देश के 13 वें अमीर शख्स मुकेश अंबानी ने अपने छोटे भाई अनिल अंबानी की सहायता करते हुए उन्हें जेल जाने से बाल-बाल बचा लिया है। सोमवार को आरकॉम रिलायंस कम्युनिकेशन के चेयरमैन अनिल अंबानी ने सुप्रीम कोर्ट की ओर से मिली डेडलाइन खत्म होने के ठीक एक दिन पहले स्वीडिश कंपनी एरिक्सन को बकाया राशि 459 करोड़ रु चुका दिए है।

जिसके बाद अनिल अंबानी ने एक बेहद इमोशनल बयान जारी किया है। जिसमें उन्होंने अपने भाई मुकेश अंबानी और भाभी नीता अंबानी को पुरानी बातें भूलकर आगे बढऩे के लिए शुक्रिया कहा है।

अनिल का भाई और भाभी को आभार

इस भुगतान को चुकाने में अनिल अंबानी के भाई मुकेश अंबानी और उनकी पत्नी नीता अंबानी की अहम भूमिका रही है। दोनों ने परिवार में बड़े होने का फर्ज बाखूबी निभाया है। जिसके बाद आरकॉम के प्रवक्ता ने अनिल के हवाले से एक बयान में कहा है कि वो अपने अपने आदरणीय बड़े भाई मुकेश और भाभी नीता के इस मुश्किल वक्त में उनके साथ खड़े रहने और मदद करने का तहेदिल से शुक्रिया करते हैं।

समय पर यह मदद करके उन्होंने परिवार के मजबूत मूल्यों और परिवार के महत्व को दर्शाया है। वो और उनका परिवार बहुत आभारी हैं। अब वो और उनका परिवार पुरानी बातों को पीछे छोड़ कर आगे बढ़ चुके हैं।

ये है पूरा मामला…

19 फरवरी के दिन सुप्रीम कोर्ट ने अनिल अंबानी को अवमानना का दोषी ठहराया था। इसके साथ ही कोर्ट के अदेश के मुताबिक अनील अंबानी को एक महीने में 453 करोड़ रुपए चुकाने को कहा गया था। ऐसा नहीं करने पर अनिल को तीन महीने के लिए जेल भेजने की बात बोली गई थी। इसके बाद सोमवार को बकाया चुकाते हुए आरकॉम ने कहा है एरिक्सन को 459 करोड़ रु चुका दिए हैं। इन पैसों में 6 करोड़ रुपए ब्याज भी शामिल है।

खुद को आईपीएस अफसर बताने वाले इस ड्राइवर ने लड़की को ठगा, किया प्यार का इजहार और फिर