BREAKING NEWS

शिवराज के मंत्री ने बढ़ती महंगाई के लिए नेहरू पर फोड़ा ठीकरा, कहा-1947 के भाषण से शुरू हुई अर्थव्यवस्था की बदहाली◾संसद में पेगासस व किसानों के मुद्दे पर चर्चा करवाने के लिए विपक्षी दलों ने किया राष्ट्रपति से दखल देने का आग्रह◾मोदी कैबिनेट से हटाए जाने के बाद बाबुल सुप्रियो ने राजनीति से संन्यास का किया ऐलान, बोले- समाज सेवा के लिए आया था◾राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह बने जेडीयू के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष, जानिए नीतीश के करीबी का राजनीतिक संघर्ष◾UP बोर्ड एग्जाम का रिजल्ट जारी, 10वीं में 99.53% और 12वीं में 97.88% स्टूडेंट्स पास ◾टोक्यो ओलंपिक 2020 : पीवी सिंधु फाइनल की रेस से हुई बाहर, मेडल की उम्मीद अब भी बरकरार◾मिजोरम पुलिस की FIR पर CM सरमा का ट्वीट, 'किसी भी जांच में शामिल होने पर होगी खुशी'◾ओलंपिक मुक्केबाजी : क्वार्टर फाइनल में हारीं पूजा रानी, पहले ही मुकाबले में हारकर बाहर हुए अमित पंघाल ◾चुनावों से पहले BJP खेल रही आरक्षण का कार्ड, जानिए UP समेत किन 5 राज्यों में गूंजेगा OBC रिजर्वेशन का मुद्दा ◾आतंकी सरगना मसूद अजहर का भतीजा 'लंबू' मुठभेड़ में ढेर, पुलवामा हमले की साजिश में था शामिल ◾असम और मिजोरम के बीच हुई हिंसा पर बोले राहुल- देश में दंगों को बीज की तरह बोया जा रहा है◾अखिलेश यादव ने भाजपा के कार्यकर्ताओं को बताया ई-रावण, सोशल मीडिया पर नफरत फैलाने का लगाया आरोप ◾'UPA सरकार ने कभी पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा नहीं दिया', BJP का कांग्रेस पर पलटवार◾भारत और चीन के बीच 12वें दौर की सैन्य वार्ता, हॉट स्प्रिंग और गोगरा इलाकों से गतिरोध खत्म करने पर जोर ◾पहले ओलंपिक की घबराहट और अवसाद के बावजूद तोक्यो में कमलप्रीत ने बिखेरी हौसले की चमक ◾ओलंपिक: वंदना की हैट्रिक से भारतीय महिला हॉकी टीम की रोमांचक जीत, क्वार्टर फाइनल की उम्मीदें बरकरार ◾IPS प्रोबेशनर्स से संवाद करते हुए बोले PM मोदी-पुलिस की नकारात्मक छवि खत्म होनी चाहिए◾अगस्त में सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता संभालने के लिए पूरी तरह तैयार है भारत, आतंकवाद पर तेज होगा प्रहार◾अफगानिस्तान में UN पर तालिबान के हमले की गुटेरेस ने की निंदा, कहा- अंतर्राष्ट्रीय कानून के तहत यह प्रतिबंधित हैं◾जम्मू-कश्मीर : आतंकियों के निशाने पर घाटी, राजौरी में डिफ्यूज किया गया IED◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

Papankusha Ekadashi 2020: आज है पापांकुशा एकादशी, भगवान विष्णु की इस विधि से करें पूजा

हिंदू शास्‍त्र में एकादशी के व्रत का खास महत्व बताया गया है। एकादशी का व्रत हर महीने में दो बार आता है। भगवान विष्‍णु जी की पूजा-अर्चना एकादशी के व्रत में विशेष तौर पर की जाती है। अश्विन माह की पापाकुंशा एकादशी का व्रत 27 अक्टूबर मंगलवार यानी आज है। हिंदू कैलेंडर के मुताबिक आश्विन महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि पर पापाकुंशा एकादशी पड़ रही है। 

एकादशी के व्रत में भक्त शुभ फल के लिए उपवास, पूजा-पाठ,कीर्तन और भगवान विष्‍णु का नाम जपते हैं। भगवान विष्‍णु के पद्मनाभ स्वरूप की पूजा एकादशी के व्रत पर की जाती है और साथ ही मनचाहा फल मिलता है। जो व्यक्ति पापांकुशा एकादशी का व्रत रखते हैं वह सभी पापों से मुक्त हो जाते हैं। व्यक्ति के मन और आत्मा दोनों ही यह व्रत रखने से शुद्ध हो जाते हैं। 

मान्यता के अनुसार,एक हजार अश्वमेघ और सौ सूर्ययज्ञ करने से जो व्यक्ति को फल प्राप्त होता है वह समान फल पापाकुंशा एकादशी का व्रत करने से मिलता है। पापाकुंशा एकादशी व्रत के अलावा ऐसा कोई दूसरा व्रत नहीं है जिसका समान फल मिलता है। 

पापाकुंशा एकादशी की रात में जो व्यक्ति जागरण करता है उसे स्वर्ग की प्राप्ति होती है। शुभ फल की प्राप्ति इस एकादशी के दिन दान करने से होती है। पद्म पुराण के मुताबिक, यमराज के दर्शन उस व्यक्ति को नहीं होते जो सुवर्ण,तिल,भूमि,गौ,अन्न,जल,जूते और छाते का दान करते हैं। 

प्रसन्न होंगे भगवान पद्मनाभ

भगवान विष्‍णु के दिव्य रूप की पापाकुंशा एकादशी के दिन पूजा करते हैं। इसके बाद व्रत का संकल्प एकादशी तिथि के दिन सुबह जल्दी स्नान आदि करके करना होता है। उसके बाद चन्दन,अक्षत,मोली,फल,फूल,मेवा आदि भगवान विष्‍णु जी को अर्पित करते हैं। फिर एकादशी की कथा सुनते हैं और ऊं नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का जाप जितना हो सकेे उतना करते हैं। उसके बाद धूव व दीप से विष्‍णु भगवान की आरती करते हैं। 

ये है पापाकुंशा एकादशी की व्रत कथा

प्राचीन वक्त में एक क्रूर बहेलियां विंध्य पर्वत पर रहता था। हिंसा, लूटपाट, मद्यपान और गलत संगति में उसने अपनी पूरी जिंदगी बिता दी। बहेलिए के अंतिम समय पर यमराज के दूत उसे लेने के लिए आए। तब बहेलिए से यमदूत ने कहा कि तुम्हारे जीवन का आखिरी दिन कल है हम तुम्हें कल लेने के लिए आएंगे। बहेलिया ने यमदूत की यह बात जैसे ही सुनी वह डर गया और महर्षि अंगिरा के आश्रम में पहुंच गया और फिर उसने प्रार्थना की महर्षि अंगिरा के चरणों पर गिरकर। 

उसके बाद बहेलिए से प्रसन्न होकर महर्षि अंगिरा ने कहा कि आश्विन शुक्ल एकादशी अगले दिन आ रही है इस दिन तुम विधि पूर्वक से व्रत रखना। महर्षि अंगिरा की बहेलिये ने बात मानकर पापाकुंशा एकादशी का व्रत विधि पूर्वक रखा और विष्‍णु लोक को वह भगवान की कृपा से व्रत पूजन के बल से गया। उसके बाद इस चमत्कार को जब यमराज के दूत ने देखा तो वह अपने साथ बहेलिया को बिना लिए ही यमलोक वापस चले गए।