दुनिया भर में सांपों की करीब 3000 प्रजाति पायी जाती है और इनमे से कुछ जहरीले होते है तो कुछ में जहर नहीं होता पर ये सरीसृप जहाँ दिख जाएँ सभी के होश उड़ जाते है। कुछ सांपों में जहर इतना तीव्र होता है की अगर ये काट लें तो कुछ सेकंड में ही इंसान की मौत हो जाती है पर आप शायद नहीं जानते होंगे की इनका जहर इंसानी जिंदगी बचाने के लिए भी प्रयोग हो रहा है।

सांपों के जहर से बनती है दवाई

अक्सर सांप का नाम सुनते ही शरीर में करंट सा दौड़ पड़ता है। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में मेडिसिन एक्सपर्ट डेविड वॉरेल ने 2015 में लिखा था कि दुनिया भर में हर साल दो लाख से ज्यादा लोग सांप के काटने से मर जाते हैं। इस जहर की काट खोजने का काम जारी है। ये लंबी प्रक्रिया है।

सांपों के जहर से बनती है दवाई

मजे की बात ये है कि जहर की काट तलाशने में जुटे वैज्ञानिकों को इस जहर में ही कई बीमारियों का तोड़ मिलता दिखने लगा। बल्कि, दुनिया में जहर से तैयार कई दवाएं तो पहले से ही बिक रही हैं। दुनिया में कम से कम चार ऐसे जीव हैं, जिनका जहर इंसान के काम आ रहा है।

सांपों के जहर से बनती है दवाई

सांप के जहर से ऐसी दवाएं बनाई जाती हैं, जो दिल की बीमारियों से लड़ने में काम आती हैं। टकास कहते हैं कि, ‘सांप के जहर का दवाएं बनाने में इस्तेमाल, दूसरे क़ुदरती जहर के इस्तेमाल का रास्ता दिखाता है।

सांपों के जहर से बनती है दवाई

खास तौर से हाई ब्लड प्रेशर से लड़ने में सांप के जहर से बनी दवाएं काफी इस्तेमाल हो रही हैं।दिल के दौरे और हार्ट फेल होने की स्थिति में भी सांप के जहर से बनी दवाएं बहुत कारगर हैं।’

सांपों के जहर से बनती है दवाई

टकास बताते हैं कि, ‘जराराका पिट वाइपर सांप के जहर से बनी दवाओं ने जितने इंसानों की जानें बचाई हैं, उतनी किसी और जानवर ने नहीं।’

सांपों के जहर से बनती है दवाई

आपको बता दें की सांप के जहर पर अभी काफी रिसर्च होना बाकी है और निरंतर प्रयासों के बाद ये उम्मीद की जा सकती है की इस जहर से और भी कारगर और उपयोगी परिणाम निकल कर सामने आएंगे।

अगर कान पर नजर आए बाल तो हो जाईये सावधान , गंभीर बीमारी की दस्तक है ये !