भारत की मौजूदा मोदी सरकार के ऊपर पूरे कार्यकाल में विपक्ष ने न जाने कितने बार सवाल उठाये। भ्रष्ठाचार से लेकर मुस्लिम विरोधी होने तक के आरोप लगे पर कांग्रेस और विपक्ष कभी भी प्रधानमंत्री मोदी को सीधे तौर पर टारगेट नहीं कर पाए। लेकिन हाल ही में कांग्रेस को ऐसा मुद्दा मिला जिसको लेकर उन्होंने सीधे सीधे प्रधानमंत्री मोदी पर ऊँगली उठा दी और कहा की घोटाले की बू आ रही है।

Raphael aircraft

ये मामला है राफेल लड़ाकू विमानों की खरीद डील का। इस डील में जिसने देश की राजनीति को गर्म किया हुआ है। आज हम आपको बता रहे है इस राफेल लड़ाकू विमान की खासियतें जिससे आपको इसकी उपयोगिता का अंदाजा हो जायेगा। राफेल विमान फ्रांस की दासौल्ट कंपनी द्वारा बनाया गया 2 इंजन वाला लड़ाकू विमान है।

Raphael aircraft

1970 में फ्रांसीसी सेना ने अपने पुराने पड़ चुके लड़ाकू विमानों को बदलने की मांग की। जिसके बाद फ्रांस ने 4 यूरोपीय देशों के साथ मिलकर एक बहुउद्देशीय लड़ाकू विमान की परियोजना पर काम शुरू किया। बाद में साथी देशों से मतभेद होने के बाद फ्रांस ने इस पर अकेले ही काम शुरू कर दिया।

Raphael aircraft

राफेल लड़ाकू विमानों को फ्रांस की डसाल्ट एविएशन कंपनी बनाती है। यह एक बहुउपयोगी लड़ाकू विमान है। एक विमान की लागत 70 मिलियन आती है। इसकी लंबाई 15.27 मीटर है और इसमें एक या दो पायलट बैठ सकते हैं। जानकार बताते हैं कि राफेल ऊंचे इलाकों में लड़ने में माहिर है।

Raphael aircraft

राफेल एक मिनट में 60 हजार फुट की ऊंचाई तक जा सकता है। हालांकि अधिकतम भार उठाकर इसके उड़ने की क्षमता 24500 किलोग्राम है। विमान में ईंधन क्षमता 4700 किलोग्राम है। राफेल की अधिकतम रफ्तार 2200 से 2500 तक किमी प्रतिघंटा है और इसकी रेंज 3700 किलोमीटर है।

Raphael aircraft

इसमें 1.30 mm की एक गन लगी होती है जो एक बार में 125 राउंड गोलियां निकाल सकती है। इसके अलावा इसमें घातक एमबीडीए एमआइसीए, एमबीडीए मेटेओर, एमबीडीए अपाचे, स्टोर्म शैडो एससीएएलपी मिसाइलें लगी रहती हैं। इसमें थाले आरबीई-2 रडार और थाले स्पेक्ट्रा वारफेयर सिस्टम लगा होता है।

Raphael aircraft

साथ ही इसमें ऑप्ट्रॉनिक सेक्योर फ्रंटल इंफ्रा-रेड सर्च और ट्रैक सिस्टम भी लगा है। अमेरिका, जर्मनी और रूस चाहते हैं कि भारत उनसे लड़ाकू विमान खरीदे। अमेरिका भारत को एफ-16 और एफ-18, रूस मिग-35, जर्मनी और ब्रिटेन यूरोफाइटर टायफून और स्वीडन ग्रिपन विमान बेचना चाह रहे थे, लेकिन मोदी सरकार ने राफेल को खरीदने का फैसला किया है।

वीडियो : विमान में शराब न मिलने पर विदेशी महिला ने खूब दी गालियां पर …..