शिवपुरी : शिवपुरी जिले की विधानसभा क्षेत्र 27 कोलारस में उपनिर्वाचन 2018 हेतु नियुक्त माइक्रो आब्जर्वर का प्रथम प्रशिक्षण शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय शिवपुरी में सम्पन्न हुआ। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा नियुक्त सामान्य प्रेक्षक पवन कुमार द्वारा प्रशिक्षण का अवलोकन किया गया।

प्रशिक्षण में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं प्रशिक्षण प्रभारी राजेश कुमार जैन एवं मास्टर ट्रेनर्स के रूप में नियुक्त प्रो.डॉ.ए.पी.गुप्ता ने माइक्रो आब्जर्वर(सूक्ष्म प्रेक्षक) के दायित्वों की जानकारी देते हुए मतदान के दिन किए जाने वाले कार्यों की विस्तार से अवगत कराया। प्रशिक्षण में बताया गया कि माइक्रो आब्जर्वर को मतदान केन्द्र के अंदर सभी गतिविधियों पर निगरानी रखना है। माइक्रो आब्जर्वर को मतदान केन्द्र पर मॉक पोल शुरू होने से डेढ़ घण्टे पूर्व उपस्थित रहना होगा।

प्रशिक्षण में मतदान दल के सदस्यों द्वारा सौंपे गए कार्यों की जानकारी देते हुए बताया कि मतदान अधिकारी कंट्रोल यूनिट का प्रभारी रहेगा। मतदान अधिकारी के पास वीवीपेट रहेगी। प्रशिक्षण में बताया गया कि कोलारस विधानसभा उपनिर्वाचन में 22 उम्मीदवार के अतिरिक्त एक नोटा का विकल्प रहेगा। इस प्रकार कुल 23 उम्मीदवार रहेंगे।

उपनिर्वाचन में दो ईव्हीएम मशीनें लगेंगी। प्रथम बैंलेट यूनिट में 16 उम्मीदवार एवं दूसरी बैलेट यूनिट में शेष उम्मीदवार एवं नोटा रहेगा। मतदाता को मतदान हेतु फोटोयुक्त मतदाता पहचान पत्र अथवा भारत निर्वाचन आयोग द्वारा पहचान के संबंध में अन्य दस्तावेज आवश्यक रूप से लाना होगा। प्रशिक्षण में बताया गया कि मतदान करने आने वाले प्रत्येक मतदाता के अगूंठे के निशान एवं हस्ताक्षर कराने होंगे। फोटोयुक्त मतदाता पहचान पत्र के अंतिम चार अंकनोट करने होंगे।

मतदाता की बायें हाथ की तर्जनी पर अमिट स्याही लगाई जाएगी। प्रोक्सी वोट के मामले में बायें हाथ की मध्य ऊंगली पर अमिट स्याही लगाई जाएगी। मतदान के दौरान कंट्रोल एवं बैलेट यूनिट मे से कोई भी बंद या खराब होने पर पूरी यूनिट बदलनी होगी। मॉकपोल की स्लीप काले लिफाफे में रखी जाएगी।

मॉकपोल प्रात: 7 बजे मतदान केन्द्र पर दो मतदान अभिकर्ता कीउपस्थिति में किया जाएगा। प्रशिक्षण में मॉइको आब्जर्वर द्वारा भरे जाने वाले विभिन्न प्रपत्रों के साथ-साथ प्रशिक्षण में टेस्ट वोट, चैलेंज वोट, मॉकपोल के पूर्व की जाने वाली तैयारियों के संबंध में भी जानकारी दी गई। प्रशिक्षण में वीवीपेट एवं इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन का भी प्रदर्शन किया गया।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ।