कोलकाता, (वार्ता): पश्चिम बंगाल की मुख्यमंंत्री ममता बनर्जी ने संथाली-अंग्रेजी और बंगाली भाषा के नए शब्दकोश का विमोचन किया है जो अपनी तरह का पहला ऐसा शब्दकोश है। राज्य में संथाली भाषी लोगों की तरफ से इस भाषा के संरक्षण और इसके विकास के लिए काफी समय से इस तरह के शब्दकोश की मांग की जा रही थी। यह त्रिभाषी शब्दकोश ओल चिकी लिपि में लिखा गया है और इसका संपादन संथाली अकादमी के विशेषज्ञों की देखरेख में पश्चिम बंगाल संथाली अकादमी ने किया है।

इस शब्दकोश में 24,550 संथाली शब्दों को शामिल किया गया है जो ओल चिकी लिपि में हैं। इसके अलावा संथाली भाषा के वर्णों, एक से 100 तक के अंकों, संथाली भाषा में दिनों और महीनों के नाम भी इन भाषाओं में हैं। इस दौरान मुख्यमंत्री ने जनजातीय सलाहकार परिषद की एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता भी की। राज्य की मुख्यमंत्री बनने के बाद सुश्री बनर्जी ने जनजातीय समुदाय के विकास पर विशेष ध्यान दिया है और जनजातीय परिषद को संथाली भाषा के विकास के लिए सभी आधारभूत सुविधाएं प्रदान की हैं।