले में रायपुर रेंज भी प्रभावित होगा। रायपुर में मौजूदा आईजी प्रदीप गुप्ता की जगह आईपीएस दीपांशु काबरा को पदस्थ करने की चर्चाएं हो रही है। वहीं आईपीएस हिमांशु गुप्ता समेत कुछ अन्य अफसरों की पुलिस मुख्यालय में वापसी हो सकती है। फेरबदल में छह से अधिक एसपी स्तर के अफसर प्रभावित हो सकते हैं।

कुछ अफसरों को अहम जिम्मेदारी भी दिए जाने की तैयारी है। चुनाव आयोग के निर्देशों के तहत ही प्रभार बदलने की कवायदें हो रही है। हालांकि प्रदेश में अभी कुछ अफसरों को आईपीएस भी अवार्ड होना है। आईपीएस अवार्ड होने की स्थिति में अफसरों की नई पदस्थापना की जाएगी। शासन स्तर पर इसकी पूरी तैयारियां कर ली गई है। जल्दी ही मुख्यमंत्री की हरी झंडी मिलते ही आदेश भी जारी कर दिए जाएंगे। इसके अलावा बस्तर और सरगुजा संभाग में भी अफसरों के प्रभार बदले जाएंगे। यह फेरबदल चुनावी तैयारियों के मद्देनजर किया जा सकता है। ऐसी स्थिति में नई पदस्थापना में आने वाले अफसरों पर बड़ी जिम्मेदारी होगी।