BREAKING NEWS

1 दिसंबर को सिंघु बॉर्डर पर किसान संगठनों की बैठक, क्या आंदोलन खत्म करने पर होगी चर्चा ?◾कोविड अनुकंपा राशि के कम दावों पर SC ने जताई चिंता, कहा- मुआवजे के लिए प्रक्रिया को सरल बनाया जाए◾जिनके घर शीशे के होते हैं, वो दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते.....सिद्धू का केजरीवाल पर तंज ◾उमर अब्दुल्ला ने कांग्रेस की चुप्पी पर उठाए सवाल, बोले- अनुच्छेद 370 की बहाली के लिए NC अपने दम पर लड़ेगी◾चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा- भविष्य में युद्ध जीतने के लिए नई प्रतिभाओं की भर्ती की जरूरत◾शशि थरूर की महिला सांसदों सग सेल्फी हुई वायरल, कैप्शन लिखा- कौन कहता है लोकसभा आकर्षक जगह नहीं?◾ओवैसी बोले- CAA को भी रद्द करे मोदी सरकार..पलटवार करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा- इनको कोई गंभीरता से नहीं लेता◾ 'ओमीक्रोन' के बढ़ते खतरे के चलते जापान ने विदेशी यात्रियों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की◾IND VS NZ के बीच पहला टेस्ट मैच हुआ ड्रा, आखिरी विकेट नहीं ले पाई टीम इंडिया ◾विपक्ष को दिया बड़ा झटका, एक साथ किया इतने सारे सांसदों को राज्यसभा से निलंबित◾तीन कृषि कानून: सदन में बिल पास कराने से लेकर वापसी तक, जानिये कैसा रहा सरकार और किसानों का गतिरोध◾कृषि कानूनों की वापसी पर राहुल का केंद्र पर हमला, बोले- चर्चा से डरती है सरकार, जानती है कि उनसे गलती हुई ◾नरेंद्र तोमर ने कांग्रेस पर लगाया दोहरा रुख अपनाने का आरोप, कहा- किसानों की भलाई के लिए थे कृषि कानून ◾ तेलंगाना में कोविड़-19 ने फिर दी दस्तक, एक स्कूल में 42 छात्राएं और एक शिक्षक पाए गए कोरोना संक्रमित ◾शीतकालीन सत्र में सरकार के पास बिटक्वाइन को करेंसी के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव नहीं: निर्मला सीतारमण◾विपक्ष के हंगामे के बीच केंद्र सरकार ने राज्यसभा से भी पारित करवाया कृषि विधि निरसन विधेयक ◾कृषि कानूनों की वापसी का बिल लोकसभा में हुआ पारित, टिकैत बोले- यह तो होना ही था... आंदोलन रहेगा जारी ◾बिना चर्चा कृषि कानून बिल वापसी को विपक्ष ने बताया लोकतंत्र के लिए काला दिन, मिला ये जवाब ◾प्रदूषण के मद्दे पर SC ने अपनाया सख्त रुख, कहा- राज्य दिशानिर्देश नहीं मानेंगे, तो हम करेंगे टास्क फोर्स का गठन ◾कांग्रेस का केंद्र पर निशाना -बिल वापसी नहीं हुई चर्चा क्योंकि सरकार को हिसाब और जवाब देना पड़ता◾

देश का दलित समुदाय आंदोलित-ईअजय

पटना : हम पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सह प्रवक्ता ई अजय यादव ने कहा कि  उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा संविधान निर्माता डॉ0 भीमराव अम्बेदकर के नाम के बीच में यह कहकर रामजी जोडऩे का कुकृत्य किया गया है कि उनके पिता का नाम रामजी था। राज्य सरकार के इस कार्रवाई का हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा विरोध करता है।

ई यादव ने  कहा कि सरकार को भी यह अधिकार नहीं है कि बिना किसी व्यक्ति या उनके स्वजन की इच्छा के विपरित उसका नामाकरण किया जाए और सरकार द्वारा इतना बड़ा फैसला लेने के पहले ना ही उनके परिवार से पूछा गया ना ही कोई दलीत संगठन से पूछा गया सीधे फैसला सुना दिया गया जिससे सरकार की मंशा स्पष्ट होती है कि भाजपा बाबा साहेब के नाम का भगवाकरण वैसे ही करना चाहती है जैसे पूरे प्रदेश के सरकारी इमारतों,बसों,विधान सभा भवन का कर उनके द्वारा लिखित संविधान पर भी हमला बोलने की तैयारी में है।

दलित उत्पीड़न के एक्ट में सुप्रीम कोर्ट में सही से अपना पक्ष नही रखने के कारण देश का पूरा दलित समुदाय एनडीए सरकार के खिलाफ स्वतः स्फूर्त आंदोलित है। 02अप्रैल को दलित संघठनों द्वारा भारत बंद का हिदुस्तानी आवाम मोर्चा खुल कर समर्थन करेगी।चारा दिन मेले में केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान एवं उनके परिजनों को काले झंडे दिखाना,उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी जी को दलित युवा नेताओं द्वारा भाषण देने से रोकना भी आंदोलन का हिस्सा है।

24X7  नई खबरों से अवगत रहने के लिए यहाँ क्लिक करें।