रुड़की : आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के लिए फंड जुटाने वाले आतंकी अब्दुल समद को लेकर एनआईए की टीम रविवार को उसके गांव बुक्कनपुर पहुंची और उसके परिजनों को आमने-सामने बिठाकर पूछताछ की। एनआईए टीम ने उसके घर से बरामद कुछ चीजों को भी अपने कब्जे में लिया है। जल्दी ही टीम आतंकी समद के कुछ करीबियों से भी पूछताछ कर सकती है। एनआईए टीम कई घंटे तक गांव में मौजूद रहकर जानकारियां जुटाती रही। पूछताछ और जांच-पड़ताल के बाद एनआईए टीम आतंकी समद को लेकर दिल्ली रवाना हो गई। गौरतलब है कि दो सप्ताह पूर्व एनआईए ने लंढौरा क्षेत्र के गांव बुक्कनपुर निवासी अब्दुल समद पुत्र रशीद को गिरफ्तार किया था।

समद हवाला कारोबार का एक प्रमुख संचालक था, जो मुजफ्फरनगर, देवबंद और रुड़की इलाके में अपनी गतिविधियां चलाता था। समद पश्चिमी उत्तर प्रदेश में लश्कर-ए-तैयबा के लिए फंडिंग कर रहा था। समद ने हवाला के जरिये साढ़े तीन लाख रुपये की रकम आतंकी संगठन को भेजी थी। इसके बाद ही एनआईए टीम का ध्यान अब्दुल समद की गतिविधियों पर गया। उसकी गतिविधियां संदिग्ध लगने पर टीम ने मंगलौर में दबिश देकर समद को दबोच लिया था। फिलहाल अब्दुल समद को एनआईए टीम ने छह दिन के रिमांड पर ले रखा है। रविवार दोपहर में एनआईए टीम आतंकी अब्दुल समद व उसके परिजनों से पूछताछ करने के लिए बुक्कनपुर गांव पहुंची।

टीम ने समद व उसके परिजनों से पूछताछ की। एनआईए की नजर आतंकी समद के कुछ करीबियों पर टिकी है। जल्द ही टीम इनसे भी पूछताछ कर सकती है। सूत्रों के मुताबिक, पूछताछ के दौरान टीम को आतंकी फंडिंग से जुड़े कई अहम सुराग हाथ लगे हैं। समद के घर से एनआईए टीम ने कुछ संदिग्ध वस्तुओं को भी बरामद किया है। पूछताछ के बाद टीम आतंकी समद को लेकर वापस दिल्ली रवाना हो गई। एसपी देहात मणिकांत मिश्रा ने बताया कि एनआईए टीम लंढौरा पहुंची थी, लेकिन टीम ने क्या पूछताछ की, इसके बारे में स्थानीय पुलिस को कोई जानकारी नहीं है। एनआईए ही इस पूरे मामले को देख रही है।

देश की हर छोटी-बड़ी खबर जानने के लिए पढ़े पंजाब केसरी अखबार।