मुरैना : सेमई कडावना सड़क मार्ग में गड्डे ही गड्डे नजर आ रहे है। पूरा सबलगढ़ मार्ग अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है, जिसके चलते यात्री एवं वाहन चालक खासे परेशान है एवं आये दिन दुर्घटना ग्रस्त हो रहे है, लेकिन प्रशासन का इस ओर कोई ध्यान नहीं है। जानकारी के अनुसार सेमई कडावना मार्ग पर तरह से क्षतिग्रस्त हो गया है इस मार्ग से एक सैकडा से अधिक गांवों, मजरों के लोग यात्रा करते है तथा प्रतिदिन 500 से अधिक छोटे-बडे वाहन गुजरते है।

इस मार्ग पर सेमई गांव में उचित जल निकाय न होने एवं मार्ग पर भारी वाहनों के निरंतर गुजरने से कई स्थानों पर बडे-बड़े गड्डे हो गए है। जिसमें जल भराव के चलते वाहन निकालना वाहन चालकों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है। वाहन चालकों को गड्डे की गहराई का आंकलन न होने के चलते प्रतिदिन वाहन चालक दुर्घटना ग्रस्त हो रहे है। सेमई गांव के बाद एचोली, सिमरोदा, लाडपुरा, झुण्डपुरा, सिगपुरा आदि गांवों में भी सडक क्षतिग्रस्त हो चुकी हे।

लाडपुरा से झुण्डपुरा एवं झुण्डपुरा से कडावना के बीच सडक कई स्थानों पर क्षतिग्रस्त हो चुकी है।गांव के बीच-बीच में बनाई गई सीसी सडक पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो चुकी है लेकिन प्रधानमंत्री सडक योजना के अधिकारियों का इस ओर ध्यान ही नहीं है। जिसके चलते यात्री एवं मार्ग पर चलने वाले वाहन चालक परेशान है।

अनुराग ने बताया कि सड़क पर जगह-जगह गड्डे हो गए है यह गड्डे सेमई गांव में अधिक है क्यों कि यहां पर उचित जल निकास की व्यवस्था नहीं है। वहीं कैनाल रोड के निर्माण के चलते भारी वाहनों के निकलने से सडक बदहाल हो रही है।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।