BREAKING NEWS

कर्नाटक विधानसभा में नहीं हो सका विश्वास मत पर फैसला, सदन के अंदर BJP का धरना ◾सपा सांसद आजम भूमाफिया हुए घोषित, किसानों की जमीन पर कब्जा करने का है आरोप◾विपक्षी दलों को निशाना बना रही है भाजपा : BSP◾कर्नाटक : राज्यपाल ने सरकार को दिया शुक्रवार 1.30 बजे तक बहुमत साबित करने का समय◾कई बंगाली फिल्म व टेलीविजन कलाकार BJP में हुए शामिल ◾कर्नाटक का एक और विधायक पहुंचा मुंबई , खड़गे ने बताया BJP को जिम्मेदार ◾ इशरत जहां का आरोप-हनुमान चालीसा पाठ में भाग लेने को लेकर धमकी दी गई ◾कुलभूषण जाधव पर ICJ के फैसले को तत्काल लागू करें : भारत ने Pak से कहा ◾IT ने नोएडा में मायावती के भाई और भाभी का 400 करोड़ का 'बेनामी' भूखंड किया जब्त◾सोनभद्र प्रकरण : मृतकों की संख्या 10 हुई, UP पुलिस ने 25 लोगों को किया गिरफ्तार ◾विधानसभा में ही डटे बीजेपी MLA◾कर्नाटक विधानसभा में विश्वास मत पर चर्चा के दौरान हंगामे के बीच सदन की कार्यवाही शुक्रवार तक स्थगित - विस अध्यक्ष◾Top 20 News 18 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾कुलभूषण जाधव मामले में ICJ का फैसला भारत के रुख की पुष्टि : विदेश मंत्रालय ◾BJP में शामिल हुए पूर्व कांग्रेस नेता अल्पेश ठाकोर, जीतू वघानी ने दिलाई सदस्यता◾कर्नाटक संकट : सिद्धारमैया ने कहा-SC के पिछले आदेश के स्पष्टीकरण तक फ्लोर टेस्ट करना उचित नहीं◾कर्नाटक : CM कुमारस्वामी ने पेश किया विश्वास मत प्रस्ताव◾CM केजरीवाल का बड़ा ऐलान- अनधिकृत कॉलोनियों के मकानों की होगी रजिस्ट्री◾मुंबई पुलिस ने दाऊद इब्राहिम ने भतीजे रिजवान कासकर को किया गिरफ्तार◾मायावती के भाई आनंद कुमार के खिलाफ IT विभाग की कार्रवाई, 400 करोड़ का प्लॉट जब्त◾

दिलचस्प खबरें

महाभारत काल का एकलौता प्राचीन मंदिर जहाँ शनि भगवान के साथ विराजमान है उनकी अर्द्धांगिनी

भगवान् शनि को न्याय का देवता माना जाता है और चाहे इंसान हो या देवता हर कोई इनके प्रकोप से दूर ही रहना चाहता है। भारत में शनि भगवान के कई मंदिर है पर आपको जानकर हैरानी होगी की सिर्फ एक ही मंदिर ऐसा है जहाँ शनि भगवान् अपनी पत्नी के साथ विराजमान है। आईये जानते है इस अनोखे मंदिर के बारे में \"शनि शनिदेव का ये प्राचीन मंदिर छत्तीसगढ़ के कवर्धा जिले के करियामा गाँव में स्थित है। कवर्धा से इस मंदिर की दूरी 15 किलोमीटर है पर मंदिर तक का रास्ता कच्चा और पथरीला होने की वजह से मुश्किल भरा है। \"शनि पूरे भारत में ये एकलौता ऐसा मंदिर है जहाँ शनि भगवान अपनी अर्धांग्नी के साथ विराजमान है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस मूर्ति की खोज महाभारत काल में हुई थी और तबसे इस मंदिर में श्रद्धालु शनि देव की पूजा अर्चना करने आते है। \"शनि बताया जाता है की इस मंदिर का निर्माण और मूर्ति की स्थापना पांडवों ने की थी और वनवास काल के दौरान पांडवों ने इस मंदिर के समीप ही भोरमदेव के जंगलों में समय व्यतीत किया था। प्राचीन काल से भक्तों द्वारा तेल चढ़ाये जाने की वजह से मूर्ति पर तेल की परत जम गयी थी और जब एक समय शनि भगवान मूर्ति को साफ़ किया गया तो मूर्ति में शनि देव की पत्नी भी विराजमान थी। \"शनि भक्तों का इस प्राचीन मंदिर में अटूट विशवास है और कहा जाता है की सच्चेदिल से मांगी हुई मुराद यहाँ पूरी हो जाती है। मशहूर धाम शनि शिगणापुर की तरह ही यहाँ भी हर साल हजारों भक्त आते है। यहाँ महिलाएं और पुरुष सामान रूप से शनि भगवान की पूजा कर सकते है। \"शनि मान्यताओं के अनुसार इस मंदिर में पूजन करने से वैवाहिक संकटों से मुक्ति मिलती है और शादी ब्याह में आ रही अड़चने भी समाप्त हो जाती है। साथ ही यहाँ तेल अभिषेक करने से शनि की साढ़ेसाती और महादशा में भी भक्तों के जीवन पर सुखमय दृष्टि बनी रहती है।

इन 5 मंदिरों में बरसती है दुर्गा मां की अपार कृपा,चैत्र नवरात्रि में जरुर करें दर्शन