BREAKING NEWS

किसानों ने दिल्ली को चारों तरफ से घेरने की दी चेतावनी, कहा- बुराड़ी कभी नहीं जाएंगे◾दिल्ली में लगातार दूसरे दिन संक्रमण के 4906 नए मामले की पुष्टि, 68 लोगों की मौत◾महबूबा मुफ्ती ने BJP पर साधा निशाना, बोलीं- मुसलमान आतंकवादी और सिख खालिस्तानी तो हिन्दुस्तानी कौन?◾दिल्ली पुलिस की बैरिकेटिंग गिराकर किसानों का जोरदार प्रदर्शन, कहा- सभी बॉर्डर और रोड ऐसे ही रहेंगे ब्लॉक ◾राहुल बोले- 'कृषि कानूनों को सही बताने वाले क्या खाक निकालेंगे हल', केंद्र ने बढ़ाई अदानी-अंबानी की आय◾अमित शाह की हुंकार, कहा- BJP से होगा हैदराबाद का नया मेयर, सत्ता में आए तो गिराएंगे अवैध निर्माण ◾अन्नदाआतों के समर्थन में सामने आए विपक्षी दल, राउत बोले- किसानों के साथ किया गया आतंकियों जैसा बर्ताव◾किसानों ने गृह मंत्री अमित शाह का ठुकराया प्रस्ताव, सत्येंद्र जैन बोले- बिना शर्त बात करे केंद्र ◾बॉर्डर पर हरकतों से बाज नहीं आ रहा पाक, जम्मू में देखा गया ड्रोन, BSF की फायरिंग के बाद लौटा वापस◾'मन की बात' में बोले पीएम मोदी- नए कृषि कानून से किसानों को मिले नए अधिकार और अवसर◾हैदराबाद निगम चुनावों में BJP ने झोंकी पूरी ताकत, 2023 के लिटमस टेस्ट की तरह साबित होंगे निगम चुनाव ◾गजियाबाद-दिल्ली बॉर्डर पर डटे किसान, राकेश टिकैत का ऐलान- नहीं जाएंगे बुराड़ी ◾बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा- कृषि कानूनों पर फिर से विचार करे केंद्र सरकार◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 94 लाख के करीब, 88 लाख से अधिक लोगों ने महामारी को दी मात ◾योगी के 'हैदराबाद को भाग्यनगर बनाने' वाले बयान पर ओवैसी का वार- नाम बदला तो नस्लें होंगी तबाह ◾वैश्विक स्तर पर कोरोना के मामले 6 करोड़ 20 लाख के पार, साढ़े 14 लाख लोगों की मौत ◾सिंधु बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन जारी, आगे की रणनीति के लिए आज फिर होगी बैठक ◾छत्तीसगढ़ में बारूदी सुरंग में विस्फोट, CRFP का अधिकारी शहीद, सात जवान घायल ◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾भाजपा नेता अनुराग ठाकुर बोले- J&K के लोग मतपत्र की राजनीति में विश्वास करते हैं, गोली की राजनीति में नहीं◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

Papankusha Ekadashi 2020: आज है पापांकुशा एकादशी, भगवान विष्णु की इस विधि से करें पूजा

हिंदू शास्‍त्र में एकादशी के व्रत का खास महत्व बताया गया है। एकादशी का व्रत हर महीने में दो बार आता है। भगवान विष्‍णु जी की पूजा-अर्चना एकादशी के व्रत में विशेष तौर पर की जाती है। अश्विन माह की पापाकुंशा एकादशी का व्रत 27 अक्टूबर मंगलवार यानी आज है। हिंदू कैलेंडर के मुताबिक आश्विन महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि पर पापाकुंशा एकादशी पड़ रही है। 

एकादशी के व्रत में भक्त शुभ फल के लिए उपवास, पूजा-पाठ,कीर्तन और भगवान विष्‍णु का नाम जपते हैं। भगवान विष्‍णु के पद्मनाभ स्वरूप की पूजा एकादशी के व्रत पर की जाती है और साथ ही मनचाहा फल मिलता है। जो व्यक्ति पापांकुशा एकादशी का व्रत रखते हैं वह सभी पापों से मुक्त हो जाते हैं। व्यक्ति के मन और आत्मा दोनों ही यह व्रत रखने से शुद्ध हो जाते हैं। 

मान्यता के अनुसार,एक हजार अश्वमेघ और सौ सूर्ययज्ञ करने से जो व्यक्ति को फल प्राप्त होता है वह समान फल पापाकुंशा एकादशी का व्रत करने से मिलता है। पापाकुंशा एकादशी व्रत के अलावा ऐसा कोई दूसरा व्रत नहीं है जिसका समान फल मिलता है। 

पापाकुंशा एकादशी की रात में जो व्यक्ति जागरण करता है उसे स्वर्ग की प्राप्ति होती है। शुभ फल की प्राप्ति इस एकादशी के दिन दान करने से होती है। पद्म पुराण के मुताबिक, यमराज के दर्शन उस व्यक्ति को नहीं होते जो सुवर्ण,तिल,भूमि,गौ,अन्न,जल,जूते और छाते का दान करते हैं। 

प्रसन्न होंगे भगवान पद्मनाभ

भगवान विष्‍णु के दिव्य रूप की पापाकुंशा एकादशी के दिन पूजा करते हैं। इसके बाद व्रत का संकल्प एकादशी तिथि के दिन सुबह जल्दी स्नान आदि करके करना होता है। उसके बाद चन्दन,अक्षत,मोली,फल,फूल,मेवा आदि भगवान विष्‍णु जी को अर्पित करते हैं। फिर एकादशी की कथा सुनते हैं और ऊं नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का जाप जितना हो सकेे उतना करते हैं। उसके बाद धूव व दीप से विष्‍णु भगवान की आरती करते हैं। 

ये है पापाकुंशा एकादशी की व्रत कथा

प्राचीन वक्त में एक क्रूर बहेलियां विंध्य पर्वत पर रहता था। हिंसा, लूटपाट, मद्यपान और गलत संगति में उसने अपनी पूरी जिंदगी बिता दी। बहेलिए के अंतिम समय पर यमराज के दूत उसे लेने के लिए आए। तब बहेलिए से यमदूत ने कहा कि तुम्हारे जीवन का आखिरी दिन कल है हम तुम्हें कल लेने के लिए आएंगे। बहेलिया ने यमदूत की यह बात जैसे ही सुनी वह डर गया और महर्षि अंगिरा के आश्रम में पहुंच गया और फिर उसने प्रार्थना की महर्षि अंगिरा के चरणों पर गिरकर। 

उसके बाद बहेलिए से प्रसन्न होकर महर्षि अंगिरा ने कहा कि आश्विन शुक्ल एकादशी अगले दिन आ रही है इस दिन तुम विधि पूर्वक से व्रत रखना। महर्षि अंगिरा की बहेलिये ने बात मानकर पापाकुंशा एकादशी का व्रत विधि पूर्वक रखा और विष्‍णु लोक को वह भगवान की कृपा से व्रत पूजन के बल से गया। उसके बाद इस चमत्कार को जब यमराज के दूत ने देखा तो वह अपने साथ बहेलिया को बिना लिए ही यमलोक वापस चले गए।