सिर्फ भारत में ही नहीं दुनिया भर में रेल यातायात देश की लाइफलाइन माना जाता है। भारत में रोजाना लाखों मुसाफिर रेल में सफर करते है। रेलवे का सफर जितना मजेदार होता है उतने ही रोचक रेलवे के तथ्य है। कई ऐसी चीजें आपने रेल में सफर करते वक्त देखी होंगी जिनका सही अर्थ शायद आपको ना मालूम हो और इन्ही में से एक है रेलवे स्टेशन का सूचना बोर्ड।

रेलवे

रेलवे स्टेशन पर आपने सूचना बोर्ड देखा होगा पीले रंग का जिससे हमे पता लगता है की रेल की स्थान पर पहुंची है पर इसके साथ साथ इसपर कई चीजें और भी लिखी होती है जिनपर आपका ध्यान नहीं गया होगा। इस बोर्ड पर स्टेशन के नाम के साथ ही समुद्र तल से ऊंचाई भी लिखी होती है।

रेलवे

पर क्या कभी आपने गौर किया है की रेलवे स्टेशन के नाम के साथ ही उसकी ऊंचाई क्यों लिखी जाती है।गौरतलब है की पृथ्वी गोल है और दुनिया की एक सामान ऊंचाई नापने के लिए वैज्ञानिकों को ऐसे पॉइंट की जरुरत होती है जो एक समान रहे।इसके लिए समुद्र को सबसे अच्छा विकल्प माना गया है।

रेलवे

इसके पीछे का कारण यह है की समुद्र का पानी एक समान रहता है। इसका इस्तेमाल सिविल इंजीनियरिंग में भी किया जाता है।रेलवे स्टेशन के साइन बोर्ड पर समुद्र तल से ऊंचाई को दर्शाने के पीछे का कारण भी ऐसा ही है।

रेलवे

दरअसल यह ऊंचाई रेल के ड्राईवर और गार्ड के लिए लिखी होती है।इसका कारण ये है कि मान लीजिये ट्रेन 100 मीटर समुद्र तल की ऊंचाई से ट्रेन 150 मीटर समुद्र तल की ऊंचाई पर जा रही है।

रेलवे

इस साइन बोर्ड को देखकर ड्राईवर को अंदाजा हो जाता है कि उसको किस हिसाब से ट्रेन के इंजन की स्पीड बढ़ानी है।साथ ही इस साइन बोर्ड की मदद से ट्रेन के ऊपर लगे बिजली के तारों को एक समान ऊंचाई देने में भी सहायता मिलती है।

रेलवे

इससे बिजली के तार ट्रेन के तारों से हर समय टच में रहें। रेलवे स्टेशन के साइन बोर्ड पर समुद्र तल से ऊंचाई इस खबर को आप शेयर करते हुए अन्य लोगों को भी यह रोचक जानकारी दे सकते हैं।

क्या आप जानते है रेल का इंजन क्या एवरेज देता है , जवाब जानकार रह जायेंगे हैरान !