BREAKING NEWS

अगर तीन दिन से ज्यादा किसी अधिकारी ने रोकी फाइल, तो होगी सख्त कार्रवाई : योगी◾कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त होने के बाद बोले नड्डा- कार्यकर्ता के तौर पर BJP को करुंगा मजबूत◾जम्मू-कश्मीर : अनंतनाग में आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ शुरू◾WORLD CUP 2019, WI VS BAN : साकिब के शतक से बांग्लादेश ने वेस्टइंडीज को सात विकेट से हराया ◾दिल्ली में बढ़ा हुआ ऑटो किराया मंगलवार से लागू होगा, अधिसूचना जारी ◾मिस्र के पूर्व राष्ट्रपति मुर्सी का अदालत में सुनवाई के दौरान निधन ◾ममता बनर्जी से मिलने के बाद बंगाल के चिकित्सकों ने हड़ताल खत्म की ◾जे पी नड्डा भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किये गये ◾पुलवामा में आतंकवादियों ने किया IED विस्फोट, 5 जवान घायल ◾कांग्रेस ने बिहार में दिमागी बुखार से बच्चों की मौत को लेकर सरकार पर निशाना साधा ◾Top 20 News - 17 June : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें ◾बैंकों ने जेट एयरवेज को फिर खड़ा करने की कोशिश छोड़ी, मामला दिवाला कार्रवाई के लिए भेजने का फैसला ◾लोकसभा में साध्वी प्रज्ञा के शपथ लेने के दौरान विपक्ष ने किया हंगामा ◾ममता बनर्जी और डॉक्टरों की बैठक को कवर करने के लिए 2 क्षेत्रीय न्यूज चैनलों को मिली अनुमति◾बिहार : बच्चों की मौत मामले में हर्षवर्धन और मंगल पांडेय के खिलाफ मामला दर्ज◾वायनाड से निर्वाचित हुए राहुल गांधी ने ली लोकसभा सदस्यता की शपथ◾सलमान को झूठा शपथपत्र पेश करने के केस में राहत, कोर्ट ने राज्य सरकार की अर्जी खारिज की◾भागवत ने ममता पर साधा निशाना, कहा-सत्ता के लिए छटपटाहट के कारण हो रही है हिंसा ◾लोकसभा में स्मृति ईरानी के शपथ लेने पर सोनिया गांधी समेत कई विपक्षी नेताओं ने किया अभिनंदन ◾डॉक्टरों और ममता बनर्जी के बीच प्रस्तावित बैठक को लेकर संशय◾

दिलचस्प खबरें

भारत के इन 9 मंदिरों में सिर्फ हिंदुओं को जाने की अनुमति है

इन दिनों गुरुवायुर का केशवन मंदिर खूब सुर्खियों में रहा है। इस मंदिर में हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गए थे। दरअसल पीएम मोदी केरल यात्रा पर गए थे और उनका मुख्य आकर्षण यह गुरुवायुर मंदिर बना था। इस मंदिर में पीएम मोदी ने पारंपरिक विधि-विधान से पूजा अर्चना की थी। इस मंदिर में गैर हिंदूओं को नहीं आने दिया जाता है। आज हम आपको भारत के वो मंदिर बताएंगे जहां पर गैर हिंदूओं को जाने की इजाजत नहीं है। 

1. गुरुवायुर मंदिर, केरल

गुरुवायुर मंदिर केरल के त्रिशूर में स्थित है और इसकी धार्मिक आस्था बहुत है। पांच हजार साल यह मंदिर पुराना है। इस मंदिर में हिंदूओं को ही जाने की अनुमति है। इस मंदिर में गैर हिंदूओं को नहीं जाने की इजाजत है। इस मंदिर में भगवान गुरुवायुरप्पन की पूजा होती है। भगवान कृष्ण और भगवान विष्णु का घर इस मंदिर में माना जाता है। इस मंदिर को बैकुंठ और द्वारिका दक्षिण में बोला जाता है। 

2. पद्मनाभस्वामी मंदिर, केरल

केरल के तिरुअनन्तपुरम में पद्मनाभस्वामी मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है। यह ऐतिहासिक मंदिर है। धर्म शास्त्रों और पुराणों के बारे में इस मंदिर में बताया गया है। राजा-महाराजों ने इस मंदिर को 16वीं शताब्दी में त्रावणकोर के समय स्थापित किया गया था। इस मंदिर में देश-विदेश से लाखों पर्यटक जाते हैं लेकिन गैर-हिंदूओं को यहंा जाना मना है। 

3. जगन्नाथ मंदिर, पुरी

विष्णु के 8वें अवतार श्रीकृष्ण को यह जगन्नाथ मंदिर समर्पित किया गया है। यह मंदिर बंगाल की खाड़ी के भुवनेश्वर के पास ही स्थिति है। इस मंदिर में बड़े भाई बालभद्र और बहन सुभद्रा के साथ भगवान जगन्नाथ विराजते हैं। गैर-हिंदूओं का इस मंदिर में जाना मना है। इस मंदिर के दरवाजे पर लिखा हुआ है कि यहां केवल रुढिवादी हिंदूओं को भीतर जाने की अनुमति है। इस मंदिर में भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी 1984 में दर्शन के लिए गई थी लेकिन उन्हें जाने की इजाजत नहीं मिली। 

4. लिंगराज मंदिर, भुवनेश्वर 

उड़ीसा के भुवनेश्वर में लिंगराज मंदिर बहुत फेमस है। इस मंदिर में दूर-दूर से लोग दर्शन करने के लिए आते हैं लेकिन इस मंदिर में सिर्फ हिंदू धर्म के लोगों को जाने की इजाजत है। इस मंदिर में हर रोज 6000 भक्त दर्शन करने के लिए जाते हैं। इस मंदिर में दूर पश्चिमी देशों से लोग दर्शन करने केलिए आते थे लेकिन एक विदेशी सैलानी ने 2012 में इस मंदिर के कर्म-कांडों में अड़चन पैदा कर दी थी जिसके बाद से इस मंदिर में गैर-हिंदूओं को जाना बंद कर दिया। 

5. कपालेश्वर मंदिर, चेन्नई

चेन्नई के मलायापुर के कपालेश्वर मंदिर को द्रविड़ सभ्यता ने 7वीं शताब्दी में बनाया था। इस मंदिर को भगवान शिव को समर्पित किया गया है। शंकरजी के नाम पर ही इस मंदिर का नाम रखा गया है। इस मंदिरन में गैर-हिंदूओं के साथ विदेशी पर्यटकों का भी जाना बंद है। 

6. कामाक्षी मंदिर

तमिलनाडु के कांचिपुरम में कामाक्षी अम्मन मंदिर में माता पार्वती के कामाक्षी रूपों में पूजा की जाती है। दक्षिण भारत के विख्यात और प्रसिद्ध मंदिरों में कामाक्षी मंदिर का नाम आता है। लेकिन इस मंदिर में गैर-हिंदूओं का जाना मना है। 

7. दिलवाड़ा मंदिर, माउंट आबू

राजस्थान के सिरोही जिले का दिलवाड़ा मंदिर जैन धर्म को समर्पित है। 11वीं और 13वीं शताब्दी में यह मंदिर को स्थापित किया गया था। धार्मिक और वास्तुकला की महत्ता के लिए यह मंदिर शामिल हैं। इस मंदिर में पांच मंदिर हैं। इस मंदिर में फोटोग्राफी करना मना है और गैर-हिंदूओं को भी इजाजत नहीं है। 

8. काशी का विश्वनाथ मंदिर

काशी विश्वनाथ मंदिर में शिवजी के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक माना जाता है। इस मंदिर में गैर-हिंदूओं का आना बैन है। लेकिन कई बार इस मंदिर में गैर-हिंदूओं को दर्शन कराए गए हैं। लेकिन इस मंदिर के उत्तरी दिशा में ज्ञान कुपोर कुएं हैं जहां पर सिर्फ हिंदूओं को जाने की अनुमति है। वहंा  पर गैर हिंदू नहीं जाते हैं। 

9. पशुपतिनाथ, काठमांडू

काठमांडू के पशुपतिनाथ मंदिर में आपको जाने के लिए हिंदू और बौद्ध मूल का होना आवश्यक है। गैर-हिंदूओं का इस मंदिर में प्रवेश करना बैन है।