अहमदाबाद : गुजरात के तीन युवा उद्यमियों जिनमें से दो तो अभी केवल 19 साल के ही हैं के ऐप आधारित स्टार्टअप फ्रीकॉपी ने आज यहां एक ऐसा स्टोर शुरू किया जहां कोई भी इसके ऐप के जरिये प्रतिदिन किसी भी दस्तावेज की एक सौ फोटो कॉपी मुफ्त में करा सकता है।राजकोट निवासी राहिस कलारिया (19) और उसके पूर्व क्लास साथी तन्मय वाछाणी (19) तथा स्कूल में एक वर्ग सीनीयर रहे कुणाल शेठ (21) के इस स्टार्टअप को सरकार से 20 लाख का अनुदान भी मिल चुका है।

इसने अहमदाबाद और मुंबई के क्रमश: 70 और 90 से अधिक फोटो कापी स्टोर से इसी ऐप के जरिये सेवा का गठजोड कर रखा है जिससे कोई भी अपने घर के निकट और सस्ती सेवा का चयन कर सकता है। राहिस ने बताया कि फ्रीकॉपी जीरो के नाम से शुरू किये गये पहले मुफ्त स्टोर में विज्ञापन से होने वाली आय का इस्तेमाल निशुल्क सेवा के लिए किया जायेगा। प्रत्येक पांचवी निशुल्क कॉपी पर इस तरह से एक विज्ञापन अंकित होगा जो इसके कंटेट को प्रभावित न करे।

मुफ्त कापियां श्वेत श्याम होंगी जबकि प्रचार रंगीन। इस तरह के और स्टोर अहमदाबाद में तथा देश के 10 बडे शहरों में आने वाले समय में शुरू किये जायेंगे। उसने बताया कि स्कूल में एक प्रोजेक्ट के दौरान यह आयडिया उन्हें आया था और राजकोट में मफतकापी नाम से एक माह का प्रयोग भी चार साल पहले किया गया था। तन्मय और कुणाल ने बताया कि जो विज्ञापन दस्तावेजों के पीछे अथवा अन्य स्थान पर छपेंगे वे इस तरह से चुने जायेंगे कि लोगों की रूचि के अनुरूप उन तक पहुंचे। इससे विज्ञापनदाताओं को एक अनूठा तरीका ग्राहकों तक सीधे पहुंचने का मिलेगा। अब तक नौ बडी कंपनियां उनसे गठजोड कर चुकी है।