BREAKING NEWS

दिल्ली में कोरोना के 2,373 नए मरीज आये सामने , कुल मामले बढ़कर 92,000 के पार ◾अप्रैल 2023 से शुरू होगा निजी ट्रेनों का परिचालन, जानिये सफर में क्या होंगे खास और आधुनिक बदलाव◾कांग्रेस को चुनौती देते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया का पलटवार, कहा - टाइगर अभी जिंदा है ◾म्यांमार में बड़ा हादसा, हरे पत्थर की खदान में भूस्खलन से करीब 123 लोगों की मौत ◾चीन के साथ तनाव के बीच, लद्दाख में भारत ने स्पेशल फोर्स के जवानों को तैनात किया◾बिहार में आकाशीय बिजली ने आज फिर बरपाया कहर, चपेट में आने से 20 लोगों की हुई मौत◾चीन के साथ तनाव के बीच मोदी सरकार ने Mig-29 और सुखोई विमानों की खरीद को दी मंजूरी◾रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का लद्दाख दौरा हुआ स्थगित, सैन्य तैयारियों का लेना था जायजा◾राहुल ने केंद्र पर रेलवे का निजीकरण करने का लगाया आरोप, बोले- रेल को भी गरीबों से छीन रही है सरकार◾रविशंकर प्रसाद बोले-अगर कोई बुरी नजर डालता है तो भारत मुंहतोड़ जवाब देगा◾दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए शाह ने आज योगी,केजरीवाल और खट्टर की बुलाई बैठक ◾ जम्मू-कश्मीर के पुंछ में पाकिस्तानी सेना ने एक बार फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन ◾देश के पहले 'प्लाज्मा बैंक' का CM केजरीवाल ने किया उद्घाटन, जाने कैसे डोनेट कर सकते हैं प्लाज्मा◾मध्यप्रदेश : शिवराज चौहान के मंत्रिमंडल का हुआ विस्तार, 20 कैबिनेट और 8 राज्यमंत्री ने ली शपथ ◾देश में कोरोना का आंकड़ा 6 लाख के पार, पिछले 20 दिनों के अंदर 3 लाख से अधिक केस आए सामने ◾दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1 करोड़ 6 लाख के पार, अब तक 5 लाख से अधिक लोगों ने गंवाई जान ◾असम में बाढ़ से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 33 हुई, 15 लाख लोग हुए प्रभावित◾प्रियंका गांधी का मकान खाली कराने का कदम PM मोदी और CM योगी की बेचैनी दिखाता है : कांग्रेस◾रेलवे ने दी निजी यात्री ट्रेने शुरू करने को हरी झंडी, 30,000 करोड़ रुपये का होगा निवेश◾भारत के साथ सैन्य कमांडरों की बातचीत में प्रगति का चीन ने किया स्वागत, कहा - तनाव जल्द कम होगा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

क्यों नहीं कर सकते एक ही गोत्र के लड़का-लड़की शादी, जानिए इसके पीछे की वजह

शादी को बेहद ही पवित्र हिंदू धर्म में माना गया है। यही वजह है कि हिंदू धर्म में कुंडली मिलाना विवाह से पहले जरूरी होता है। कुंडली मिलाने के दौरान ग्रहों के साथ-साथ लड़के और लड़की के गोत्र का भी खास महत्व होता है। एक ही गोत्र में शादी करना ब्राहम्‍ण और दूसरे हिंदू समुदायों में अनुचित माना गया है। ज्योतषियों के अनुसार अपशगुन होता है एक ही गोत्र में शादी करना। चलिए कई कारण हैं एक ही गोत्र में ना शादी करेंगे जिसे हम जानते हैं। 

1. गोत्र का महत्व हिंदुओं में बहुत माना जाता है। वेदों के मुताबिक विश्वामित्र, जगदग्रिन, भारद्वाज,गौतम, अत्रि, वशिष्ठ, कश्यप और अगस्‍त्य इन सभी महान ऋषियों के मनुष्य वशंज हैं। 

2.मान्यताओं के अनुसार, हर ऋषि की एक प्रतिष्ठा है। अगर एक ही गोत्र में कोई भी शादी करता है तो ऐसे में वह एक ही परिवार के हो जाते हैं। 

3. शास्‍त्रों में ऐसा कहा गया है कि हिंदू धर्म में एक ही वंश के लोगों की शादी को पाप माना गया है। ऋषियों के मुताबिक ऐसा करके वह गोत्र की परंपरा को तोड़ रहे हैं। 

4. धार्मिक मान्यताओं में ऐसा माना गया है कि एक ही गोत्र में शादी से विवाह दोष व्यक्ति पर लग जाता है। एक ही गोत्र में शादी करने से पति-पत्नी के रिश्ते के टूटने का खतरा बढ़ जाता है। 

5. इस मामले पर कई विद्वानों ने कहा है कि जिन लोगों की शादी एक ही गोत्र में होती है उनकी संतान को बहुत सारे कष्ट उठाने पड़ते हैं। कई तरह के अवगुण और रोग उत्पन्न होने का खतरा भी इन बच्चों में बन जाता है। 

6. रक्त संबंधों से गोत्र परंपरा का नाता होता है। एक ही गोत्र में शादी करने से शारीरिक दोष के साथ-साथ चरित्र और मानसिक दोष भी इन संतानों में होने का खतरा होता है। 

7. कई तरह के कुल एक ही गोत्र में पाए जाते हैं। इसी वजह से हर समुदाए की  अपनी परंपराएं होती हैं। जैसे एक वंश में जहां 4 गोत्र टालते हैं तो वहीं दूसरे वंश में 3 गोत्र ही टालने का नियम होता है। किसी भी तरह का दोष ऐसे में विवाह में नहीं आता है। 

8. परंपराओं की मानें तो स्वयं का पहला गोत्र होता है। दूसरा गोत्र मां का होता है तो तीसरा गोत्र दादी का होता है। बता दें कि नानी के गोत्र का भी कई लोग पालन करते हैं। 

9. वैदिक संस्कृति में एक ही गोत्र में शादी करने को वर्जित माना गया है। ऐसा इसलिए कहा गया है क्योंकि एक ही गोऋ के लड़का-लड़की भाई और बहन बन जाते हैं। 

10. मान्यताओं की मानें तो एक ही गोत्र में शादी करने वालों के बच्चों की सोच में किसी तरह का नयापन नहीं होता है। उनकी विचाराधारा में पूर्वजों की झलक दिखाई देती है।