तंत्र मन्त्र के साथ साथ धार्मिक शास्त्रों में भी यंत्रों को बेहद महत्वपूर्ण माना गया है। इनका उपयोग कई तरह की सिद्धियों के लिए किया जाता है और बहुत से इसे घर और व्यापार की सुख समृद्धि के लिए भी उपयोग में लाते है पर इन शक्तिशाली यंत्रों को रखने के लिए आपको जानकारी होना भी जरूरी है की कौनसा यंत्र किस कार्य में सफलता दिलाता है। आज हम आपको 7 ऐसे ही ताकतवर यंत्रों के बारे में बता रहे है जो आपको हर समस्या से दूर कर सफलता तक पहुंचा सकते है। तो आईये जानते है इन यंत्रों के बारे में उनके प्रभाव भी।

1.बगलामुखी यंत्र –

7 शक्तिशाली यंत्रों के पूजन

ये यंत्र शत्रुओं पर विजय दिलाने के लिए अत्यन्त उपयोगी है। इस यंत्र को शुभ मुहूर्त में सामने रखकर बगलामुख मंत्र का जाप करना चाहिए। इस यंत्र का जाप करने से शत्रुओं का किया गया तंत्र-मंत्र आदि टोटके नष्ट हो जाते हैं और साधक की मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

2.दुर्गा बीसा यंत्र –

7 शक्तिशाली यंत्रों के पूजन

दुर्गा बीसा यंत्र को परेशानियों से बचने के लिए एवं चोर भय, अग्नि भय, झगड़ा, लड़ाई इत्यादि से बचने के लिए पर्स में या जेब में रखते हैं। दुर्गा बीसा यंत्र शक्ति का प्रतीक माना जाता है।

3.चंद्र यंत्र –

7 शक्तिशाली यंत्रों के पूजन

जिस व्यक्ति की कुंडली में चंद्रमा अशुभ है तो उसे चंद्र यंत्र की पूजा करनी चाहिए। चंद्र यंत्र की चल या अचल प्रतिष्ठा करके पूजन करने से शीघ्र ही अनुकूल फल प्राप्त होने लगता है।

4.संतान गोपाल यंत्र –

7 शक्तिशाली यंत्रों के पूजन

इस यंत्र की साधना अत्यन्त प्रसिद्ध है जिन्हें संतान नहीं होती, वे लड्‌डू गोपाल की मूर्ति के साथ संतान गोपाल यंत्र स्थापित करते हैं तथा उनके सामने संतान गोपाल स्तोत्र का पाठ करते हैं। इससे योग्य संतान की प्राप्ति होती है।

5.महाकाली यंत्र –

7 शक्तिशाली यंत्रों के पूजन

यंत्र शास्त्र के अंतर्गत कई अद्भुत व शक्तिशाली यंत्रों की पूजा का विधान है। ऐसा ही एक महाशक्तिशाली यंत्र है महाकाली यंत्र।

6.व्यापार वृद्धि यंत्र –

यंत्र

इस यंत्र से बिजनेस में सफलता मिलती है। यह यंत्र दुकान में चोरी, अग्निकांड आदि भय को भी समाप्त करता है।

7.सूर्य यंत्र –

यंत्र

किसी व्यक्ति की कुंडली में सूर्य अशुभ हो तो उसे हर काम में असफलता ही हाथ लगती है, न ही उसे अपने कामों का यश मिलता है और न ही सम्मान। यंत्र शास्त्र के अनुसार, ऐसी स्थिति में यदि सूर्य यंत्र का विधि-विधान पूर्वक पूजन किया जाए तो शीघ्र ही शुभ फल मिलने लगते हैं।

ज्योतिष शास्त्र – महिलाओं को रात के वक्त भूलकर भी नहीं करने चाहिए ये पांच काम