नयी दिल्ली : भाजपा के महासचिव राम माधव ने कर्नाटक में कांग्रेस-जद (एस) गठबंधन पर तंज कसते हुए कहा है कि इन पार्टियों के ‘कर्म’ ही उनका पीछा नहीं छोड़ रहे है। उन्होंने 1996 में गुजरात में भाजपा सरकार को बर्खास्त कर दिये जाने का जिक्र किया। माधव ने व्हाट्सएप पर मिले एक संदेश को शेयर करते हुए कहा कि एच डी देवेगौड़ा अब जद (एस) अध्यक्ष है और उस समय वह प्रधानमंत्री थे। उस समय गुजरात के राज्यपाल कृष्णपाल सिंह थे जो पूर्व कांग्रेस नेता थे जबकि भाजपा की राज्य इकाई के प्रमुख वजूभाई वाला थे जो अब कर्नाटक के राज्यपाल है। कांग्रेस के समर्थन वाली देवेगौड़ा सरकार की सिफारिशों पर राज्य में तत्कालीन राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा ने राष्ट्रपति शासन लगा दिया था।

सुरेश मेहता राज्य के मुख्यमंत्री थे और विधानसभा में उनकी सरकार ने बहुमत साबित किया था लेकिन राज्य में कथित संवैधानिक संकट के लिए उनकी सरकार को बर्खास्त कर दिया गया। सोशल मीडिया पर माधव द्वारा साझा की गई पोस्ट में कहा गया है,‘‘22 वर्षों बाद कर्नाटक में कर्म कांग्रेस का पीछा नहीं छोड़ रहे है।’’ कर्नाटक विधानसभा चुनाव के कल घोषित परिणामों में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला था जिसके बाद भाजपा और कांग्रेस-जद (एस) गठबंधन दोनों ने राज्य में सरकार बनाने का दावा पेश किया था।

हमारी मुख्य खबरों के लिए यहां क्लिक करे।