BREAKING NEWS

सुरक्षा बल और वैज्ञानिक हर चुनौती से निपटने में सक्षम : राजनाथ ◾पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंड़ल से कोई बातचीत नहीं होगी : अकबरुद्दीन◾भारत, अमेरिका अधिक शांतिपूर्ण व स्थिर दुनिया के निर्माण में दे सकते हैं योगदान : PM मोदी◾कॉरपोरेट कर दर में कटौती : मोदी-भाजपा ने किया स्वागत, कांग्रेस ने समय पर सवाल उठाया ◾चांद को रात लेगी आगोश में, ‘विक्रम’ से संपर्क की संभावना लगभग खत्म ◾J&K : महबूबा मुफ्ती ने पांच अगस्त से हिरासत में लिए गए लोगों का ब्यौरा मांगा◾अनुभवहीनता और गलत नीतियों के कारण देश में आर्थिक मंदी - कमलनाथ◾वायुसेना प्रमुख ने अभिनंदन की शीघ्र रिहाई का श्रेय राष्ट्रीय नेतृत्व को दिया ◾न तो कोई भाषा थोपिए और न ही किसी भाषा का विरोध कीजिए : उपराष्ट्रपति का लोगों से अनुरोध◾अनुच्छेद 370 फैसला : केंद्र के कदम से श्रीनगर में आम आदमी दिल से खुश - केंद्रीय मंत्री◾TOP 20 NEWS 20 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾राहुल का प्रधानमंत्री पर तंज, कहा- ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम ‘आर्थिक बदहाली’ को नहीं छिपा सकता◾रेप के अलावा चिन्मयानंद ने कबूले सभी आरोप, कहा-किए पर हूं शर्मिंदा◾डराने की सियासत का जरिया है NRC, यूपी में कार्रवाई की गई तो सबसे पहले योगी को छोड़ना पड़ेगा प्रदेश : अखिलेश यादव◾नीतीश कुमार ने विधानसभा चुनाव में NDA की बड़ी जीत का किया दावा, कहा- गठबंधन में दरार पैदा करने वालों का होगा बुरा हाल◾कॉरपोरेट कर में कटौती ‘ऐतिहासिक कदम’, मेक इन इंडिया में आयेगा उछाल, बढ़ेगा निवेश : PM मोदी◾PM मोदी और मंगोलियाई राष्ट्रपति ने उलनबटोर स्थित भगवान बुद्ध की मूर्ति का किया अनावरण◾कांग्रेस नेता ने कारपोरेट कर में कटौती का किया स्वागत, निवेश की स्थिति बेहतर होने पर जताया संदेह◾वित्त मंत्री की घोषणा से झूमा शेयर बाजार, सेंसेक्स 1900 अंक उछला◾पीड़िता की आत्मदाह की धमकी और जनता के दबाव में हुई चिन्मयानंद की गिरफ्तारी : प्रियंका गांधी ◾

दिलचस्प खबरें

इन 8 फ़ोटोज़ के जरिए एक फ़ोटोग्राफ़र ने ग्लेशियर्स के पिघलने को बताया हानिकारक

हिमलाय में ग्लेशियर का पिघलना कोई नई बात नहीं है। ग्लेशियर सदियों से पिघलकर नदियों के रूप में लोगों को जीवन देते रहे हैं। लेकिन पिछले दो-तीन दशकों में ग्लोबल वॉर्मिग के कारण पर्यावरण को पहुंचने वाली मुसीबतों की वजह से इनके  पिघलने की गति में जो तेजी आई है। जो एक चिंता का विषय है। बता दें कि इसका दुष्टïपरिणाम केवल पर्यावरण पर ही नहीं बल्कि हम सभी पर भी पड़ रहा है। इसकी वजह से गर्मियों के दिनों में भयानक गर्मी की हो रही है वहीं सर्दियां भी अब ठंड का एहसास नहीं करा रही है। इससे पर्यावरण को काफी नुकसान पहुंच रहा है।  इस पूरी घटना को एक फोटाग्राफर जिनका नाम Dillon Marsh हैं। उन्होंने अपनी फोटोग्राफी में CGI Elements का इस्तेमाल करके हमें समझाने की कोशिश भी की है। 

 1.Naradu Glacier पर हर मिनट गिरती बर्फ़ की औसत मात्रा 7.06 क्यूबिक मीटर है। 


2. हिमाचल प्रदेश पर बर्फ़ की प्रति मिनट औसत मात्रा 18.64 क्यूबिक मीटर है। 




3.हर एक घंटे में नर ग्लेशियर कश्मीर पर 92.58 घन मीटर की औसत मात्रा से बर्फ गिर रही है।

4.चंगमेखंगपु सिक्किम पर हर मिनट तकरीबन 3.09 क्यूबिक मीटर बर्फ पिघल रही है।

5.ग्लेशियर उत्तराखंड पर हर आधे धंटे में 62.15 घन मीटर बर्फ  पिघल रही है।

6.उत्तराखंड डोकरेनी ग्लेशियर में हर मिनट 6.78 घन मीटर बर्फ पिघल जाती है।

7.उत्तराखंड के दुनागिरी ग्लेशियर में हर मिनट में पिघलने वाली बर्फ की औसत मात्रा 2.55 घन मीटर है। 

8.हिमाचल प्रदेश के गारा ग्लेशियर में हर घंटे 176.6 घन मीटर बर्फ पिघल जाती है। 

Dillon ने बताया मैंने एक वैज्ञानिक रिपोर्ट के मुताबिक डेटा इकट्ठा करके सीजीआई का इस्तेमाल करते हुए बर्फ के मॉडल बनाए और उन्हें विशिष्ट मानव वातावरण में रखा। ऐसे में हमारा उद्देश्य उन नाटकीय जलवायु परिवर्तनों की ओर ध्यान आकर्षित करना है। जो हमारे रोजमर्रा की जिंदगी से जुड़े हुए हैं लेकिन इस सब पर हमारा ध्यान कभी नहीं जाता है। ये 'Counting the Costs' नामक एक परियोजना है। 

जो एक वैश्विक परियोजना है। इसका मतलब है कि  हम इन गेंदों को पूरी दुनिया में देखने जा रहे हैं। लेकिन भारत को उन्होंने सबसे पहले इसलिए चुना है क्योंकि  ये देश दुनिया के कुछ सबसे ऊंचे पहाड़ों का घर है।