सूर्य और चंद्र प्रकाश ईश्वर प्रदत्त प्रकाश के कारक है। सूर्य दिन और चंद्रमा रात्रिकाल मॆ प्रकाश करता है, सूर्य स्वयं के प्रकाश तथा चंद्र सूर्य के प्रकाश से पृथ्वी को प्रकाशित करता है। जब भी सूर्य और चंद्र के बीच पृथ्वी आ जाती है तब चंद्रग्रहण और सूर्य और पृथ्वी के बीच चंद्र आ जाते है तब सूर्यग्रहण होता है, चंद्रग्रहण मॆ चंद्रमा काली छाया से ढक जाता है वही सूर्य ग्रहण मॆ सूर्य पर छाया का प्रभाव रहता है चूंकि राहु और केतु दोनो छाया ग्रह है इसीलिये छाया का प्रभाव सूर्य और चंद्र मॆ आता है।

इस साल का पहला चन्द्रग्रहण 31 जनवरी को था और 16 फरवरी 2018 को साल का पहला सूर्य ग्रहण लग रहा है। यह आंशिक सूर्य ग्रहण होगा, जो कि भारत में दिखाई नहीं देगा। हालांकि विश्व के अन्य देशों में इसकी दृश्यता रहेगी। वैदिक ज्योतिष के अनुसार यह सूर्य ग्रहण शतभिषा​ नक्षत्र और कुम्भ​ राशि में लग रहा है। शतभिषा राहु का नक्षत्र है इसलिए इस नक्षत्र से संबंधित राशि वाले लोगों के लिए यह ग्रहण परेशानी का कारण बन सकता है। हालांकि हर राशि पर ग्रहण का प्रभाव भिन्न-भिन्न होता है।

*राहु और केतु*-

आपकी विचारशक्ति को राहु तथा महसूस करने की शक्ति को केतु कहते है, आपके पाप राहु तथा पुण्य केतु के द्वारा संचित होते है, आपके द्वारा किया गय़ा षडयंत्र कूटनीति या अलगाव बाद मॆ राहु और केतु के पाप के रूप मॆ सामने आते है, तथा यही पाप जिस क्षेत्र से सम्बंधित होते है उस ग्रह को ग्रसित करते है।

  • राज्य या पिता के साथ किया गय़ा पाप सूर्य राहु का ग्रहण बनाता है।
  • मां को दिया गया पाप चंद्र राहु का ग्रहण योग बनाता है।
  • गुरु या शिक्षक से जुड़ा पाप गुरु राहु का चांडाल योग बनाता है
  • स्त्री के साथ किया गय़ा पाप शुक्र राहु का ग्रहण योग बनाता है
  • भूमि या रक्त सम्बंध से जुड़ा पाप मंगल राहु से जुड़ा ग्रहण योग बनाता है
  • बहन बेटी के साथ किया गया पाप बुध राहु से जुड़ा ग्रहण योग बनाता है

साल 2018 में कुल तीन सूर्य ग्रहण घटित होंगे। ये तीनों आंशिक सूर्य ग्रहण होंगे। भारत में ये तीनों ग्रहण दिखाई नहीं देंगे लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि आप पर इस ग्रहण का प्रभाव नहीं पड़ेगा। ये तीनों सूर्य ग्रहण दक्षिण अमेरिका, अटलांटिक और अंटार्कटिका के क्षेत्रों में दिखाई देंगे।

आइए जानते हैं, सभी 12 राशियों पर होने वाले सूर्य ग्रहण का क्या प्रभाव पड़ेगा…

मेष: सूर्य ग्रहण से मेष राशि के जातकों को आर्थिक लाभ की संभावना है। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। रुके हुए कामों में सफलता मिलेगी। साथ ही प्रतिष्ठा में भी वृद्धि होगी. सफलता मिलने की पूरी उम्मीद है।

 

 


वृषभ: इस दौरान आप थोड़ा परेशान रह सकते हैं। थोड़ी बेचैनी हो रहेगी. पारिवारिक जीवन में परेशानी बढ़ सकती है। परिवार के सदस्यों के स्वास्थ्य के मामले में चिंता हो सकती है।

 

 


मिथुन: लाभ और उन्नति की संभावना कम है. प्रेम संबंधों में तकरार पैदा हो सकती है. पढ़ाई में मन कम लगेगा.

 

 


कर्क: यह समय आप पर भारी रहेगा. जीवन थोड़ा कष्टकारी रहेगा. अचानक धन हानि और मानहानि हो सकती है.

 

 


सिंह: किसी से साझेदारी है तो संभलकर काम करें। जीवन साथी को कष्ट का सामना करना पड़ सकता है। वैवाहिक जीवन में भी उथल-पुथल मच सकती है, विशेष सावधानी रखें।

 

 


कन्या: आपके लिए यह ग्रहण शुभ फलदायी है। शत्रु और विरोधियों का नाश होगा. हर जगह से अच्छी खबर मिलेगी। सफलता प्राप्त होने से खुशी मिलेगी।

 

 


तुला: नाम और प्रसिद्धि पाने के लिए संघर्ष करना पड़ सकता है। तनाव बढ़ने से परेशानी होगी। लंबी दूरी की यात्राएं कष्टकारी हो सकती है।

 

 


वृश्चिक: वृश्चिक राशि के लिए भी सूर्यग्रहण उत्तम फल देने वाला है। सभी क्षेत्रों में लाभ और वृद्धि की संभावना है। धन आगमन के नए साधन मिलेंगे। करियर और व्यवसायिक क्षेत्र में उन्नति होगी।

 

 


धनु: इच्छाशक्ति में वृद्धि होगी। छोटी यात्रा का योग बन सकता है। यात्रा मंगलमय रहेगी. पारिवारिक संबंधों में सुधार होगा।

 

 


मकर: मानसिक तनाव बढ़ने से परेशानी होगी। आय की तुलना में खर्च ज्यादा होगा। स्वास्थ्य संबंधी परेशानी भी कष्ट दे सकती है।

 

 


कुंभ: मानसिक तनाव हावी रह सकता है. वाहन चलाने में सावधानी बरतें, दुर्घटना की संभावना है। तनाव न लें, शारीरिक कष्ट भी रह सकता है।

 

 


मीन राशि पर सूर्यग्रहण का मिला-जुला असर होगा। स्वास्थ्य का ध्यान रखें. सोच-समझकर बोलें, परिवार में विवाद हो सकता है।

 

 

 

 

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ।